बिल नहीं चुकाया तो अस्पताल ने पांच महीने तक बेबी को बंधक बनाया

  • 14 फरवरी 2018
गबोन

अफ़्रीका के एक देश गबोन में एक मां ने जन्म के पांच महीने बाद अपनी नन्ही सी जान को एक निजी अस्पताल के चंगुल से आज़ाद कराने के बाद राहत की सांस ली है.

गबोन के एक निजी अस्पताल ने बिल बकाया रहने की वजह से बेबी ऐंजल को उसकी मां से दूर रखा हुआ था.

'ज़िन्दा शिशु को मृत बताने की जांच के आदेश'

इलाज के नाम पर अस्पताल 'लूटे' तो क्या करें?

ये मामला सामने आने के बाद पूरे देश में इस परिवार के लिए एक अभियान चलाया गया.

इसके तहत $3,630 की राशि जमा करके अस्पताल का बिल चुकाया गया.

ख़ास बात ये है कि गबोन के राष्ट्रपति अली बोंगो ने भी इस अभियान के तहत कुछ राशि जमा की थी.

''मेरे ज़िंदा बच्चे को मेरी मरी हुई बच्ची के साथ सुला रखा था''

गबोन की राजधानी लिबरविले में मौजूद बीबीसी संवाददाता चार्ल्स स्टीफन मवोनगोऊ बताते हैं, "बीते सोमवार इस मामले से जुड़े निजी अस्पताल के निदेशक पर बच्चे के अपहरण का मामला दर्ज करके उन्हें गिरफ़्तार किया गया था. लेकिन एक दिन बाद ये आरोप वापस ले लिए गए."

बेबी ऐंजल को अब आख़िरकार पांच महीने बाद क्लिनिक से बाहर निकलने दिया जा रहा है.

बच्ची की मां सोनिया ओकोमे ने बीबीसी से बात करते हुए कहा, "मैं अपनी बच्ची को वापस पाकर खुश हूं लेकिन मुझे ख़ेद है कि मैं इसे अपना दूध नहीं पिला सकती. क्योंकि बीते पांच महीनों में मेरा पूरा दूध चला गया है."

गबोन की स्थानीय मीडिया के मुताबिक़, प्रीमेच्योर स्थिति में पैदा होने की वजह बेबी ऐंजल को 35 दिनों तक इनक्यूबेटर में रखना पड़ा था और ये बिल इसी चीज़ का था.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉयड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए