मालकिन की लाश के पास हफ़्तों तक बैठी रही वफ़ादार कुतिया

  • 6 जनवरी 2018
9 साल की ज़ाज़ा इमेज कॉपीरइट Reuters
Image caption नौ साल की ज़ाज़ा अपनी मालकिन के शव के पास हफ़्तों तक बैठी रही

बेवजह नहीं है कि कुत्तों की वफ़ादारी की मिसालें दी जाती हैं.

लेकिन उनमें भी कुछ कुत्ते ऐसे होते हैं जो ज़िंदग़ी के साथ भी और ज़िंदगी के बाद भी आप का ख़्याल रखना नहीं भूलते. ऐसी ही एक घटना हंगरी में सामने आई है.

मालकिन की मौत के बाद भी उनकी कुतिया उनके शव के पास हफ़्तों तक बैठी रही.

बीते बुधवार को बुडापेस्ट अपार्टमेंट में जब मालकिन का शव मिला तो उनकी नौ साल की हैवनीस प्रजाति की ज़ाज़ा नाम की कुतिया उनके पास बैठी मिली.

मालकिन 60 साल की थी और वह कई हफ्तों पहले सामान्य कारणों से मर चुकी थीं.

हफ्तों से उन्हें और ज़ाज़ा को पड़ोसियों ने नहीं देखा था. इसलिए उन्होंने इसकी सूचना पुलिस को दी.

पुलिस ने तफ़्तीश की तो पता चला कि अपार्टमेंट में मालकिन कई हफ्तों पहले ही मर चुकी है.

रॉयटर्स के अनुसार, वृद्ध महिला कई हफ़्तों से नहीं दिखी तो पड़ोसियों को चिंता हुई और उन्होंने पुलिस को सूचित किया.

पुलिस के अपार्टमेंट में जाने पर पता चला कि ज़ाज़ा अपनी मालकिन के शव के साथ ही बैठी हुई है.

राहत एवं बचाव कर्मियों का कहना है कि ज़ाज़ा के पास थोड़ा खाना मिला था लेकिन वह कई दिन पुराना था और सूख चुका था. अगर वह समय पर नहीं मिलती तो वह भी शायद मर जाती.

उन्होंने बताया कि ज़ाज़ा बहुत कमज़ोर हो चुकी है, उससे खड़ा भी नहीं हुआ जा रहा. इसलिए उसे मालकिन के शरीर के पास से घसीटकर दूर किया गया.

बचाने वाले संगठन का कहना है कि अब वह थोड़ी ठीक है और उसने फिर से अपनी पूंछ हिलानी शुरू कर दी है.

वफ़ादार कुत्ता भी ले सकता है मालिक की जान?

कुत्तों पर भी असर करता है वियाग्रा

कुत्तों और भेड़ियों को भी नहीं पसंद भेदभाव

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

मिलते-जुलते मुद्दे