इस सुपरमार्केट से बिना कैश, कार्ड के कीजिए शॉपिंग

  • 22 जनवरी 2018
इमेज कॉपीरइट Getty Images

अक्सर किसी सुपरमार्केट में ख़रीदारी करने के लिए जाते वक्त अपने बैग को बाहर जमा करवाना पड़ता है और फिर सामान ख़रीदने के बाद पेमेंट के लिए लंबी लाइन में लगना पड़ता है.

लेकिन अमेज़ॉन ने ग्राहकों को इस झंझट से बचाने के लिए अपना पहला सुपरमार्केट खोला है और इसे नाम दिया है अमेज़ॉन गो.

यहां ग्राहकों का सामान चैक करने के लिए कोई नहीं होगा. सिर्फ़ ग्राहक होंगे और स्टोर का कोई कर्मचारी नहीं होगा.

अमरीका में वॉशिंगटन के सिएटल में स्थित स्टोर में कैमरे लगे हुए हैं. जो शॉपिंग करने आये ग्राहकों पर नज़र रखते हैं.

इमेज कॉपीरइट Reuters

इन सबके के लिए बस स्मार्टफ़ोन में अमेजॉन गो ऐप की ज़रूरत है. इस ऐप के साथ अमेज़ॉन गो सुपरमार्केट में जाइए, शॉपिंग कीजिए और आराम से स्टोर से बाहर चले आइए. कोई लाइन लगाने की ज़रूरत नहीं और न ही किसी तरह के चेकआउट का झंझट.

सामान लेने पर वह वर्चुअल कार्ट में जुड़ जाएगा, अगर किसी भी चीज को वापस रखते हैं तो वो अपने आप वर्चुअल कार्ट से हट जाएगा. स्टोर से बाहर आने पर इलेक्ट्रॉनिक रसीद जारी हो जाएगी.

ये स्टोर दिसम्बर, 2016 में ऑनलाइन रिटेल के कर्मचारियों के लिए खोला गया था. और उम्मीद की जा रही थी कि ये आम लोगों को जल्द सेवाएं देना शुरू करेगा.

लेकिन एक ही तरह दिखने वाले ख़रीदारों को सही तरह से पहचानने में कुछ प्रारम्भिक समस्याएं आईं. दिक्कत तब भी हुई जब कई बार बच्चों ने सामान उठाकर कहीं दूसरे खाने में रख दिया.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

अमेज़ॉन गो के प्रमुख गियाना प्युरिनी बताते हैं कि स्टोर को टेस्ट फेज़ के दौरान ठीक तरह से संचालित किया गया.

हालांकि अभी तक अमेज़ॉन ने ये नहीं कहा है कि वो और भी अमेज़ॉन गो स्टोर खोलेगा.

अभी कंपनी की अपने सैकड़ो होल फूड स्टोर्स के लिए ऐसी तकनीकी मुहैया कराने की योजना नहीं है. हालाँकि कंपनी इस बात से बखूबी वाकिफ़ है कि ग्राहक जितनी जल्दी अपनी ख़रीदारी पूरी करेंगे, उनके स्टोर में लौटने की संभावना उतनी ही अधिक है.

जब अमेज़न के डिलिवरी बॉक्स में गिरी हीरे की अंगूठी

अमेज़न के इस ऐश-ट्रे पर लोगों में गुस्सा

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए