अमरीका: स्कूल में गोलीबारी से 17 की मौत, संदिग्ध गिरफ़्तार

  • 15 फरवरी 2018
school इमेज कॉपीरइट Reuters

अमरीका के फ़्लोरिडा राज्य में पार्कलैंड की पुलिस का कहना है कि एक स्कूल में हुई गोलीबारी में कम से कम 17 लोगों की मौत हो गई.

गोलीबारी के संदिग्ध का नाम निकोलस क्रूज़ बताया जा रहा है. 19 साल के निकोलस स्कूल के पूर्व छात्र हैं जिन्हें स्कूल से निकाल दिया गया था.

स्थानीय अधिकारियों ने सीबीएस न्यूज़ को बताया कि निकोलस ने स्कूल में फायर अलॉर्म बजाया जिसे लेकर अफरा तफरी की स्थिति हो गई और उसके बाद उन्होंने गोलियां चलानी शुरू कर दी.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

हिरासत में गोलीबारी करने वाला

स्कूल के छात्र कक्षाओं में छिप गए और पुलिस ने इमारत को घेर लिया.

गोलीबारी शुरू होने के एक घंटे से ज्यादा वक्त बाद ब्रोवार्ड काउंटी के शेरिफ कार्यालय ने जानकारी दी, "गोलीबारी करने वाले शख्स को हिरासत में ले लिया गया है."

इमेज कॉपीरइट AFP

शेरिफ़ कार्यालय के मुताबिक़, "अब तक 14 पीड़ितों के बारे में जानकारी मिली है."

हालांकि उनकी स्थिति के बारे में जानकारी नहीं दी गई.

इसके पहले स्टोनमैन डगलस हाईस्कूल के सुपरिटेंडेंट रॉबर्ट रन्सी ने पत्रकारों को बताया, "यहां कुछ लोग हताहत हुए हैं."

मदद में जुटा प्रशासन

उन्होंने बताया कि संदिग्ध "संभवत: पूर्व छात्र था और हमें लगता है कि उसे हिरासत में ले लिया गया है."

एफ़बीआई का कहना है कि वो मौके पर स्थानीय प्रशासन की मदद में जुटी है.

अमरीकी टीवी चैनलों के मुताबिक़ स्कूल में पढ़ने वाले छात्रों के माता पिता बड़ी संख्या में पुलिस परिसर के बाहर जमा हो गए हैं.

इमेज कॉपीरइट EPA

व्हाइट हाउस की प्रवक्ता लिंडसे वाल्टर्स ने बताया, "राष्ट्रपति को फ्लोरिडा के स्कूल में हुई गोलीबारी की जानकारी दे दी गई है. हम स्थिति पर नज़र रखे हुए हैं. प्रभावित लोगों के साथ हमारी प्रार्थनाएं हैं."

फ्लोरिडा के गवर्नर रिक स्कॉट ने बताया कि उन्होंने गोलीबारी को लेकर राष्ट्रपति ट्रंप से बातचीत की है.

राष्ट्रपति ट्रंप ने ट्विटर पर पीड़ित परिवारों को सांत्वना दी है.

साल 2013 से अमरीका में स्कूलों में गोलीबारी के 291 मामले सामने आए हैं. यानी औसत देखें तो हर हफ्ते स्कूल में गोलीबारी का एक मामला हुआ है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

मिलते-जुलते मुद्दे