30 सालों में सीरिया पर इसराइल के सबसे बड़े हमले

इसराइली लड़ाकू विमान

इमेज स्रोत, AFP GETTY

इसराइल का कहना है कि उसने बीते तीस वर्षों में सीरिया पर सबसे बड़े हवाई हमले किए हैं. इसराइली सेना के प्रवक्ता ने बीबीसी को बताया है कि दमिश्क के पास 12 सैन्य ठिकानों को निशाना बनाया गया है. रूस और अमरीका ने इस घटनाक्रम पर चिंता जताई है.

इसराइली वायुसेना के वरिष्ठ जनरल तोमर बार ने कहा कि साल 1982 के लेबनान युद्ध के बाद यह सीरिया के ख़िलाफ सबसे बड़ा हमला है.

इसराइली सेना ने पहली बार सीरिया में ईरानी सैन्य ठिकानों को निशाना बनाने का दावा भी किया है. इससे पहले शनिवार को सीरियाई सेना ने एक इसराइली लड़ाकू जेट को मार गिराया था.

'12 ठिकानों को निशाना बनाया'

इमेज स्रोत, EPA

इमेज कैप्शन,

सीरिया इसराइल सीमा पर एंटी-एयरक्राफ्ट फायर का धुआं

सीरियाई गोलीबारी का निशाना बनने के बाद ये जेट इसराइली क्षेत्र में गिरा था. वहीं अमरीका और रूस का कहना है कि वो सीरिया और इसराइल की सीमा पर बड़ी हिंसा को लेकर चिंतित हैं.

बीबीसी से बात करते हुए इसराइल सेना के प्रवक्ता जोनाथन कोनरीकस ने कहा, "हमने ख़ासतौर पर 12 अलग-अलग ठिकानों को निशाना बनाया जिनमें से 8 सीरिया की हवाई रक्षा प्रणाली से जुड़े हैं. ये वहीं हैं जिनसे इसराइली विमान पर मिसाइलें दागीं गईं थीं. अन्य चार ठिकाने बेहद ख़ास हैं क्योंकि वो सीरिया के भीतर ईरानी सैन्य ठिकानें थे. ये सभी सीरिया के भीतर ईरान के सैन्य प्रयासों का हिस्सा हैं."

इसराइल का ये भी कहना है कि सीरिया के भीतर सिर्फ़ सैन्य ठिकानों को निशाना बनाया गया है. इससे पहले इसराइल का विमान मार गिराए जाने के बाद इसराइल के प्रधानमंत्री बिंयामिन नेतन्याहू ने बताया कि विमान इसराइली सीमा में घुसे इरानी ड्रोन के लांच स्थल को निशाना बनाने के मिशन पर था.

इमेज स्रोत, Reuters

नेतन्याहू ने कहा, "मैं सीरिया में ईरानी सेना के मोर्चेबंदी को लेकर काफ़ी समय से चेताता रहा हूं. ईरान इसराइल को बर्बाद करने के अपने घोषित उद्देश्य को पूरा करने के लिए सीरियाई क्षेत्र का इस्तेमाल कर रहा है."

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)