ट्रंप को झटका देने वाले अलबामा के नवनिर्वाचित सेनेटर डग जोंस कौन हैं?

  • 13 दिसंबर 2017
ट्रंप और अलाबामा से नवनिर्वाचित डेमोक्रेट सीनेटर डग जोंस इमेज कॉपीरइट Getty Images

अमरीकी प्रांत अलाबामा के सीनेट चुनाव में राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रंप को करारा झटका लगा है.

अलाबामा के सीनेट चुनाव में डेमोक्रेट पार्टी के डग जोंस ने रिपब्लिकन पार्टी के उम्मीदवार रॉय मूर को हरा दिया है. अमरीकी अटार्नी जनरल जेफ़ सेशंस का कार्यकाल ख़त्म होने के बाद इस सीट पर चुनाव हुए थे. मूर पर किशोर लड़कियों के यौन उत्पीड़न के आरोप लगे थे, लेकिन उन्होंने आरोपों से इनकार किया था.

इसके बावजूद ट्रंप ने मूर का समर्थन किया था और इस चुनाव के नतीजे आने के बाद ट्रंप ने ट्वीट करते हुए कहा कि 'ये अंत नहीं है, रिपब्लिकन पार्टी के लिए जल्द एक और मौका आने वाला है.'

रिपब्लिकन उम्मीदवार फ़ायरब्रांड मूर को सुप्रीम कोर्ट से दो बार हटाया जा चुका है. वो समलैंगिक गतिविधियों को ग़ैरक़ानूनी घोषित किए जाने की वक़ालत करते रहे हैं.

जब यह तस्वीर बनी अमरीका-रूस के ग़ुस्से का प्रतीक

6 मामले जिनमें पिछड़े मुल्कों के बराबर खड़ा है अमरीका

इमेज कॉपीरइट Reuters

कैन हैं डग जोंस

63 साल के डग जोंस एक पूर्व वकील हैं जिन्होंने 1963 में बर्मिंघम के चर्च पर हुई बमबारी के मामले में कुख्यात 'कू क्लक्स क्लैन' समूह के दो सदस्यों को सज़ा दिलाई थी.

इस हमले में चार लड़कियों की जान गई थी. ये समूह नस्लवादी विचारों को मानता है. जीतने के बाद जोंस ने कहा कि ये पूरी लड़ाई 'सम्मान और मर्यादा' को लेकर लड़ी गई.

जोंस ने अलाबामा विश्वविद्यालय से राजनीति शास्त्र में पढ़ाई की और 1997 में तब वो सुर्खियों में आए जब तत्कालीन राष्ट्रपति बिल क्लिंटन ने उन्हें अटार्नी बनाया.

बीते अगस्त में वो सात अन्य दावेदारों को पीछे छोड़ते हुए डेमोक्रेटिक प्राइमरी में जीत हासिल कर सीनेट सीट के लिए उम्मीदवारी हासिल की थी.

जोंस पूर्व उपराष्ट्रपति जोय बिडेन के क़रीबी रहे हैं और इस चुनाव में उनके प्रचार के लिए बिडेन आए तो उन्होंने कहा कि 'मैंने चंद लोगों के लिए प्रचार किया है उनमें से जोंस एक हैं. उनकी ईमानदारी और साहस बेमिसाल है.'

ट्रंप की विधायिका में पहली बड़ी जीत का रास्ता साफ़

ट्रंप की नीतियों के ख़िलाफ़ न्यूयॉर्क में प्रदर्शन

इमेज कॉपीरइट Getty Images

सीनेट की अहमियत

अमरीकी राजनीति में सीनेट की हैसियत अहम है. कुल 50 राज्यों में सीनेट की केवल 100 सीटें हैं, जिनका चुनाव राज्य के जनप्रतिनिधि करते हैं.

डग जोंस की जीत के साथ ही सीनेट में रिपब्लिकन और डोमोक्रेट पार्टी के बीच अंतर 51-49 हो गया है.

सीनेट में रिपब्लिकन पार्टी का बहुमत और कम हुआ तो ट्रंप को क़ानूनों को पास कराने में काफ़ी मशक्कत करनी पड़ेगी.

सीनेटर का कार्यकाल छह साल का होता है. सीनेट की ऐसी संरचना है कि हर दो साल में एक तिहाई सीटें खाली होती जाती हैं और उन पर चुनाव होता है.

मौजूदा सीनेट की 33 सीटों पर अगले साल चुनाव होना है और ट्रंप की कोशिश होगी कि वो उच्च सदन में रिपब्लिकन पार्टी के दबदबे को क़ायम रख सकें.

पिछले 25 सालों में डग जोन्स पहले डेमोक्रेट सीनेटर बने हैं, जिन्होंने अलाबामा की सीनेट सीट पर रिपब्लिकन उम्मीदवार को हराया.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

मिलते-जुलते मुद्दे