कुलभूषण जाधव के परिवार संग बदसलूकी पर पाकिस्तान ने क्या कहा?

  • 27 दिसंबर 2017
कुलभूषण जाधव का परिवार इमेज कॉपीरइट Twitter/GoP

पाकिस्तान में कुलभूषण जाधव से मुलाक़ात कर उनकी मां और पत्नी भारत लौट चुकी हैं. भारत सकार ने इस मुलाक़ात के तरीकों को लेकर कुछ आपत्तियां जताई थी.

इन आपत्तियों में जाधव की मां और पत्नी के कपड़े बदलवाने से लेकर चूड़ी और बिंदी उतरवाने जैसी बातें शामिल थीं. अब इन आपत्तियों पर पाकिस्तान सरकार की तरफ़ से पहली प्रतिक्रिया आई है.

पाकिस्तान सरकार ने एक बयान जारी कर कहा, ''जासूस और दोषी आतंकी कुलभूषण जाधव की पत्नी और मां के पाक दौरे के 24 घंटों के भीतर ही भारत की हुकूमत की ओर से लगाए आरोपों को हम पूरी तरह ख़ारिज़ करते हैं.

  • हम ज़ुबानी जंग में यक़ीन नहीं रखते हैं. हमारी पारदर्शिता और खुलापन ऐसे आरोपों को नकारते हैं. अगर ये सब इतना ही तकलीफ़दायक था तो भारत से आए कुलभूषण के परिवार और अधिकारियों ने इसे तब क्यों नहीं उठाया, जब ये सब हो रहा था या जब मीडिया से बात की गई.
  • सच तो ये है कि कुलभूषण जाधव की मां ने खुलेतौर पर मीडिया के सामने पाकिस्तान की दरियादिली के लिए शुक्रिया अदा किया. मीडिया ने इसे रिकॉर्ड भी किया. हमें इससे ज़्यादा कुछ नहीं कहना.''
इमेज कॉपीरइट FOREIGNOFFICEPK

भारतीय विदेश मंत्रालय ने जताई थीं क्या आपत्तियां?

भारतीय विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने प्रेस कॉन्फ़्रेंस कर मंगलवार को कहा कि कुलभूषण जाधव की मां और पत्नी को कपड़े बदलने पर मजबूर किया गया.

  • अपनी मातृभाषा मराठी में बात नहीं करने दी गई.
  • कुलभूषण की मां के जूते भी निकलवा लिए और बिना किसी स्पष्टीकरण के वापस नहीं किए गए.
  • जाधव बातचीत के दौरान पूरी तरह से दबाव में थे.
  • जाधव जब परिवार से मुलाक़ात कर रहे थे तो पाकिस्तान के दबाव में उन्होंने अपना कथित गुनाह कबूल किया था.
  • जाधव की मां और पत्नी से पाकिस्तानी मीडिया ने उटपटांग सवाल पूछे
इमेज कॉपीरइट Twitter

भारत सरकार ने आरोप लगाया था कि दोनों देशों के बीच यह क़रार था कि मीडिया को इनके क़रीब नहीं पहुंचने देना है. इस पर पाकिस्तान सरकार ने कहा है कि भारत के कहे के मुताबिक मीडिया को तय दूरी पर रखा गया था.

'जाधव की पत्नी से चूड़ी और मंगलसूत्र उतरवाए'

जाधव: 'यह पाकिस्तान का अपमानित करने का तरीक़ा है'

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

मिलते-जुलते मुद्दे