उत्तर कोरिया ने म्यांमार तक पहुँचाई मिसाइलें: संयुक्त राष्ट्र

  • 3 फरवरी 2018
उत्तर कोरिया, प्योंगयांग, किम जोंग उन इमेज कॉपीरइट Getty Images

संयुक्त राष्ट्र की एक रिपोर्ट में कहा गया है कि उत्तर कोरिया ने जानलेवा रासायनिक हथियार बनाने में सीरिया की मदद की.

विशेषज्ञों की एक टीम द्वारा तैयार इस रिपोर्ट में ये भी कहा गया है कि इसने म्यांमार को बैलिस्टिक मिसाइलें उपलब्ध कराईं.

रिपोर्ट में दावा किया गया है कि इस बात के सबूत मौजूद हैं कि उत्तर कोरिया ने सीरिया और म्यांमार की मदद की.

इमेज कॉपीरइट AFP

रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि म्यांमार और सीरिया में सेना ने निर्यात में मदद की, इस बात के भी सबूत हैं.

जब उत्तर कोरिया ने अमरीका को घुटने टिका दिए

बीबीसी विशेष: उत्तर कोरिया से बच भागे, लेकिन...

हालांकि संयुक्त राष्ट्र में म्यांमार के राजदूत का कहना है कि उनके देश का उत्तर कोरिया के साथ कोई सैन्य सम्बन्ध नहीं है.

रिपोर्ट के मुताबिक उत्तर कोरिया ने प्रतिबन्धित वस्तुओं का निर्यात करके पिछले साल तकरीबन 200 मिलियन डॉलर (तकरीबन 1300 करोड़ रुपये) कमाए.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

प्योंगयांग ने तमाम अंतरराष्ट्रीय व्यापारिक प्रतिबन्धों को दरकिनार करते हुए ये कमाई की.

रिपोर्ट के अनुसार चीन, रूस और मलेशिया समेत कई देश उत्तर कोरिया के ग़ैरकानूनी निर्यातों को रोकने में असफल रहे.

'उत्तर कोरिया की जेल में मैंने शव गाड़े'

नौजवान क्या सोचते हैं अपने देश उत्तर कोरिया के बारे में

बैलिस्टिक मिसाइलों के परीक्षण की वजह से प्योंगयांग पर अमरीका, संयुक्त राष्ट्र और यूरोपीयन यूनियन ने व्यापारिक प्रतिबन्ध लगाए हैं.

इमेज कॉपीरइट Reuters

विशेषज्ञों ने ये रिपोर्ट संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद को सौंपी गई और कहा कि उत्तर कोरिया ने जनवरी से लेकर सितंबर के दौरान (2017) लगभग सभी प्रतिबन्धित सामानों का निर्यात किया.

रिपोर्ट के मुताबिक इस बारे में कई मल्टीनेशनल तेल कंपनियों की जांच हो रही हैं. इन कंपनियों पर उत्तर कोरिया को पेट्रोलियम उत्पाद देने के आरोप हैं. हालांकि कंपनियों के नाम जाहिर नहीं किए गए हैं.

पिछले साल अप्रैल में सीरिया में विद्रोहियों के कब्ज़े वाले इदलिब शहर में हुए संदिग्ध रासायनिक हमले में 11 बच्चों समेत कम से कम 58 लोगों की मौत हो गई थी और दर्जनों लोग ज़ख़्मी हुए थे.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए