ऐसा शहर जहां साल भर मनता है क्रिसमस

  • 25 दिसंबर 2017
सेंटा क्लॉज़ शहर

19वीं शताब्दी के बाद अमरीका के एक शहर को सेंटा क्लॉज़ नाम दिया गया है.

आखिर कैसा होता होगा वहां का जीवन, कैसै रहते होगें वहां के लोग?

जब भी किसी को इसके बारे में पता चलता है तो हर कोई यह जानने के लिए इच्छुक होता है.

इंडियाना का उत्तरी-पूर्वी हिस्सा भी सामान्य अमरीकी स्थान इवनस्विल, येस्पर, बूनविल, डेल जैसे नामों की तरह सामान्य स्थान ही है.

लेकिन फिर भी यहां का वातावरण इसे ख़ास बनाता है.

एक सीधे लम्बे रास्ते पर रूट 162 का साइन बोर्ड क्रिसमस स्टार की तरह दिखाई देता है.

वीडियोः कहां है सबसे ऊंचा क्रिसमस ट्री?

दुनिया भर में ऐसे मनाया जा रहा है क्रिसमस

Image caption सेंटा क्लॉज़ चार मील दूर

चार मील की दूरी से दिखाई देती सेंटा क्लॉज़ की एक दस फुट की मूर्ति आपका स्वागत करती दिख जाएगी.

जैसे ही आप इसके करीब पहुंचते जाएंगे आपको अन्य कई क्लू मिलते जायेंगे.

ऊंची-सी सड़क को ही क्रिसमस बोर्लवार्ड कहते हैं. यहां का मुख्य विकास है कि इस शहर मे 2500 लोग रहते हैं और इसे क्रिसमस लेक विलेज कहते हैं.

इंडियाना के सेंटा क्लॉज़ शहर की ख़ास बात है कि यहां साल के 365 दिन क्रिसमस होता है. इसलिए यहां के लोग यहां से कभी ऊबते नहीं हैं.

"मैं नहीं होता", मेलश्वार ड्राइव के माइकल जोहान्स कहते हैं, "मैं 27 साल से यहां रह रहा हूं, मैं हमेशा यहीं रहता हूं और यह हमारे जीवन का हिस्सा है."

Image caption इंडियाना के सेंटा क्लॉज़ शहर का पुराना चर्च और पोस्ट ऑफिस

सेंटा फी से सेंटा क्लॉज़ का सफर

19वीं शताब्दी में इस शहर को सेंटा फी पुकारते थे.

लेकिन जब स्थानीय नागरिकों ने पोस्ट ऑफिस के लिए नामांकन किया, तो उन्हें कोई दूसरा नाम बताने के लिए कहा गया. और यह नाम सेंटा फी से मिलता-जुलता लगा.

1856 से शहर के संग्राहलय में मौजूद पोस्ट ऑफिस के दस्तावेज यह साबित करने के लिए आज भी मौजूद हैं कि कैसे वहां के लोगों ने शहर का नाम सेंटा क्लॉज़ रखा.

एक अच्छी कहानी शुरूआत ऐसे ही होती है.

क्रिसमस इव की रात आग के चारों तरफ बैठ कर स्थानीय नागरिक सेंटा फी का नया नाम रखने की कोशिश कर रहे थे कि अचानक दरवाज़े खुलने लगे.

दरवाज़े खुल रहे थे और घंटियों की आवाज सुनाई दे रही थी, यह देखते ही एक छोटी लड़की ने हांफते हुये बोला, "यह तो सेंटा क्लॉज़ हैं!" और वहीं से इस शहर का नाम सेंटा क्लॉज़ पड़ गया.

इसका वैकल्पिक नाम विट्टनबक रखा गया था, जो एक प्रचारक ने रखा था. वह अक्सर शहर का दौरा करने घोड़ पर सवार होकर आया करता था.

शहर के चीफ एल्फ पैट कोच कहते हैं कि अगर इसका नाम विट्टनबक रखा जाता तो शायद यहां कोई घूमने नहीं आता.

Image caption शहर के चीफ एल्फ पैट कोच, मार्टि और जॉयस

सेंटा का पता सेंटा क्लॉज़, नॉर्थ पोल.

लेकिन 1914 के आसपास सेंटा क्लॉज़ के लिए उन्हें बच्चों की चिट्ठियां मिलने लगीं. और इसके लिए शहर के पोस्टमास्टर जेम्स मार्टिन चिट्टियों का जवाब भी भेजने लगे.

अब पोस्ट ऑफिस को साल में 20,000 चिट्ठियां मिलती हैं. यह चिट्टियां पूरे अमरीका और पूरे दुनिया से आया करती हैं.

ज्यादातर चिट्ठियों में पीओ बॉक्स का पता होता है लेकिन कुछ लिफाफों पर सीधा लिखा होता है- सेंटा क्लॉज़, नॉर्थ पोल.

जवाब देने का जिम्मा चीफ एल्फ पैट कोच पर है. वह 86 साल की हैं, उन्होंने नर्सिंग और धर्मशास्त्र (यह उन्होंने 70 साल की उम्र में प्राप्त की थी) में डिग्री की हासिल की है.

अमरीका के चर्चित सैंटा

कोच (जिन्हें कुक बुलाया जाता है) लगभग 200 वॉलंटियर की एक टीम का संचालन करती हैं. वह चिठ्ठियां पढ़ती हैं, उनका प्रिंट लेती हैं, बच्चे का नाम लिखती हैं और एक पर्सनल मैसेज के साथ पोस्ट कर देती है.

वो बहुत ही दिलचस्प तरीके से जवाब देती हैं. वो कोशिश करती हैं कि जैसे ही लिफाफा खुले तो सबसे पहले बच्चों की नजर सेंटा क्लॉज़ पर जाये.

वे कहती हैं, "मुझे लगता है कि उन्हें जवाब सही से दिया जाना चाहिए. इसे हल्के में नहीं लेना चाहिए."

पत्र भेजने के लिए प्रति वर्ष लगभग 10,000 डॉलर खर्च हो जाते हैं. हालांकि कुछ बच्चे डॉलर भेज देते हैं, लेकिन अधिकांश खर्च डोनेशन और संग्रहालय में होने वाली कमाई से पूरा किया जाता है.

क्रिसमस से छह दिन पहले दो वॉलियंटर- मार्टि शेकल्स और जॉयस रॉबिन्सन पुराने पोस्ट ऑफिस में बैठ कर चिट्टठियों के जवाब लिखते हैं.

कोच आगे बताती है कि मार्टिन एक सेवानिवृत्त शिक्षक है. 120 मील की दूरी तय कर सप्ताह में दो-तीन बार आते हैं और मदद करते हैं. यह क्रिसमस का जादू ही है, जो उसे यहाँ लाता है.

Image caption शहर का केंद्र क्रिंगल प्लेस और मुख्य शॉपिंग सेंटर

यहां पर हॉलिडे वर्ल्ड नाम से एक बहुत बड़ा थीम पार्क और सफारी है.

पार्क में हर साल लाखों प्रर्यटक आते हैं लेकिन यह नवम्बर में सर्दी के कारण बंद होता है.

इसका मतलब है कि दिसंबर में सेंटा क्लॉस लोगों से भरा होता है, जिसका सबूत है कि यहां की पार्किंग बेजान कारों से भरी होती है.

यहां हर तरफ सेंटा का मॉडल है. शहर के बाहर, पोस्ट ऑफिस के बाहर. पर फिर भी यह एक सामान्य शहर ही है.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

शहर का केंद्र क्रिंगल प्लेस है, जो एक अन्य कार पार्क है. यह चारों तरफ दुकानों से घिरा हुआ है. अधिकांश दुकानों में क्रिसमस थीम ही मिलेगा, लेकिन यहां एक सबवे, एक डॉलर जनरल और अन्य दुकानें भी हैं.

यहां चारों तरफ इमारतें नहीं बल्कि लोगों की भीड़ ही दिखाई देती है.

सेंटा क्लॉज़ क्रिसमस स्टोर एक हॉलिडे वर्ल्ड की तरह है, जो मई में खुलता है और वहां क्रिसमस में सजाने वाला सामान और अन्य गिफ्ट मिलते हैं.

हवा में क्रिसमस मनाने पर क्यों उखड़े कुछ पाकिस्तानी?

मुग़लों के समय कैसे मनाया जाता था क्रिसमस?

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे