उत्तर कोरिया: किम जोंग-उन के दो अधिकारियों पर अमरीकी प्रतिबंध

  • 27 दिसंबर 2017
इमेज कॉपीरइट Reuters

अमरीका ने उत्तर कोरिया के मिसाइल कार्यक्रम में अहम भूमिका निभाने वाले दो अधिकारियों पर और प्रतिबंध लगाए हैं.

अमरीका का कहना है कि उत्तर कोरिया के बैलेस्टिक मिसाइल कार्यक्रम के पीछे किम जोंग-सिक और री प्योंग-चोल का हाथ है.

ठोस ईंधन से चलने वाली मिसाइल विकसित करने में किम जोंग-सिक की अहम भूमिका मानी जाती है. जबकि अंतरमहाद्वीपीय मिसाइल हासिल करने के पीछे कथित रूप से री प्योंग-चोल का दिमाग है.

पिछले हफ़्ते संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद की ताज़ा प्रतिबंध सूची में भी इन दोनों अधिकारियों का नाम था.

अब भी कई देश हैं उत्तर कोरिया के मददगार

'उत्तर कोरिया का परमाणु ख़तरा बढ़ रहा है'

उत्तर कोरिया में क्यों लग रहे हैं झटके?

इमेज कॉपीरइट KCNA/REUTERS
Image caption री प्योंग-चोल के साथ किम जोंग-उन

उत्तर कोरिया के लगातार मिसाइल परीक्षण के दौरान जो भी तस्वीरें सार्वजनिक हुई हैं उसमें ये दोनों किम जोंग-उन के साथ नज़र आते रहे हैं.

समाचार एजेंसी रॉयटर्स ने मई में कहा था कि इन दोनों को किम जोंग-उन ने ही चुना था.

हाल ही में संयुक्त राष्ट्र की सुरक्षा परिषद ने उत्तर कोरिया पर अब तक का सबसे कड़ा दसवां प्रतिबंध लगाया. इसके अमल में आते ही उत्तर कोरिया का पेट्रोलियम आयात 90 प्रतिशत तक घट जाएगा.

उत्तर कोरिया ने इसे 'युद्ध छेड़ने जैसी हरकत' बताया है.

इस बीच रूस ने कहा है कि उत्तर कोरिया के ख़िलाफ़ अमरीका की आक्रामक बयानबाज़ी अस्वीकार्य है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए