कंबोडिया: पॉर्न फ़िल्म बनाने के आरोप में विदेशी पर्यटकों को वापस भेजा

  • 13 फरवरी 2018
कंबोडिया गए पर्यटक इमेज कॉपीरइट PA
Image caption 10 विदेशी पर्यटकों की तस्वीर कंबोडिया पुलिस ने प्रकाशित की थी

पॉर्न फ़िल्म बनाने के आरोप में कंबोडिया ने 10 विदेशी पर्यटकों में से सात को निर्वासित कर दिया है.

देश के उत्तर-पश्चिम सीम रीप में एक पार्टी के दौरान यौन कर्म की नकल की तस्वीरें सामने आई थीं जिसके बाद जनवरी में इन लोगों को को गिरफ़्तार किया गया था.

इनमें से सात लोग ब्रिटेन, न्यूज़ीलैंड और कनाडा के हैं जिन्हें पिछले सप्ताह ज़मानत दे दी गई थी और अब ये देश छोड़ चुके हैं.

बाकी के तीन लोग ब्रिटेन, नॉर्वे और नीदरलैंड्स के हैं जिन पर कथित तौर पर पार्टी आयोजित करने का मामला चलेगा.

सभी दस लोगों ने अपने ख़िलाफ़ लगे आरोपों से इनक़ार किया है. उनका कहना है कि वे निर्वस्त्र नहीं थे और न ही उन्होंने कोई पॉर्न सामग्री बनाई है.

रिपोर्टों के अनुसार, जिन सात लोगों को निर्वासित किया गया है उनके ज़मानती फ़ैसले में कंबोडिया छोड़ना और वापस न आना शामिल था, हालांकि उनके ख़िलाफ़ आरोपों को वापस नहीं लिया गया है.

BBC SPECIAL: 'बेटे ने रेप किया और बाप उसे पोर्न दिखाता रहा'

'फ़ेक न्यूज़' के बाद अब आया 'फ़ेक पॉर्न'

एक वेबसाइट ने छापी थीं तस्वीरें

इमेज कॉपीरइट WWW.POLICE.GOV.KH
Image caption पार्टी में यौन कृत्य की नकल करते लोगों की तस्वीर पुलिस ने जारी की थी

इस घटना की तस्वीरें एक वेबसाइट पर डाली गई थीं जिसमें कई जोड़े कपड़ों या स्विम वियर में एक होटल में यौन कृत्य का अभिनय कर रहे थे.

सीम रीप शहर कंबोडिया के पर्यटन आकर्षण के केंद्र अंकोरवाट मंदिर परिसर का प्रवेश द्वार है.

पर्यटकों में यह शहर हाल के दिनों में काफ़ी प्रसिद्ध हुआ है. पिछले कुछ सालों में इस शहर की 'नाइटलाइफ़' भी तेज़ी से विकसित हुई है. ज़ाहिरन, कई बार यह नाइटलाइफ कंबोडिया की सामाजिक रूप से रूढ़िवादी संस्कृति से मेल नहीं खाती.

'मुझे सेक्स इतना पसंद था कि पोर्न में चली गई'

पोर्न की लत से दरक सकता है रिश्ता!

ट्रंप के ख़िलाफ़ सबूत देने पर 'पोर्न किंग' देंगे करोड़ों का इनाम

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

मिलते-जुलते मुद्दे