हिंदुस्तानी महिलाओं पर भारी पड़ सकता है ट्रंप का ये 'फ़ैसला'

  • 19 फरवरी 2018
डोनल्ड ट्रंप इमेज कॉपीरइट Getty Images

अमरीका ने दूसरे देशों के उन लोगों को वहां काम करने का अधिकार दिया गया था जिनके पति या पत्नी प्राइमरी वीज़ा पर अमरीका में काम कर रहे हैं.

लेकिन अब अमरीका के राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रंप ओबामा प्रशासन के साल 2015 के इस फ़ैसले को वापस लेना चाहते है.

अगर ट्रंप ये कदम उठाते हैं तो हज़ारों भारतीय और चीनी महिलाओं को नौकरियों से हाथ धोना पड़ जाएगा.

एच1बी वीज़ा में बदलाव का भारतीयों पर असर?

अमरीकी वीज़ा चाहिए तो बताना पड़ेगा ये सब कुछ

प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा
अमरीका में 'एचवनबी' वीज़ा पर बहस

हाइली स्किल्ड वर्कर

नेहा महाजन के बच्चों के लिए अमरीका ही इनका इकलौता घर है. करीब एक दशक पहले नेहा भारत से अमरीका आईं थी.

उनके पति को यहां हाइली स्किल्ड वर्कर यानी कुशल कारीगर के तौर पर वीज़ा मिला हुआ है.

पत्नी होने के नाते नेहा को दो साल पहले ही इस देश में काम करने का अधिकार मिला था. लेकिन अब ट्रंप इस अधिकार को ख़त्म करना चाहते हैं.

नेहा महाजन कहती हैं, "मुझे ऐसा लग रहा है कि मैं फिर से एक सुनहरे पिंजरे में चली गई हूं."

"लगता है जैसे वो मुझे बताना चाहते हैं कि मेरे कौशल और काबिलियत की इस दुनिया में कोई कद्र नहीं है."

"मुझे एक गृहणी बनकर ही रहना होगा, समाज के एक सदस्य के नाते मेरा कोई योगदान नहीं है."

'ट्रंप ने तोड़ा भारतीयों का अमेरिकन ड्रीम'

6 देशों के लोगों को अमरीका नहीं देगा नया वीज़ा

इमेज कॉपीरइट Getty Images

विरोध प्रदर्शन किया गया

कुछ दिनों पहले नेहा समेत कई भारतीयों ने वाशिंगटन में विरोध प्रदर्शन किया था.

चीन और भारत की महिलाओं पर इस प्रस्तावित फ़ैसले का सबसे ज़्यादा असर पड़ेगा क्योंकि इन दोनों देशों से आने वाले प्रवासियों की संख्या काफ़ी ज़्यादा है और यहां पर ज़्यादातर पुरुष ही प्राइमरी वीज़ाधारी हैं.

न्यूयॉर्क से कुछ दूरी पर बसे न्यूजर्सी में एक छोटा सा इलाका मिनी भारत की तरह है.

इस शहर में पिछले कई दशकों से तकनीकी दक्षता रखने वाले भारतीय रह रहे हैं और वो भी एक अमरीकी सपने के साथ.

इन्हें नौकरी पर रखने वाली कंपनियों को भी इनसे काफ़ी फ़ायदा हुआ है क्योंकि भारतीय यहां के कारीगरों के मुकाबले कम सैलेरी पर काम करते हैं.

अमरीकी वीज़ा था फिर भी उन्हें रोक दिया गया

तिब्बती खिलाड़ियों को अमरीकी वीज़ा से इनकार

इमेज कॉपीरइट Getty Images

ओबामा ने दी थी पार्टनर्स को इजाज़त

जब ओबामा सरकार ने प्राइमरी वीज़ा पर काम कर रहे लोगों के पार्टनर्स को काम करने की इजाज़त दी थी, तब भी कई गुटों ने विरोध किया था.

उस फ़ैसले को कोर्ट में भी चुनौती दी गई थी.

लेकिन मौजूदा राष्ट्रपति के विचारों को देखते हुए हो सकता है कि उस केस का कोई ख़ास महत्व नहीं रह जाएगा.

सेंटर फॉर इमिग्रेशन स्टडीज़ की संचार निदेशक माग्रेट टेलफ़ोर्ड कहती हैं, "वो अमरीकी लोगों को रोज़गार देना चाहते हैं. वो उनकी सैलेरी बढ़ाना चाहते हैं."

"अगर आप दूसरे देशों से कारीगर लाते रहेंगे तो इससे कंपनियों को फायदा होगा. उन्हें कम पैसों पर कारीगर मिलेंगे लेकिन अमरीका में रह रहे कारीगरों के लिए नुकसान है."

अमरीकी वीज़ा पर ट्रंप का नया फरमान: 5 ख़ास बातें

ट्रंप के बैन से किसका चैन गया, किसकी उड़ी नींद

इमेज कॉपीरइट Getty Images

भारत जैसे देशों में महिलाओं को सामाजिक दबाव के कारण कई बार अपनी नौकरी छोड़ने के लिए मजबूर होना पड़ता है.

लेकिन अमरीका जैसा देश भी उन्हें काम करने से रोक देगा, ये मानना महिलाओं के लिए थोड़ा मुश्किल है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए