रखाइन में रोहिंग्या मुसलमानों की सामूहिक कब्र मिली, बर्मा में यूएन को नो एंट्री

  • 20 दिसंबर 2017
म्यांमार इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption म्यांमार में संयुक्त राष्ट्र की विशेष दूत यांग्ही ली

म्यांमार ने कहा है कि वो संयुक्त राष्ट्र की विशेष दूत यांग्ही ली को देश का दौरा करने की अनुमति नहीं देगा.

दरअसल रखाइन प्रांत में रोहिंग्या मुसलमानों के खिलाफ हुए कथित अत्याचारों की जांच के लिए यांग्ही ली जनवरी में म्यांमार जाने वाली थीं.

लेकिन सरकार ने उन्हें बर्मा में आने की अनुमति देने से इनकार कर दिया. यांग्ही ने एक बयान जारी कर इस बात की जानकारी दी है.

साथ ही उन्होंने बताया, "म्यांमार के सरकारी अधिकारियों ने ये भी कहा है कि वो मेरे बाकी बचे कार्यकाल के लिए सहयोग नहीं करेंगे."

सू ची पर चलेगा 'रोहिंग्या नरसंहार' का मुकदमा?

एक महीने में 6,700 रोहिंग्या मुसलमानों की मौत

प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा
रोहिंग्या संकट को लेकर म्यांमार के नेताओं को कटघरे में खड़ा करने पर हो सकता है विचार

रोहिंग्या संकट

मंगलवार को म्यांमार के अधिकारियों ने बताया कि रखाइन के एक गांव में एक सामूहिक कब्र मिली जिसमें 10 लोगों के शव दफ़्न थे.

यांग्ही ली म्यांमार के लिए संयुक्त राष्ट्र की विशेष दूत हैं. इससे पहले उन्होंने जुलाई में म्यांमार का दौरा किया था.

म्यांमार सरकार ने आरोप लगाया कि जुलाई में किए दौरा का उनका आकलन पक्षपातपूर्ण और गलत था.

अगस्त के महीने में रखाइन में पुलिस चौकी पर रोहिंग्या चरमपंथियों के कथित हमले के बाद सेना की तरफ़ से की गई जवाबी कार्रवाई से हिंसा भड़क गई.

उसके बाद से साढ़े छह लाख रोहिंग्या मुसलमान बांग्लादेश पलायन कर चुके हैं. रोहिंग्या मुसलनमानों की कुल आबादी का ये तकरीबन दो तिहाई हिस्सा है.

क्यों है बौद्धों और मुस्लिमों में इतनी तनातनी?

रोहिंग्या मुसलमानों की घर वापसी के लिए समझौता

इमेज कॉपीरइट TAUSEEF MUSTAFA/AFP/Getty Images
Image caption एक रोहिंग्या शरणार्थी

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए