व्हाइट हाउस और सेक्स स्कैंडल

  • 8 जनवरी 2018
मोनिका लेविंस्की, बिल क्लिंटन इमेज कॉपीरइट Getty Images

साल 2018 में अमरीका और दुनिया के इतिहास के एक बड़े स्कैंडल को 20 बरस पूरे हो गए. ये स्कैंडल एक अमरीकी राष्ट्रपति के निजी जीवन से जुड़ा था.

वो 1998 का जनवरी महीना था जब 49 वर्षीय अमरीकी राष्ट्रपति बिल क्लिंटन और मोनिका लेविंस्की की शारीरिक नज़दीकियों से जुड़ी ख़बरों ने पूरी दुनिया के मीडिया में तहलका मचा दिया था.

मोनिका लेविंस्की की उम्र 22 साल थी और वो बिल क्लिंटन के कार्यकाल में व्हॉइट हाउस में ट्रेनी के तौर पर काम करती थीं.

लेकिन क्लिंटन पहले अमरीकी राष्ट्रपति नहीं थे जिनका निजी जीवन सुर्खियों में आया.

उनसे पहले व्हॉइट हाउस में कई ऐसे राष्ट्रपति रहने आए, जिनकी ज़िंदगी से जुड़े राज़ पर्दों में छुपे हैं. इन्हीं में से एक हैरी ट्रूमैन भी थे.

इमेज कॉपीरइट Fox Photos/Getty Images
Image caption हैरी ट्रूमैन पत्नी एलिजाबेथ और बेटी मैरी के साथ

व्हॉइट हाउस की छत

रिकॉर्ड चार बार अमरीकी राष्ट्रपति रहे फ़्रैकलिन रूजवेल्ट के प्रशासन में हैरी ट्रूमैन उप-राष्ट्रपति थे.

रूज़वेल्ट की मौत अप्रैल, 1945 में हुई और हैरी ट्रूमैन ने द्वितीय विश्व युद्ध खत्म होने तक राष्ट्रपति की ज़िम्मेदारी संभाली.

जब हैरी ट्रूमैन व्हॉइट हाउस में रहने आए तो उन्होंने पाया कि अमरीकी राष्ट्राध्यक्ष के निवास स्थान की हालात बेहद ख़राब थी. दीवारों पर दरारें, कोनों में फफूंदी उग आई थीं.

तीन साल बाद हैरी ट्रूमैन की पत्नी व्हॉइट हाउस की ख़राब हालत से तंग आ गईं. उनकी बेटी मैरी मार्ग्रेट पहली मंजिल पर पियानो बजाया करती थीं.

एक दिन पियानो बजाते समय व्हॉइट हाउस की छत टूट गई और मैरी मार्ग्रेट पियानो के साथ बेसमेंट में गिर गईं.

इमेज कॉपीरइट Keystone/Hulton Archive/Getty Images
Image caption व्हॉइट हाउस में रूज़वेल्ट के साथ विंस्टन चर्चिल, तस्वीर दिसंबर 1941 की है

रूज़वेल्ट और चर्चिल

इस घटना के बाद राष्ट्रपति का परिवार ब्लेयर हाउस में शिफ्ट कर गया. रूजवेल्ट प्रशासन ने विदेशी मेहमानों को ठहराने के लिए कुछ अरसे पहले ही ब्लेयर हाउस खरीदा था.

इन विदेशी मेहमानों में ब्रिटेन के प्रधानमंत्री विंस्टन चर्चिल का नाम खासतौर पर लिया जाता है. रूज़वेल्ट और चर्चिल की दोस्ती के क़िस्से ख़ूब मशहूर रहे हैं.

चर्चिल अपनी अमरीका यात्रा के दौरान व्हॉइट हाउस में रुका करते थे और मुंह में सिगार दबाए रूज़वेल्ट के साथ अक्सर दिख जाते थे.

कहा जाता है कि चर्चिल और रूज़वेल्ट के रिश्ते इतने बेतक्कलुफी भरे थे कि चर्चिल राजनीतिक मुद्दों पर चर्चा के लिए उनके बेडरूम में आधी रात के वक्त भी आ धमकते थे.

दूसरी तरफ़ व्हॉइट हाउस में फ़र्स्ट लेडी एलिजाबेथ बेस ट्रूमैन को वॉशिंटगन कोई ख़ास रास नहीं आ रहा था.

इमेज कॉपीरइट Central Press/Getty Images

हैरी और एलिजाबेथ

उन्हें पूर्व फ़र्स्ट लेडी एलियानोर रूज़वेल्ट से अपनी तुलना किया जाना भी पसंद नहीं था. एलिजाबेथ ट्रूमैन को फ़र्स्ट लेडी की अपनी भूमिका में कोई ज्यादा दिलचस्पी नहीं थी.

वे अपने पति की पत्नी बनकर रहना चाहती थीं, भले ही उनके पति अमरीका के राष्ट्रपति थे. एलिजाबेथ और हैरी स्कूल के दिनों से एक दूसरे से जानते थे.

पहले विश्व युद्ध के दिनों में एलिजाबेथ हैरी के खेतों से लौटने का इंतज़ार किया करती थीं. सालों साथ रहने के बावजूद दोनों का रिश्ता गर्मजोशी भरा था.

वे दोनों एक दूसरे के इतना करीब थे कि जब एलिजाबेथ और मैरी मार्ग्रेट वॉशिंगटन से अपने गृह राज्य मिसूरी चली गईं तो हैरी ट्रूमैन ख़ुद को अकेला महसूस करने लगे.

आप पूछेंगे कि इसमें स्कैंडल क्या है. 1949 में एलिजाबेथ चार महीनों के लिए वॉशिंगटन से बाहर गईं और सितंबर में अपनी बेटी के लौटने के ठीक एक दिन पहले वापस लौटीं.

इमेज कॉपीरइट Hulton Archive/Getty Images

स्कैंडल वाली कहानी

ब्लेयर हाउस में एलिजाबेथ हैरी का खाने की मेज़ पर इंतज़ार कर रही थीं. हैरी ट्रूमैन वहां पहुंचे, नौकरों को जाने के लिए कहा.

सिक्रेट सर्विस के दस्तावेज़ों के मुताबिक़ वे दोनों हाई स्कूल के बच्चों की तरह बर्ताव कर रहे थे जिनके मां-बाप शहर से बाहर हों.

अगली सुबह एलिजाबेथ ट्रूमैन ने अपने बटलर से थोड़ा सकुचाते हुए कहा, ''ब्लेयर हाउस के चार पलंग रात में टूट गए हैं. क्या उन्हें बदला जा सकता है?''

राष्ट्रपति हैरी ट्रूमैन की उम्र उस वक्त 65 साल थी और एलिजाबेथ 64 साल कीं.

ब्लेयर हाउस की इस घटना के बाद ट्रूमैन ने एक चुनाव और जीता और कार्यकाल खत्म होने के बाद राजनीति छोड़ दी.

ट्रूमैन दंपती मिसूरी जाकर रहने लगे. साल 1972 में हैरी ट्रूमैन की मौत से पहले दोनों मिसूरी में खुशहाली से साथ रहे.

ट्रूमैन की मौत के दस साल बाद एलिजाबेथ की मौत हुई और उन्हें भी हैरी ट्रूमैन के बगल में दफ्न किया गया.

(बीबीसी रूसी सेवा पर मूल कहानी पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें.)

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

मिलते-जुलते मुद्दे