'पेशावर में चरमपंथियों का निशाना थी आईएसआई, मारे गए निर्दोष छात्र'

पाकिस्तान में हमला इमेज कॉपीरइट Getty Images

बीते शुक्रवार को पेशावर के कृषि प्रशिक्षण संस्थान पर हमला करने के बाद चरमपंथियों ने एक वीडियो जारी किया है.

वीडियो से यह पता चलता है कि साज़िश रचने वालों ने आत्मघाती हमलावरों को उनके लक्ष्य के बारे में नहीं बताया था.

जमरुद रोड पर पेशावर विश्वविद्यालय के सामने कृषि प्रशिक्षण केंद्र पर हमले की जिम्मेदारी प्रतिबंधित संगठन तहरीक-ए-तालिबान पाकिस्तान ने ली थी.

संगठन ने इस हमले का दो मिनट का एक वीडियो मीडिया के प्रतिनिधियों को भेजा है, जिसमें चरमपंथी छात्रों पर गोली चलाते हुए दिख रहे हैं. जबकि वीडियो में कुछ छात्रों को भागते हुए देखा जा सकता है.

पाकिस्तान के पेशावर में चरमपंथी हमला, 9 की मौत

क्या सेना ने पाकिस्तान को मुसीबत से निकाला है?

इमेज कॉपीरइट Getty Images

मोबाइल से वीडियो

बीबीसी उर्दू संवाददाता रिफ़तुल्लाह ओराकज़ई के मुताबिक पुलिस और जांचकर्ताओं ने कहा है कि हमलावरों से एक मोबाइल फ़ोन मिला है, जिससे यह प्रतीत हो रहा है कि वीडियो उसी से बनाया गया है. हालांकि इस बात का पता नहीं चल पाया है कि वीडियो कैसे बनाया गया है.

कुछ अधिकारियों का मानना है कि हमले का फ़ेसबुक लाइव किया गया था या फिर विशेष ऐप से इसे रिकॉर्डिंग की गई थी.

मीडिया के जारी किए गए वीडियो में यह स्पष्ट रूप से दिख रहा है कि हमलावर एक कमरे में घुसते हैं, जहां उनकी और छात्रों के बीच पश्तो भाषा में छोटी बातचीत होती है.

हमलावर छात्र से कहते हैं कि आपको कुछ नहीं करूंगा लेकिन मुझे यह बताएं कि क्या यह गुप्तचर एजेंसी आईएसआई का केंद्र है है या नहीं? डरे हुए छात्र के मुंह से हां निकल जाता है.

हालांकि यह पता नहीं चल पाया है कि जिस छात्र से हमलावर ने बात की थी उसे छोड़ दिया गया या नहीं.

चाबहार पर भारत-ईरान दोस्ती से क्यों घबरा रहा पाकिस्तान

इमेज कॉपीरइट Getty Images

पहले मांगी गई थी सुरक्षा

प्रतिबंधित संगठन के प्रवक्ता उमर खुरासानी के जारी किए गए बयान में कहा गया है कि यह हमला गुप्तचर एजेंसी आईएसआई के केंद्र पर किया गया था.

वास्तव में वह केंद्र कृषि प्रशिक्षण संस्थान का हॉस्टल है, जहां हमले के दौरान करीब 30 छात्र मौजूद थे.

वीडियो देखने के बाद अधिकारियों ने कहा कि हमलावर आईएसआई केंद्र पर हमला करने गए थे, लेकिन वास्तव में वहां कोई कार्यालय नहीं था.

कृषि प्रशिक्षण संस्थान के अधिकारियों के मुताबिक छह महीने पहले संस्थान ने सरकार से सुरक्षा देने की मांग की थी, लेकिन सरकार ने इस पर ध्यान नहीं दिया.

पाकिस्तान में पानी की तोप बहुत समझदार है

इमेज कॉपीरइट Getty Images

इमारत में दूसरे सरकारी कार्यालय हैं

अधिकारी का कहना है कि संस्थान की सुरक्षा के लिए बूढ़े सुरक्षाकर्मी तैनात किए गए हैं. उनके ज्यादातर हथियार काम नहीं कर रहे थे. संस्थान में लगे ज्यादातर सीसीटीवी कैमरे ख़राब हैं. उसमें कई दिनों की रिकॉर्डिंग रखने की क्षमता नहीं है.

पेशावर के खैबर रोड पर स्थित कृषि प्रशिक्षण संस्थान एक बड़ी इमारत का हिस्सा है, जहां हॉस्टल के अलावा दूसरे 11 सरकारी विभागों के दफ्तर हैं.

इस इमारत से लगी मशहूर चिकित्सा संस्थान खैबर अस्पताल के नर्सों और डॉक्टरों के हॉस्टल भी हैं

इमेज कॉपीरइट ABDUL MAJEED/AFP/Getty Images

पुलिस के मुताबिक़ शुक्रवार की सुबह तीन बंदूकधारी बुर्का पहने हुए प्रशिक्षण संस्थान में घुस गए थे, जिसमें नौ लोग मारे गए थे और दर्जनों घायल हुए थे. सेना और पुलिस की जवाबी कार्रवाई में तीनों हमलावर मारे गए थे.

सरकार का कहना है कि योजना अफ़ग़निस्तान में बनाई गई थी. हालांकि अफ़ग़ानिस्तान की सरकार ने इस पर कुछ नहीं कहा है.

पाकिस्तान: परदे के पीछे सरकार और सेना की 'महाभारत'

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे