तो अंजाम के लिए तैयार रहे भारत: पाकिस्तान

  • 14 जनवरी 2018
पाकिस्तानी सेना के प्रवक्ता मेजर जनरल आसिफ़ गफूर इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption पाकिस्तानी सेना के प्रवक्ता मेजर जनरल आसिफ़ गफूर

भारत के थल सेनाध्यक्ष जनरल बिपिन रावत के बयान पर पाकिस्तान ने कड़ी प्रतिक्रिया दी है.

पाकिस्तान ने भारत की किसी 'संभावित कार्रवाई' को लेकर चेताते हुए कहा है कि 'उसके परमाणु हथियार पूर्व की तरफ से आने वाले किसी ख़तरे से निपटने के लिए ख़ास तौर पर' बनाए गए हैं.

इससे पहले भारत के सेना प्रमुख जनरल बिपिन रावत ने बुधवार को कहा था कि उनकी फौज़ पाकिस्तान की 'परमाणु धमकी' से निपटने के लिए तैयार है और अगर सरकार आदेश दे तो भारतीय सेना पाकिस्तान की सीमा पार करने में संकोच नहीं करेगी.

जनरल रावत ने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा था, हम पाकिस्तान की धमकी (परमाणु) का जवाब देंगे. अगर हमें सचमुच पाकिस्तानियों से मुक़ाबला करना पड़ा और अगर हमें ऐसा करने के लिए कहा गया तो हम ये नहीं कहेंगे कि हम इसलिए सीमा पार नहीं कर सकते हैं क्योंकि उनके पास परमाणु हथियार हैं. हम उनकी परमाणु धमकी का जवाब देंगे.

इतना मुखर होकर क्यों बोल रही है भारतीय सेना?

'चीन यथास्थिति बदलने की कोशिश कर रहा है'

इमेज कॉपीरइट PTI
Image caption जनरल रावत ने ये कहा था कि अगर सरकार आदेश दे तो भारतीय सेना पाकिस्तान की सीमा पार करने में संकोच नहीं करेगी

परमाणु ताक़त

पाकिस्तानी सेना के प्रवक्ता मेजर जनरल आसिफ़ गफूर ने भारत की तरफ़ से किसी हमले की सूरत में जवाबी कार्रवाई को लेकर आगाह किया है.

उन्होंने पाकिस्तान के सरकारी टेलीविज़न चैनल पर कहा, "वे ऐसा करना चाहते हैं तो बेशक ये उनका चुनाव होगा. अगर वे हमारे धीरज का इम्तेहान लेना चाहते हैं तो वे ऐसा कर सकते हैं लेकिन फिर इसके अंजाम के लिए भी तैयार रहें."

मेजर जनरल आसिफ़ गफूर ने ये भी कहा कि जनरल रावत की टिप्पणी किसी आर्मी जनरल को शोभा नहीं देती.

आसिफ़ गफूर का कहना है, "पाकिस्तान की परमाणु ताक़त को देखते हुए भारत कोई पारंपरिक युद्ध लड़ने की स्थिति में नहीं है. लेकिन हम ये भी मानते हैं कि ये एक प्रतिरोध का हथियार है."

किसके सुर से सुर मिला रहे हैं जनरल रावत?

पार्ट-टाइम रक्षा मंत्री और ओवर-टाइम जनरल

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

मिलते-जुलते मुद्दे