न्यूयॉर्कः 'मेरे सामने ही ट्रक ने दो लोगों को रौंदा'

  • 1 नवंबर 2017
इमेज कॉपीरइट Reuters

अमरीका में जब एक ट्रक ने साइकिल लेन में घुसकर लोगों को कुचलते हुए एक स्कूल बस को टक्कर मारी तो उस समय बाबटुंडे ओगुनीयी वहीं मौजूद थे. अपने सामने हुई इस घटना से वो दहशत में आ गए थे.

मंगलवार को दोपहरबाद न्यूयॉर्क के मैनहट्टन में हुई घटना में आठ लोग मारे गए जबकि 11 लोग गंभीर रूप से घायल हो गए.

एक 29 साल के व्यक्ति को पुलिस ने गोली मार दी और बाद में गिरफ़्तार कर लिया. बाद में सुरक्षा अधिकारियों ने बताया कि ये एक 'आतंकी हमला' था.

23 साल के ओगुनीयी कम्प्यूटर साइंस के छात्र हैं और इसी इलाक़े में रहते हैं. जब ट्रक ने लोगों को रौंदा तो वो मौके पर ही मौजूद थे.

उन्होंने मौके पर जो कुछ देखा था, उसे बीबीसी से साझा किया.

आंखों देखी

इमेज कॉपीरइट BABATUNDE OGUNNIYI
Image caption बाबटुंडे ओगुनीयी

मैं अपने कॉलेज के बाहर बैठा हुआ था, तभी मैंने देखा कि एक ट्रक टेढ़े मेढ़े तरीक़े से आ रहा है. उसकी रफ़्तार 100 किलोमीटर प्रति घंटे से अधिक थी. जबकि इस इलाक़े में अधिकतम रफ़्तार 40 किलोमीटर प्रति घंटे रखी गई है.

ये बहुत भीड़भाड़ वाला इलाक़ा है.

ट्रक ने दो लोगों को रौंद दिया, ये मेरी आंखों के सामने हुआ. लेकिन इसके बाद भी चालक गाड़ी को चलाता रहा और साइकिल लेन में घुस गया.

इसके बाद उसकी टक्कर एक स्कूल बस से हुई और वो बाईं ओर मुड़ गया.

लोग ट्रक की ओर दौड़े ये देखने के लिए कि क्या हुआ है. इसके तुरंत बाद बंदूक चलने की आवाज़ आई और इसके बाद लोग उल्टी दिशा में दौड़ते दिखे.

मुझे अपनी आंखों पर ही विश्वास नहीं हुआ, मैं हैरान था. किसी को भी पता नहीं था कि क्या हो रहा है. पहले तो लगा कि ये एक दुर्घटना है.

इकट्ठा हुए लोग पशोपेश में थे और उन्हें समझ नहीं रहा था कि उन्हें क्या करना चाहिए.

हम नहीं जानते थे कि जिन लोगों को टक्कर लगते हमने देखा, वो ज़िंदा भी हैं या नहीं. हमें समझ में नहीं आया कि प्रशासनिक अधिकारियों को या इमरजेंसी सेवा को फ़ोन करना चाहिए या छुपने की कोशिश करनी चाहिए.

इमेज कॉपीरइट Reuters

मैं क्षतिग्रस्त स्कूल बस की ओर गया.

मैंने देखा कि अग्निशमन के कर्मचारी बच्चों को स्कूल बस से निकाल रहे हैं.

वहां देखा कि वे बस के हिस्से को अलग कर उसमें जाने की कोशिश कर रहे हैं.

मुझे नहीं पता कि बच्चे घायल हुए थे या नहीं, हो सकता है कि कुछ उसमें फंस गए हों. मुझे नहीं पता कि सभी ठीक थे या नहीं.

बाद में मुझे पता चला कि दो लोग नहीं बल्कि आठ लोग मारे गए हैं.

ये ऐसी चीजें थीं, जिनकी कोई कभी उम्मीद नहीं करता है. ऐसी घटनाएं आप टीवी और ख़बरों में देखते हैं, लेकिन आप कभी नहीं सोचते कि ऐसा आपके सामने ही घटित हो सकता है और वो भी आपके बिल्कुल क़रीब.

इमेज कॉपीरइट ST CHARLES COUNTY POLICE DEPT
Image caption ट्रक के चालक सेफ़ुलो साइपोव

हम ये जानने की कोशिश कर रहे हैं कि क्यों एक आदमी लोगों को कुचलना चाह रहा था और एक स्कूल में टक्कर मार दी.

इसका कोई मतलब नहीं है, ये पागलपन है.

मुझे याद है कि वो गाड़ी बहुत बेतरतीबी से चला रहा था.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

मिलते-जुलते मुद्दे