तोतों ने 'कुतरे' लाखों डॉलर के ब्रॉडबैंड कनेक्शन

  • 4 नवंबर 2017
तोते इमेज कॉपीरइट Getty Images

ऑस्ट्रेलिया में लाखों डॉलर का ब्रॉडबैंड नेटवर्क तोतों की वजह से ख़तरे में पड़ गया.

नेशनल ब्रॉडबैंड नेटवर्क (एनबीएन) कंपनी के अनुसार तोतों ने उनके ब्रॉडबैंड तारों को चबा-चबाकर ख़राब कर दिया, जिसे दुरुस्त करने में कई हज़ार डॉलर खर्च हो चुके हैं.

ऑस्ट्रेलिया में ब्रॉडबैंड कनेक्शन के धीमे रहने की शिकायत हमेशा की जाती है. इंटरनेट स्पीड के मामले में ऑस्ट्रेलिया दुनिया में 50वें स्थान पर आता है.

ऑस्ट्रेलिया में फ़िलहाल इंटरनेट स्पीड 11.1 मेगाबाइट प्रति सेकेंड है, जो दुनिया के विकसित देशों के मुक़ाबले बहुत कम है.

ऑस्ट्रेलियाई सरकार इसे सुधारने का प्रयास कर रही है और इसके लिए नेशनल टेलिकम्युनिकेशन इंफ्रास्ट्रक्चर प्रोजेक्ट भी शुरू किया गया है, जो 2021 में पूरा होगा.

भारत में इंटरनेट स्पीड की 'सच्चाई'

कैसे जांचते हैं आप इंटरनेट स्पीड, देखिए ये पांच तरीके

इमेज कॉपीरइट Getty Images

कई जगह से चबाया

एनबीएन का मानना है कि उनकी ब्रॉडबैंड तारों को कई जगहों पर नुक़सान पहुंचा है, इसलिए उसे ठीक करने का खर्च बढ़ सकता है.

एनबीएन के इंजीनियरों ने ब्रॉडबैंड में समस्या का पता लगाया तो पाया कि उनकी तारों को जगह-जगह से चबाया गया था. इसे तोतों की एक प्रजाति कॉकाटू ने चबाया था. आमतौर पर ये तोते फल, नट और लकड़ी ही चबाते हैं.

इन ख़राब तारों को ठीक करने में एनबीएन कंपनी ने अभी तक 80 हज़ार ऑस्ट्रेलियाई डॉलर खर्च कर चुकी है.

इमेज कॉपीरइट Nbn
Image caption कुछ तार इस हद खराब हो चुके थे कि वे दोबारा ठीक नहीं किए जा सके

तार में मिला तोतों को स्वाद

जानवरों के व्यवहार को समझने वाले गिसेला कैल्पन ने बताया, ''आमतौर पर तो ये तोते केबल नहीं चबाते लेकिन हो सकता है कि उन्हें इन तारों में स्वाद मिला हो या फिर शायद वे तार के रंग की तरफ़ आकर्षित हुए हों.''

गिसेला बताती है, ''ये तोते अपनी चोंच को नुकीला बनाने के लिए हमेशा कुछ न कुछ रगड़ते रहते हैं. बदकिस्मती से उन्होंने तारों को इसके लिए चुना.''

कंपनी का कहना है कि अब वे तारों के ऊपर एक रक्षात्मक परत चढ़ाने जा रहे हैं. एक तार पर परत चढ़ाने का खर्च 14 ऑस्ट्रेलियाई डॉलर आएगा. कंपनी मानती है कि अपने तीन बिलियन डॉलर के नेटवर्क को बचाने के लिए यह खर्च उठाया जा सकता है.

क्या तोता गवाही दे सकता है?

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

मिलते-जुलते मुद्दे