जर्मनी: वो सीरियल किलर नर्स जिसने 'कम से कम सौ की जान ली'

  • 9 नवंबर 2017
सीरियल किलर इमेज कॉपीरइट AFP

मेडिकल प्रोफ़ेशन से जुड़ा कोई शख़्स जैसे कोई नर्स लोगों की जान कैसे ले सकता है? और वो भी सौ लोगों की.

लेकिन जर्मनी के इस पूर्व नर्स के बारे में तो यही कहा जा रहा है.

अभियोजन पक्ष का कहना है, "टॉक्सिकोलॉजी टेस्ट में ये संकेत मिलते हैं कि नर्स नील्स होएग्ल ने दो अस्पतालों में कम से कम सौ लोगों की जान ली है."

टॉक्सिकोलॉजी वो साइंस है जिसमें ज़हर और उसके प्रभावों का अध्ययन किया जाता है. नर्स नील्स होएग्ल इन अस्पतालों में काम करती थीं.

जांच से जुड़े लोगों का कहना है कि नर्स नील्स होएग्ल ने पूरे होशोहवाश में सुनियोजित तरीके से अपने मरीज़ों को जानलेवा डोज़ दिए.

दिल के इन मरीज़ों की जिम्मेदारी नर्स नील्स होएग्लस पर थी.

इमेज कॉपीरइट iStock

क़त्ल के आरोप

इन दोनों अस्पतालों में काम कर चुके नील्स होएग्ल फिलहाल क़त्ल के दो मामलों में उम्र कैद की सज़ा काट रहे हैं.

कहा जा रहा है कि नर्स नील्स होएग्ल इन मरीज़ों को फिर से ज़िंदा करने की कोशिश के ज़रिए अपने सहकर्मियों को प्रभावित करना चाहते थे.

अगले साल उन पर नए आरोप लगाए जा सकते हैं. साल 1999 से 2005 के बीच जर्मनी के दो शहरों में उन पर 38 और 62 मरीज़ों की हत्या के आरोप हैं.

जांच अधिकारियों का कहना है कि नर्स नील्स होएग्ल ने मुमकिन है, और लोगों को भी मारा हो लेकिन उनके अंतिम संस्कार कर दिए गए हैं.

अगर नर्स नील्स होएग्ल पर लगाए गए आरोप सही पाए जाते हैं तो वे विश्व युद्ध के बाद जर्मन की सबसे बदतरीन सीरियल किलर्स में शुमार हो जाएंगे.

इमेज कॉपीरइट iStock

ज़हर की संभावना

साल 2015 के कोर्ट ट्रायल के दौरान नील्स होएग्ल के ख़िलाफ़ चल रहे जांच का दायरा उस वक्त बढ़ा दिया गया जब उन्होंने 30 लोगों की जान लेने की बात क़बूल कर ली.

इस ट्रायल में उन्हें क़त्ल के दो, क़त्ल की कोशिश के दो मामलों और मरीज़ों को नुक़सान पहुंचाने के आरोप में दोषी पाया गया.

जांच अधिकारियों ने 130 पूर्व मरीज़ों की कब्र खोद कर तफ़्तीश के काम को अंजाम दिया ताकि उन्हें ज़हर दिए जाने की संभावना का पता लगाया जा सके.

नर्स नील्स होएग्ल ने जिन अस्पतालों में काम किया था, उसके रिकॉर्ड खंगाले गए. लेकिन इसके बावजूद उन्हें अच्छे रिफ़रेंस मिले.

जर्मनी के डेलमेनहोर्स्ट शहर के एक अस्पताल में उनके जाने के बाद वहां मरीज़ों की मौत का सिलसिला शुरू हो गया था. और ये मौतें तब हुईं जब नील्स होएग्ल शिफ़्ट पर थे.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

मिलते-जुलते मुद्दे