रूस: टेक ऑफ़ के 7 मिनट बाद प्लेन क्रैश में 71 की मौत

रूस

रविवार को मॉस्को के दमदज़ियदवा हवाई अड्डे से उड़ान भरने के बाद एक रूसी यात्री विमान दुर्घटनाग्रस्त हो गया. इस विमान में 71 लोग सवार थे.

सारातोफ़ एयरलाइंस का ये विमान उड़ान भरने के कुछ मिनटों बाद ही ग़ायब हो गया.

मॉस्को से 80 किलोमीटर दूर दक्षिण-पूर्व में अरगुनोवो गांव के क़रीब ये विमान दुर्घटनाग्रस्त हुआ. स्थानीय समय के अनुसार दोपहर के समय विमान दुर्घटनाग्रस्त हुआ.

रूसी मीडिया से अधिकारियों ने कहा है कि विमान में सवार सभी लोग मारे गए हैं. विमान पर सवार 71 लोगों में 65 मुसाफिर थे और छह चालक दल के सदस्य.

एंटोनफ़ एन-148 विमान कज़ाकिस्तान की सीमा के नज़दीक यूराल्स के ओरस्क जा रहा था.

इमेज कैप्शन,

दक्षिण-पूर्व मॉस्को के बर्फ़ीले मैदान में विमान का मलबा मिला है

बर्फ़ीले मैदान में विमान का मलबा

एयरलाइंस सेक्टर पर नज़र रखने वाली वेबसाइट फ़्लाइटरडार24 ने ट्वीट कर बताया है कि उड़ान भरने के पांच मिनट के बाद विमान 1,000 मीटर (3,300 फ़ुट) प्रति मिनट की गति से नीचे आने लगा.

दुर्घटनास्थल की तस्वीरों में बर्फ़ीले मैदान में विमान का मलबा साफ़ देखा जा सकता है.

तास समाचार एजेंसी ने एक अधिकारी के हवाले से बताया है कि मलबे के नज़दीक ही शव मिले हैं.

राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने पीड़ितों के परिजनों के प्रति सहानुभूति प्रकट की है और दुर्घटना के कारणों की जांच के आदेश दिए हैं.

रूस के गज़ेटा डॉट आरयू वेबसाइट ने अज्ञात जांचकर्ताओं के हवाले से कहा है कि पायलट ने एक ख़राबी के बारे में बताया था और आपातकालीन लैंडिंग का अनुरोध किया था.

क्षेत्रीय गवर्नर के प्रवक्ता ने इंटरफैक्स समाचार एजेंसी से कहा कि सभी 65 यात्री उस रूसी क्षेत्र ओरेनबर्ग के थे जहां पर विमान उड़ रहा था.

हवाई सफ़र के लिए बीता साल काफ़ी अच्छा रहा था क्योंकि एक भी व्यावसायिक यात्री विमान दुर्घटनाग्रस्त नहीं हुआ था.

इमेज कैप्शन,

घटनास्थल पर चलता खोजी अभियान

रूस में बड़े हवाई हादसे

रूस में हाल के सालों में दो बड़े विमान हादसे हुए हैं.

  • 25 दिसंबर 2016 को काला सागर में टीयू-154 मिलिट्री एयरलाइनर विमान दुर्घटनाग्रस्त हो गया था जिसमें सवार सभी 92 लोगों की मौत हो गई थी. इस घटना के लिए पायलट की गलती को ज़िम्मेदार बताया गया.
  • 31 अक्टूबर 2015 को रूसी एयरबस ए321 विमान मिस्र के शिनाई में हादसे का शिकार हुआ था जिसमें सवार सभी 224 लोगों की मौत हो गई थी. इस्लामिक स्टेट समूह ने कहा था कि उसने विमान में बम लगाया था.

विमानन कंपनी पर लग चुका है प्रतिबंध

सारातोफ़ विमानन कंपनी मॉस्को से 840 किलोमीटर दक्षिण-पूर्व में सारातोफ़ में स्थित है.

साल 2015 में इसकी अंतर्राष्ट्रीय उड़ानों पर प्रतिबंध लगा दिया गया था क्योंकि निरीक्षण के दौरान क्रू सदस्यों को छोड़कर कोई दूसरा शख़्स कॉकपिट में पाया गया था.

विमानन कंपनी ने प्रतिबंध के ख़िलाफ़ अपील की थी और 2016 में दोबारा अंतर्राष्ट्रीय उड़ानें शुरू करने से पहले अपनी नीतियों में परिवर्तन किया था.

मुख्यतौर पर इस कंपनी की उड़ानें रूसी शहरों के लिए होती हैं लेकिन अरमेनिया और जॉर्जिया में भी इसकी कुछ उड़ानें जाती हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)