इस्लामिक स्टेट के 'बीटल्स गैंग' के आख़िरी दो संदिग्ध गिरफ़्तार

  • 9 फरवरी 2018
एलेक्जेंडा कोटे (बाएं) और अल शफ़ी अल शेख़ इमेज कॉपीरइट KOTEY/FAMILY HANDOUT

अमरीकी अधिकारियों ने कहा है कि चरमपंथी संगठन इस्लामिक स्टेट के दो कथित ब्रितानी सदस्यों को सीरियाई कुर्दिश लड़ाकों ने पकड़ा है.

पकड़े गए कथित ब्रितानी नागरिकों के नाम एलेक्जेंडा कोटे और अल शफ़ी अल शेख़ है. ये कथित इस्लामिक स्टेट के लिए काम कर रहे चार सदस्यीय गैंग के सदस्य थे. ये चारों लंदन के रहने वाले थे और उन्होंने इस गैंग का नाम 'बीटल्स' रखा था.

अमरीकी अधिकारियों का कहना है कि 'मौत के घाट उतारने वाले' इस गैंग ने पश्चिमी देशों के 27 से अधिक बंधकों के सिर कलम किए थे और कई को सख्त यातनाएं दी थी.

इस गैंग का मास्टरमाइंड मोहम्मद एम्वाज़ी था जिसे जिहदी जॉन के नाम से भी जाना जाता था. जिहादी जॉन की सीरिया में 2015 में हुए हवाई हमले में मौत हो गई थी.

आईएस ने की जिहादी जॉन की मौत की पुष्टि

हमले में 'जिहादी जॉन' के मारे जाने की संभावना

गैंग के एक अन्य संदिग्ध आइन डेविस को पिछले साल तुर्की में चरमपंथ के आरोप में जेल में डाल दिया गया था.

अमरीकी अधिकारियों ने इन दो संदिग्धों की गिरफ़्तारी की पुष्टि की है, लेकिन ब्रिटेन के विदेश विभाग ने इस मामले में कोई प्रतिक्रिया देने से ये कहते हुए इनकार किया है कि वो किसी ख़ास, मामले या जांच पर टिप्पणी नहीं करेंगे.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

मिलते-जुलते मुद्दे