'उड़न तश्तरी' की जांच के लिए लाखों डॉलर का गुप्त कार्यक्रम चला रहा था पेंटागन

  • 17 दिसंबर 2017
पेंटागन इमेज कॉपीरइट AFP

अमरीकी मीडिया के मुताबिक, पेंटागन यूएफ़ओ की जांच के लिए लाखों डॉलर का गुप्त कार्यक्रम चला रहा था.

बताया जा रहा है कि अमरीकी रक्षा विभाग के मुख्यालय में 2007 में शुरू हुए और 2012 में बंद कर दिए गए इस कार्यक्रम की जानकारी बहुत कम अधिकारियों को थी.

'न्यूयॉर्क टाइम्स' का कहना है कि कार्यक्रम के दस्तावेज़ों में अजीब सी तेज़ रफ़्तार वाले विमानों और मंडराती हुई चीज़ों का ज़िक्र किया गया है.

मगर वैज्ञानिकों को इस बात को लेकर संदेह था कि ये रहस्यमय घटनाएं परग्रही जीवन यानी एलियन होने का सबूत हो सकती हैं.

इमेज कॉपीरइट iStock
Image caption सांकेतिक तस्वीर

भारी-भरकम खर्च

'एडवांस्ड एरोस्पेस थ्रेट आइडेंटिफिकेशन' नाम के इस प्रोग्राम के पीछे हैरी रीड का विचार बताया जा रहा है. हैरी रीड रिटायर्ड डेमोक्रैटिक सीनेटर हैं जो उस समय सीनेट के बहुमत दल के नेता थे.

उन्होंने न्यूयॉर्क टाइम्स को बताया, "मुझे इस बात को लेकर कोई शर्म या खेद नहीं है कि मैंने इस कार्यक्रम को चलने दिया. मैंने ऐसा किया, जो पहले किसी ने नहीं किया था."

बताया जा रहा है कि इस कार्यक्रम पर रक्षा विभाग की 20 मिलियन डॉलर (लगभग 1 अरब 28 करोड़ रुपये) की रकम खर्च हुई. बाद में खर्च घटाने के लिए इस कार्यक्रम को बंद कर दिया गया.

क्या हम कभी एलियन को ढूंढ पाएंगे?

एलियन की खोज का सबसे बड़ा अभियान शुरू

इमेज कॉपीरइट iStock
Image caption सांकेतिक तस्वीर

बंद होने के बाद भी जारी रहीजांच

भले ही इसकी फ़ंडिंग 2012 में बंद हो गई, मगर बताया जा रहा है कि अधिकारियों ने असामान्य आकाशीय घटनाक्रम और संदिग्ध चीज़ों को देखे जाने के मामलों की जांच अपने सामान्य काम के साथ जारी रखी.

यूएस कांग्रेस के एक पूर्व कर्मचारी पॉलिटिको को बताया है कि संभव है कि इस कार्यक्रम को प्रतिद्वंद्वी विदेशी ताकतों की तकनीकी प्रगति पर नज़र रखने के लिए चलाया गया हो.

इससे पहले इसी साल यूएस सेंट्रल इंटेलिजेंस एजेंसी (सीआईए) ने डिक्लासिफ़ाइड दस्तावेज़ों के लाखों पन्ने ऑनलाइन जारी कर दिए थे.

इन दस्वावेज़ों में यूएफ़ओ देखे जाने और उड़न तश्तरियों से संबंधित रिपोर्ट्स भी शामिल थीं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

मिलते-जुलते मुद्दे