ब्लॉगः वो मुस्कुरा कर बोला, "सऊदी अरब बदल रहा है"

  • 4 नवंबर 2017
सऊदी अरब की जिंदगी में बदलाव इमेज कॉपीरइट Getty Images

सऊदी अरब में महिलाओं को ड्राइविंग की इजाज़त का ऐलान वहां की औरतों के लिए अच्छी ख़बर है लेकिन वहां काम कर रहे दक्षिण एशिया के 10 लाख ड्राइवरों के लिए बुरी ख़बर.

अगले साल जून से जब महिलाएं खुद अपनी कार ड्राइव करने लगेंगी तो भारत, पाकिस्तान और बांग्लादेश के लाखों ड्राइवरों की नौकरियां चली जाएंगी.

दूसरे क्षेत्रों में भी भारत और अन्य देशों से आकार काम करने वाले लोगों की नौकरियां जा रही हैं. सऊदी सरकार अपने नागरिकों को नौकरियों में पहले तरजीह दे रही है. सऊदी अरब में प्रशिक्षित और कुशल श्रमिकों की एक बड़ी फ़ौज तैयार है. वो जो पहले काम नहीं करना चाहते थे अब करने पर मजबूर हैं. हालात बदल रहे हैं.

सऊदी अरब में महिलाएं भी चलाएंगी गाड़ी

हज से सऊदी अरब को कितनी कमाई?

इमेज कॉपीरइट Getty Images

बदलाव की धीमी हवा

एक ज़माने से अपरिवर्तित सऊदी समाज अब बदलाव की धीमी हवा के लपेट में है. इसका अंदाज़ा मुझे हाल में एक सऊदी युवा से मिलकर हुआ. इस युवा से मेरी मुलाक़ात हाल में लंदन के एक कैफ़े में हुई. ये अनजान युवा हुलिए और पहनावे से किसी पश्चिमी देश का एशियाई नज़र आ रहा था. मुझसे अच्छी अंग्रेज़ी में बातें कर रहा था.

मैंने बातों के दौरान मन ही मन में उसकी नागरिकता पर गेस करना शुरू कर दिया. "ये भारतीय है या पाकिस्तानी? लेबनान का भी हो सकता है..." आख़िर उसकी शहरियत मैंने पूछ ही डाली और जब उसने कहा कि वो सऊदी अरब से है तो मैं हैरान रह गया.

एक सऊदी नागरिक की छवि से अलग वो खुले ज़हन का पश्चिमी सभ्यता से प्रभावित एक युवा अधिक नज़र आ रहा था.

मैंने पूछा लंदन में पढ़ाई कर रहे हो तो उसने कहा लंदन वो शॉपिंग करने आया है. उसने आगे बताया वो एक सिविल इंजीनियर है और सऊदी में बिनलादिन कंस्ट्रक्शन कंपनी में काम करता है. उसने कहा उसने अपनी सारी पढ़ाई अपने देश में की है.

सऊदी अरब: नाइट वियर पर स्टेडियम में नो एंट्री

इमेज कॉपीरइट Getty Images

लैंगिक समानता की हिमायत

मेरी हैरानी को देखते हुए वो मुस्कुराया और कहा भाई हैरान ना हों. "हमारा देश बदल रहा है. अब हम जैसे युवा मैकडॉनल्ड्स और केएफसी जैसी जगहों पर काम कर रहे हैं, जो कुछ साल पहले तक सोचा भी नहीं जा सकता था."

मैंने पूछा तो भाई इतनी अच्छी अंग्रेज़ी कहां सीखी, वो कहने लगा अपने देश में. "अंग्रेजी सीखने के लिए हमें लंदन या न्यूयॉर्क जाने की ज़रूरत नहीं. हम यहाँ आने के बजाए अंग्रेज़ी टीचरों को अच्छी पगार पर अपने देश ही बुला लेते हैं."

उस युवा का नाम तो अब याद नहीं रहा लेकिन उसकी कूल पर्सनालिटी, उसका आत्मविश्वास, लैंगिक समानता पर उसकी हमसे मिलती जुलती राय और खुली सोच ने हमें बहुत प्रभावित किया.

वो सऊदी अरब में शुरू हुए सामाजिक और सियासी बदलाव का एक चलता-फिरता उदाहरण था. इसीलिए जब हाल में वहां महिलाओं को वाहन ड्राइव करने की इजाज़त से लेकर उन्हें खेल के स्टेडियम में जाने की अनुमति तक की ख़बरें सुनी तो हमें अधिक हैरानी नहीं हुई. उस सऊदी युवा ने मुझ से कहा था कि उसके देश का समाज बदल रहा है.

वर्जिनिटी ख़त्म न हो जाए, इसलिए थी ड्राइविंग पर पाबंदी?

इमेज कॉपीरइट Getty Images

बदलाव की राह में रोड़े भी

अगर आप गहराई से सोचें तो बदलाव या परिवर्तन एक शक्तिशाली शब्द महसूस होगा. और अगर बदलाव सकारात्मक हो तो ये किसी क्रांति से कम नहीं होता. सऊदी अरब में महिलाओं को दिए जाने वाले अधिकारों को वहां के समाज के परिप्रेक्ष्य में रखें तब ही इसकी अहमियत का सही अंदाज़ा होगा.

सऊदी सरकार के इन क़दमों पर टिप्पणी करते हुए एक स्थानीय धर्म गुरु ने कहा कि महिलाओं को ये अधिकार नहीं देने चाहिए क्यूंकि वो आधे दिमाग़ की होती हैं. इस बयान पर सऊदी नागरिकों ने उनकी जम कर खिंचाई की. ये है परिवर्तन में आने वाली दिक़्क़तें.

परिवर्तन अपने आप नहीं हो रहा है बल्कि बदलाव लाया जा रहा है और इसका श्रेय सऊदी अरब के 32 वर्षीय राजकुमार मुहम्मद बिन सलमान को जाता है जिन्होंने कुछ दिन पहले ये वादा किया कि उनका देश अब उदारवादी इस्लाम को अपनाएगा.

'सऊदी अरब पहुंचकर पता चला कि मैं तो बिक गई हूं'

इमेज कॉपीरइट Getty Images

पहले की तुलना में कहीं अधिक आज़ादी

उनके बदलाव का सपना 'विज़न 2030' में दर्ज है, जिसके अनुसार सऊदी अरब को एक आधुनिक राज्य बनाया जाएगा और इसे एक वहाबी इस्लाम वाले समाज से उग्र इस्लाम वाले समाज में बदला जाएगा.

इस दस्तावेज़ के मुताबिक़ सऊदी अरब की तेल निर्यात पर निर्भरता ख़त्म की जाएगी और इसकी अर्थव्यवस्था को ठोस आर्थिक योजनाओं से मज़बूत किया जाएगा.

पूरी तरह से बदलाव आने में एक-दो पीढ़ी का समय लग जाएगा. भारत को इसका अनुभव है. देश में आर्थिक उदारीकरण 1991 में शुरू हुआ लेकिन इसके परिणाम आते-आते सालों लग गए. आज हमारा समाज 1970 और 1980 के दशकों से कितना अलग है.

मुझे भारत के दोनों समाज में रहने का अनुभव है. मैं पहले वाले समाज की मासूमियत और सरलता को बहुत मिस करता हूँ लेकिन आज के भाग दौड़ वाले जीवन से भी खुद को अलग नहीं कर सकता.

हमें आज पहले की तुलना में कहीं अधिक आज़ादी है. हम आर्थिक रूप से पहले से बेहतर हैं और हमने पिछले 20-25 सालों में अंतरराष्ट्रीय स्तर पर अपनी साख जमाई है.

भारत के इस परिवर्तन को मैंने न केवल महसूस किया है बल्कि इसकी अपनी पत्रकारिता में एक जगह भी बनायी है. बदलाव के दौरान सामाजिक और सियासी उथल-पुथल होने का डर रहता है.

सऊदी अरब 1931 में अपने जन्म से ही वहाबी इस्लाम के काफी क़रीब रहा है. अगर वहाबी मुल्लाओं ने साथ दिया तो सऊदी सरकार बदलाव लाने में पूरी तरह से कामयाब हो सकती है.

रोबोट सोफ़िया सऊदी अरब की नागरिक है...

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

मिलते-जुलते मुद्दे