कभी इस्लामिक स्टेट का गढ़ रहे मोसुल में मना क्रिसमस

  • 25 दिसंबर 2017
मोसुल में क्रिसमस इमेज कॉपीरइट EPA

इराक़ के मोसुल में सालों बाद पहली बार क्रिसमस पर्व मनाया गया है.

मोसुल सालों से कथित इस्लामिक स्टेट के चरमपंथियों के कब्ज़े में रहा है और सरकारी फौजों ने हाल के दिनों में इस शहर पर क़ब्जा करने में क़ामयाबी हासिल की है.

आईएस के राज में ईसाइयों के धार्मिक क्रिया कलाप पर पाबंदी थी और बहुत सारे ईसाई उत्पीड़न के डर से शहर छोड़ कर चले गए थे.

मोसुल में जिहादियों के शासन के दौरान सेंट पॉल चर्च बुरी तरह क्षतिग्रस्त हो गया था. शहर में ईसाई लोगों के घरों को इस्लामिक स्टेट ने नष्ट कर दिया था.

क्रिसमस के मौके पर इराक़ के काल्डियन कैथोलिक चर्च के वयोवृद्ध धर्मगुरु लुईस रफ़ाएल साको ने उन इसाईयों के वापस अपने घरों को लौटने की उम्मीद जताई.

इस्लामिक स्टेट को एक वक़्त हराना नामुमकिन था!

'इस्लामिक स्टेट' ने कहाँ- कहाँ लगाई सेंध?

मोसुल के पश्चिम में अल मुहांदसिन ज़िले में स्थित इस चर्च को दोबारा बनाया गया है. धर्मगुरू इसे एक चमत्कार से कम नहीं मानते.

धर्मगुरू साको कहते हैं, "ये चमत्कार जैसा है. जिन लोगों ने चर्च बनाया, वे मुसलमान थे, इसी शहर के युवा मुसलमान. लेकिन इस मौके पर चर्च, मुसलमान और ईसाई दोनों से भरा हुआ है. वे साथ साथ शांति के लिए प्रार्थना कर रहे हैं. यहां मुस्लिम धर्मगुरु भी मौजूद थे."

इमेज कॉपीरइट EPA

प्रार्थना के बाद धर्मगुरु साको ने लोगों से मोसुल और दुनिया में शांति के लिए प्रार्थना करने को कहा.

उन्होंने कहा, "हमारा संदेश शांति का संदेश है. ईसा मसीह धरती पर शांति के दूत थे और इस शांति की ईसाई, मुसलमान और हर इंसान को ज़रूरत है. बिना शांति के जीवन संभव नहीं. हमारा संदेश है कि जो कुछ हो चुका है, उसके बाद हमें शांति के लिए दिल से प्रार्थना करनी चाहिए."

प्रार्थना में शामिल एक नागरिक ने कहा कि इस्लामिक स्टेट ग्रुप को ये हमारा जवाब है कि ईसा मसीह का जन्मदिन मनाने के लिए एकसाथ इकट्ठा हुए हैं.

इस्लामिक इस्टेट के जाने के बाद शहर की ज़िंदगी फिर से अपनी पटरी पर लौट रही है.

शहर का पुनर्निर्माण एक चुनौती है लेकिन इन सबके बावजूद यहां के निवासियों के लिए क्रिसमस एक नई उम्मीद लेकर आया है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

मिलते-जुलते मुद्दे