द. अफ्रीका: लोगों के लिए बहार बनकर आई ये बारिश

  • 11 फरवरी 2018
केपटाउन में सूखा इमेज कॉपीरइट AFP/Getty Images
Image caption इस बांध के पास अपनी क्षमता का 20 प्रतिशत से कम पानी है और इस अभाव का ताप केपटाउन के लोग महसूस कर रहे हैं

भारत और दक्षिण अफ़्रीका के बीच वनडे सिरीज़ के चौथे मैच में बारिश से खलल पड़ा तो भारत में क्रिकेटप्रेमी कुछ देर के लिए निराश हो गए.

लेकिन दक्षिण अफ़्रीका के ही केपटाउन में लोगों के लिए यह बारिश बहार बनकर आई थी.

मौसम के अनुमानों को सही साबित करते हुए जब आसमान से पानी बरसा तो केपटाउन के लोगों ने जमकर ख़ुशी ज़ाहिर की. कुछ ने ईश्वर को शुक्रिया कहा और कुछ भीगने के लिए सड़कों पर निकल पड़े.

ऐसा इसलिए क्योंकि केपटाउन लंबे समय से सूखे की मार झेल रहा है. यहां पानी की ज़बरदस्त दिक्कत है.

स्थानीय समय के मुताबिक, शुक्रवार की रात वहां 8 मिलीमीटर बारिश दर्ज की गई.

सोशल मीडिया पर हर्षोल्लास

पानी की बचत करने के प्रशासनिक आदेशों के बीच रह रहे लोगों के चेहरे खिल उठे. लोगों ने सोशल मीडिया पर तस्वीरें और वीडियोज़ साझा किए.

पिछले महीने जब भारतीय क्रिकेट टीम केपटाउन में थी तो मीडिया में ऐसी ख़बरें आई थीं कि टीम के खिलाड़ियों के नहाने के लिए सिर्फ दो मिनट का वक़्त दिया जा रहा है, ताकि सूखे से जूझते शहर में पानी की बचत हो सके.

केपटाउन पानी के गंभीर संकट से जूझ रहा है. तीन सालों से यहां बहुत कम बारिश हुई है.

जनवरी में स्थानीय प्रशासन ने नागरिकों के लिए पानी की खपत की अनुमति घटाकर 50 लीटर प्रतिदिन कर दी थी. इसमें वे एक छोटा स्नान और टॉयलेट का इस्तेमाल कर सकते हैं. वॉशिंग मशीन का इस्तेमाल भी हफ़्ते में सिर्फ एक बार तक सिमट गया है.

पढ़ें: दुनिया के 11 बड़े शहर जो बूंद-बूंद पानी को तरसेंगे

'बारिश की ख़ुशबू, इसकी आवाज़'

लिहाजा शुक्रवार की बारिश बहार की तरह आई. लोगों ने पानी जमा किए, अपने पौधों को पानी दिया, सफाई की और टॉयलेट फ्लश किए. @Dr_Eve हैंडल से लिखा गया, "मैं हमेशा बारिश की कीमत याद रखूंगी. इसकी ख़ुशबू, इसकी आवाज़...ख़ुशियों भरा अभिनंदन."

कुछ लोग केपटाउन की सड़कों पर नहाने भी निकल पड़े.

बारिश शायद केपटाउन वासियों के लिए इतनी कीमती कभी नहीं थीं.

एक शख़्स ने लिखा कि उन्होंने ईश्वर से बारिश की प्रार्थना की थी और वह पूरी हो गई है. पसेका एम्बोरो मोत्सोएनेंग ने लिखा, "यह साबित हो गया है कि मैं ईश्वर का असली दूत हूं और मैंने केपटाउन को जो वायदा किया था, वह पूरा हो गया है."

एकबारगी लोग प्रसन्न तो हुए, लेकिन इस बारिश से केपटाउन का जल-संकट ख़त्म नहीं होगा.

शहर में 'डे ज़ीरो' की तारीख़ के ऐलान पर लोगों की नज़रें हैं, जब लोगों के घरों में पानी की आपूर्ति बंद कर दी जाएगी और उन्हें सीमित पानी लेने के लिए तय जगहों पर जाना होगा.

पहले कहा जा रहा था कि यह दिन अप्रैल में आ सकता है, लेकिन अब इसके 11 मई तक आने के आसार हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

मिलते-जुलते मुद्दे