मालदीव: पूर्व राष्ट्रपति नशीद ने भारत और अमरीका से मदद मांगी

  • 6 फरवरी 2018
मालदीव के पूर्व राष्ट्रपति मोहम्मद नशीद इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption मालदीव के पूर्व राष्ट्रपति मोहम्मद नशीद

मालदीव के पूर्व राष्ट्रपति मोहम्मद नशीद ने भारत और अमरीका से देश में चल रहे राजनीतिक संकट में हस्तक्षेप करने को कहा है.

मोहम्मद नशीद फ़िलहाल श्रीलंका में रह रहे हैं.

उन्होंने भारत से कैदियों की रिहाई में मदद करने को कहा है और अमरीका से फ़िलहाल सरकार में मौजूद नेताओं के आर्थिक लेन-देन पर रोक लगाने की मांग की है.

मालदीव में फ़िलहाल आपातकाल लगा हुआ है.

संकट की शुरुआत तब हुई जब राष्ट्रपति अब्दुल्ला यमीन ने सुप्रीम कोर्ट के उस आदेश को मानने से इनकार कर दिया जिसमें अदालत ने उन्हें राजनीतिक क़ैदियों को रिहा करने के लिए कहा था.

इसके बाद राष्ट्रपति ने न सिर्फ़ 15 दिन के आपातकाल का एलान कर दिया बल्कि चीफ़ जस्टिस को भी हिरासत में ले लिया.

विपक्ष ने आरोप लगाया कि सरकार सवाल उठाने वाली आवाज़ों को दबा रही है. लेकिन एक टीवी संदेश में राष्ट्रपति यमीन ने कहा कि जज तख़्तापलट की साजिश रच रहे थे.

मालदीव पर कब-कब छाया संकट

'भारत वहां जाकर मामले में दखल दे'

इस बीच मोहम्मद नशीद ने एक ट्वीट कर कहा कि "मालदीव के लोगों की ओर से हम विनम्रता से मांग करते हैं कि,

1. भारत पूर्व राष्ट्रपति गयूम समेत सभी राजनीतिक क़ैदियों को छुड़ाने के लिए अपना एक राजनियक भेजे जिसे सेना का समर्थन भी हासिल हो. हम चाहते हैं कि भारत वहां जाकर मामले में दखल दे.

2. हम अमरीका से मांग करते हैं कि वह मालदीव की सरकार के सभी नेताओं के अमरीकी बैंकों के ज़रिए होने वाले पैसे के लेन-देन पर रोक लगा दे."

मोहम्मद नशीद ने एक बयान भी जारी किया जिसमें उन्होंने कहा कि "राष्ट्रपति यमीन ने ग़ैरक़ानूनी तरीक़े से मार्शल लॉ लगाया है. हमें उन्हें सत्ता से हटा देना चाहिए."

मालदीव सरकार के इस कदम की विपक्ष और कई देशों की सरकारों ने निंदा की है. अमरीका ने भी इस पर चिंता ज़ाहिर की है.

मालदीव सरकार ने सुरक्षाबलों से कहा, कोर्ट के निर्देश ना मानें

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

मिलते-जुलते मुद्दे