ज़ैनब के बलात्कारी को मिली चार बार मौत की सज़ा

  • 17 फरवरी 2018
जैनब इमेज कॉपीरइट AFP

पाकिस्तान की एक कोर्ट ने छह साल की बच्ची ज़ैनब अंसारी के साथ रेप और हत्या के मामले में अभियुक्त इमरान अली को चार मृत्युदंड देने का फ़ैसला दिया है.

4 जनवरी को क़ुरान की क्लास के लिये जाते हुए ज़ैनब अंसारी कसूर से गायब हो गई थी.

ज़ैनब को आखिरी बार एक सीसीटीवी फुटेज में एक अज्ञात आदमी का हाथ पकड़ कर जाते हुए देखा गया. कुछ दिनों बाद उसका शव एक कचरे के ढेर से मिला.

1150 मर्दों की डीएनए जांच से ज़ैनब का संदिग्ध हत्यारा गिरफ्तार

इस मामले के बाद पाकिस्तान के कई शहरों में हुई हिंसा में दो लोगों की जान गई थी.

Image caption इमरान अरशद अली

ज़ैनब के पिता भारी सुरक्षा के बीच इस मामले का फ़ैसला सुनने के लिए कोर्ट पहुंचे थे.

पाक पुलिस और पंजाब के मुख्यमंत्री ने ज़ैनब के क़ातिल का संबंध बीते साल हुई बाल यौन शोषण के मामलों से भी बताया है.

इमरान अली के ख़िलाफ़ आरोपों की लिस्ट में एक साल पुराने मामले भी हैं. इससे स्थानीय नागरिक गुस्से में हैं और कह रहे हैं कि प्रशासन को इस मामले में जल्द कार्रवाई करनी चाहिए थी.

प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा
पाकिस्तानी बच्ची ज़ेनब की ज़िंदगी के आख़िरी लम्हे

सरकारी वकील एहतिशाम क़ादिर ने न्यूज़ एजेंसी रॉयटर्स से बात करते हुए कहा है कि अली के ख़िलाफ़ दूसरे मामले में सुनवाई बाद में होगी.

अली को अपहरण, बलात्कार, हत्या, आतंकवाद के मामले में चार मृत्युदंड और सोडोमी के मामले में उम्र कैद और भारी जुर्माने की सज़ा दी गई है.

कैसे पकड़ा गया था इमरान अली

इस्लामाबाद में बीबीसी संवाददाता शुमाइला ज़ाफरी के मुताबिक, इमरान कसूर शहर में ही रहता है. इमरान को पकड़ने के लिए सरकार की पुलिस, ख़ुफिया और जांच एजेंसियां बीते कुछ वक्त से जुटी हुई थीं. इसी के तहत ये तय किया गया था कि ज़ैनब के घर के ढाई किलोमीटर के दायरे में रहने वाले 20 से 45 साल के सभी पुरुषों की डीएनए जांच की जाएगी.

कातिल को पकड़ने के लिए 1150 मर्दों के डीएनए जांच की गई.

इमरान का डीएनए न सिर्फ ज़ैनब के रेप मामले में मैच हुआ बल्कि बीते कुछ वक्त से इस इलाके में जिन बच्चियों का रेप और मर्डर हुआ, उनमें भी इमरान का डीएनए मैच हुआ था.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉयड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए