इसराइल का ये 'तंदूरी' रेस्तरां है नेतन्याहू का पसंदीदा

  • 16 जनवरी 2018
इसराइल, तंदूरी, तंदूरी तेल अवीव, रीना पुष्करना, नरेंद्र मोदी, बेंजामिन नेतान्याहू

यरूशलम से एक घंटे की दूरी पर हरज़िल्या पिटूच शहर में एक "तंदूरी" नाम का भारतीय रेस्तरां है.

इसकी एक शाखा तेल अवीव में भी है जहाँ इन दिनों भारत के दौरे पर आए इसराइल के प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू और उनकी पत्नी सारा नेतान्याहू की पहली डेट हुई थी.

फीका पड़ गया है भारत और इसराइल का रोमांस?

भारत के लिए क्यों ज़रूरी है इसराइल?

तंदूरी रेस्तरां की मालिक रीना पुष्करना सारा नेतन्याहू की दोस्त हैं. वो एक-दूसरे को 20 साल से ज्यादा समय से जानते हैं. उस समय नेतन्याहू राजनीति में दाख़िल हुए थे.

रीना प्रधानमंत्री नेतान्याहू के डेलीगेशन में शामिल उनकी मेहमान की हैसियत से भारत के दौरे पर भी आई हैं.

हमारी मुलाक़ात उनके रेस्तरां हुई जहाँ ग्राहक कम थे लेकिन वो सबसे व्यक्तिगत रूप से गर्मजोशी से मिल रही थीं.

अपनी पहली डेट के बारे में पिछले साल नेतन्याहू ने ख़ुद उस समय बताया था जब भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी यहाँ आए थे.

तीन धर्मों वाले यरूशलम की आंखोंदेखी हक़ीक़त

भारत ने इसराइल का साथ क्यों नहीं दिया?

क्या कहती हैं पुष्करना

"हमने यरूशमल में पहला "कोशर" हिंदुस्तानी रेस्तरां खोला था. इसका उद्घाटन प्रधानमंत्री ईशाक रेबिन ने किया था.

इमेज कॉपीरइट Empics

"तब प्रधानमंत्री नेतन्याहू और मिसेज़ नेतन्याहू रेस्तरां की ओपनिंग के लिए आए थे और जैसा कि प्रधानमंत्री नेतन्याहू ने पूरी दुनिया को बताया कि सारा के साथ उनकी पहली डेट तंदूरी तेल अवीव में हुई थी."

उनका दावा था, "मुझे याद है कि क़रीब 20 साल पहले उन्हीं ने मुझसे कहा था कि जब मैं प्रधानमंत्री बनूँगा और मैं हिंदुस्तान जाऊँगा तो रीना मैं ज़रूर आपको इनवाइट करूँगा."

मोदी के लिए मंगाया खाना

इसराइली प्रधानमंत्री ने अपना वादा निभाया. पुष्करना उनके साथ भारत गईं.

भारत और इसराइल के बीच कूटनीतिक सम्बंध 1992 में शुरू हुए थे. लेकिन, इससे पहले दोनों पक्षों के बीच कई मुलाक़ातें पुष्करना के रेस्तरां में हुई थीं.

वो कहती हैं, "पहली जो डेलीगेशन थी उनका हमने यहाँ पर स्वागत किया. हम तो बेचैनी से इंतज़ार कर रहे थे कि हमारा हिंदुस्तानी प्रतिनिधित्व हो."

भारत के प्रधानमंत्री मोदी पिछले साल जब इसराइल आए थे तो नेतन्याहू ने उनके लिए शाकाहारी खाने का इंतज़ाम पुष्करना से करवाया था.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

मिलते-जुलते मुद्दे