विंटर ओलंपिक से पहले किम जोंग उन ने क्यों दिखाई ' सैन्य ताक़त'?

  • 8 फरवरी 2018
सेना का 70वां स्थापना दिवस इमेज कॉपीरइट Reuters

उत्तर कोरिया ने पड़ोसी देश दक्षिण कोरिया में शुक्रवार से शुरू हो रहे शीतकालीन ओलंपिक खेलों से ठीक एक दिन पहले शक्ति प्रदर्शन किया.

उत्तर कोरिया के शासक किम जोंग उन अपनी सेना की ताक़त देखने के लिए मौजूद रहे, हालांकि सैन्य परेड का टेलीविजन पर सीधा प्रसारण नहीं था और ख़बरों में कहा गया कि टेलीविजन पहले की फ़ुटेज दिखा रहा था.

आमतौर पर उत्तर कोरिया दुनिया के सामने अपनी ताक़त का प्रदर्शन हर साल अप्रैल के महीने में करता है, लेकिन इस बार उसने ये प्रदर्शन उस वक़्त किया है जब दुनिया भर के देशों के खिलाड़ी उसके पड़ोसी देश दक्षिण कोरिया में शीतकालीन ओलंपिक खेलों के लिए जुट रहे हैं.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

दक्षिण कोरिया जाएंगी किम जोंग-उन की बहन

उत्तर कोरिया ने भी उम्मीद के उलट इन खेलों में अपने खिलाड़ियों को भेजने का फ़ैसला किया है. उद्घाटन समारोह में उत्तर और दक्षिण कोरिया की टीमें एक ही झंडे के तले मार्च पास्ट में हिस्सा लेंगी.

दक्षिण कोरिया ने गुरुवार को घोषणा की कि उसके राष्ट्रपति शनिवार को उत्तर कोरिया के ओलंपिक दल से मुलाक़ात करेंगे. इस ओलंपिक दल में किम जोंग उन की बहन किम यो जोंग भी शामिल हैं.

किम यो-जोंग पूर्व उत्तर कोरियाई शासक किम जोंग-इल की सबसे छोटी बेटी हैं. पिछले साल उनकी राजनीतिक भूमिका बड़ी करते हुए उन्हें पोलितब्यूरो में शामिल किया गया था.

परेड के बारे में हम क्या जानते हैं?

इमेज कॉपीरइट AFP

गुरुवार को उत्तर कोरिया का सरकारी टेलीविजन सैन्य परेड का प्रसारण करने लगा. सैन्य परेड के बारे में पहले से कोई जानकारी नहीं थी.

हालाँकि ये सैन्य परेड पिछले कुछ सालों में होने वाली परेड के मुक़ाबले छोटी थी और टेलीविजन फ़ुटेज में दिख रहा है कि किम जोंग उन परेड का जायज़ा ले रहे हैं. साथ में उनकी पत्नी रि सोल जु भी हैं. परेड में भारी हथियारों का भी प्रदर्शन किया गया.

किम जोंग उन ने कहा कि 'उत्तर कोरिया विश्व स्तरीय सैन्य ताक़त' बन गया है.

ये सालाना प्रदर्शन आमतौर पर अप्रैल में कोरियाई पीपल्स आर्मी के स्थापना दिवस के मौके पर होता है, पिछले 40 सालों में ये पहली बार है जब इसका आयोजन अप्रैल के बजाय फ़रवरी में किया गया है.

उत्तर कोरिया में इस तरह की सैन्य परेड को उच्च प्राथमिकता में रखा जाता है और एक तरह से दुनिया को दिखाया जाता है कि उसकी सेना में कितना दम है. पिछले साल यानी 2017 में उत्तर कोरिया ने अपनी सैन्य परेड का सीधा प्रसारण सरकारी टेलीविजन पर किया था और इसे कवर करने के लिए कई विदेशी पत्रकारों को भी आमंत्रित किया था.

इमेज कॉपीरइट KCNA

पिछले महीने दक्षिण कोरिया की सरकार ने कहा था कि राजधानी प्योंगयांग के एक एयरपोर्ट के पास तकरीबन 13 हज़ार सैनिकों और 200 बड़े सैन्य हथियारों को देखा गया है. लगता है कि ये सैनिक और हथियार इसी सैन्य परेड की रिहर्सल का हिस्सा थे.

'ढोंग है उत्तर कोरिया की दोस्ती क्योंकि...'

ग्राउंड रिपोर्ट: उत्तर कोरिया बॉर्डर की सुरंगें, बंकर और लैंडमाइन

सैन्य परेड अभी क्यों?

इमेज कॉपीरइट Getty Images

अमरीका और अन्य देशों की परवाह न करते हुए उत्तर कोरिया ने सैन्य परेड का आयोजन किया, तो इसकी वजह ये हो सकती है कि वो दुनिया को अपनी सैन्य ताक़त दिखाने का मौका नहीं गंवाना चाहता.

हसीनाओं की ये टोली है उत्तर कोरिया का नया दांव?

'उत्तर कोरिया की जेल में मैंने शव गाड़े'

लेकिन जानकारों का मानना है कि सैन्य परेड का टेलीविजन पर सीधा प्रसारण न करना दिखाता है कि किम जोंग उन परेड को बहुत बढ़ाचढ़ाकर नहीं दिखाना चाहते.

उत्तर कोरिया पर उसके परमाणु कार्यक्रम को लेकर संयुक्त राष्ट्र ने कड़े प्रतिबंध लगाए हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटरपर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए