अंतरिक्ष में एक साल गुज़ारना कैसा लगता है?

  • 10 नवंबर 2017

अपने घर से दूर, शानदार नज़ारों के बीच स्पेस स्टेशन पर एक साल गुज़ारना कैसा लगता होगा? आप में से कुछ लोगों के लिए ये शायद किसी सपने से कम नहीं हो.

स्कॉट केली एक अंतरिक्ष यात्री हैं जो 340 दिन अंतरिक्ष में रह कर आए हैं. अपने अनुभव बीबीसी से बांटते हुए उन्होंने बताया कि स्पेस स्टेशन में गुज़ारा हर दिन उनके लिए एक याद बन कर रह गया है.

केली के मुताबिक "वहां बहुत ज़्यादा काम होता है. हमें हर दिन सुबह छह बजे उठना होता है. वहां तीन तरह के काम होते हैं - या तो कोई प्रयोग करना होता है, या फिर स्पेस स्टेशन के ख़राब हार्डवेयर की रिपेयरिंग करनी होती है या फिर स्पेस स्टेशन के जेनरल मेंटेनेंस पर ध्यान देना होता है ताकि स्टेशन सही तरीके से काम कर सके."

केली के मुताबिक "मैं वहां एक वैज्ञानिक नहीं था, मैं एक साइंटिफ़िक सब्जेक्ट था. मैं कई प्रयोगों का ऑपरेटर रहा. मुझे लगता है कि आज से कई सालों बाद जब मैं पीछे मुड़कर अपने किए गए प्रयोगों को देखूंगा तो शायद ये अहसास होगा कि हम लोग कुछ ऐसा कर पाए जिसने हमें आगे बढ़ने में मदद की."

'इस रॉकेट से अंतरिक्ष में यात्री भेजेगा भारत'

अंतरिक्ष से कैसी दिखती है धरती?

केली के मुताबिक, "अंतरिक्ष से धरती शानदार दिखती है. ज़्यादातर जगहों पर ये नीली दिखती है. हम भाग्यशाली हैं कि हमें रहने के लिए ऐसा घर मिला है, लेकिन कई जगहों पर प्रदूषण देखा जा सकता है. कई जगहों पर वातावरण बहुत ख़राब हो गया है."

केली ने बताया, "धरती को अंतरिक्ष से देखने का अनुभव आपको बदल देता है. वहां रहकर मुझे लगा कि मैं कई तरह की कठिनाईयों का सामना करने हुए भी काम कर सकता हूं."

केली ने मुताबिक, "धरती के ऊपर से देखना एक अदभुत अनुभव है. बाहर से आपको ये एक खूबसूरत और शांत जगह दिखती है. लेकिन कई बार ऐसा नहीं है. ये आपको अपने ग्रह की स्थिति के बारे में सोचने के लिए मजबूर कर देता है, धरती के प्रति आपकी सहानुभूति बढ़ जाती है."

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए