ईरान पर संयुक्त राष्ट्र की बैठकः रूस ने की अमरीका की कड़ी आलोचना

  • 6 जनवरी 2018
संयुक्त राष्ट्र इमेज कॉपीरइट Reuters

ईरान में हुए प्रदर्शनों के मुद्दे पर संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद की आपात बैठक बुलाने पर रूस ने अमरीका की तीखी आलोचना की है.

संयुक्त राष्ट्र में रूस के दूत वासिली नेबेनज़िया ने कहा है कि ईरान को अपनी समस्याएं ख़ुद सुलझाने दी जाएं और किसी देश के आंतरिक मामले में संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद का हस्तक्षेप करना इस सर्वोच्च संस्था के क़द को कम करता है.

इसके कुछ ही मिनट पहले संयुक्त राष्ट्र में अमरीकी दूत निकी हेली ने ईरान के प्रदर्शनकारियों को 'बहादुर लोग' कहकर उनकी तारीफ़ की थी.

हेली ने कहा की ईरान में जो हो रहा है उसे दुनिया देख रही है.

महिला जो ईरान में विरोध प्रदर्शन का चेहरा बन गईं

'न गज़ा, न लेबनान, मेरी ज़िंदगी है ईरान'

ईरान ने भी दी कड़ी प्रतिक्रिया

ईरान के दूत घोलामली ख़ुशरू ने प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि अमरीका सुरक्षा परिषद के स्थायी सदस्य के रूप में मिली अपनी शक्ति का ग़लत इस्तेमाल कर रहा है. उन्होंने कहा कि अमरीका ने दुनिया की नज़रों में अपनी नैतिक, राजनीतिक और क़ानूनी विश्वसनीयता खो दी है.

ईरान के विदेश मंत्री जवाद ज़रीफ़ ने ट्वीट किया कि संयुक्त राष्ट्र ने अमरीका के सुरक्षा परिषद को हाइजैक करने के प्रयास को नाकाम कर दिया है.

ईरान में लोगों के विरोध-प्रदर्शन के मायने क्या हैं?

फ़्रांस भी ईरान मामले में दख़ल के पक्ष में नहीं

सुरक्षा परिषद की बैठक में फ्रांस ने कहा कि ईरान के मामले में किसी भी तरह के दख़ल के नतीजे नकारात्मक होंगे. फ्रांस ने ये भी कहा कि ईरान में हुए प्रदर्शन चिंता की बात तो हैं लेकिन उनसे अंतरराष्ट्रीय शांति को कोई ख़तरा नहीं है.

फ्रांस के दूत ने कहा कि अंतरराष्ट्रीय समुदाय को ईरान के साथ हुए परमाणु समझौते को पूरी तरह लागू करने पर ज़ोर देना चाहिए.

ट्रंप प्रशासन ने ईरान के साथ हुए परमाणु समझौते को मंज़ूरी देने से इनकार कर दिया है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

मिलते-जुलते मुद्दे