गोलीबारी रोकने के लिए ट्रंप ने किया अध्यापकों को बंदूकें देने का समर्थन

  • 22 फरवरी 2018
डोनल्ड ट्रंप इमेज कॉपीरइट Getty Images

अमरीकी राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रंप ने बंदूकों से होने वाली हिंसा पर व्हाइट हाउस में आयोजित एक कार्यक्रम में स्कूलों के पास गन फ्री ज़ोन ख़त्म करने और अध्यापकों को बंदूकों से लेस करने के प्रति समर्थन जताया है.

उन्होंने कहा, "हथियारबंद अध्यापक हमले को रोक सकता है."

ट्रंप ने उस समय यह सुझाव दिया है जब पिछले हफ़्ते फ़्लोरिडा के स्कूल में गोलीबारी के बाद उनसे यह सुनिश्चित करने की अपील की जा रही है कि ऐसे हमले फिर न हों.

रिपब्लिकन राष्ट्रपति ने बंदूक ख़रीदने वालों की पृष्ठभूमि की सही ढंग से जांच करने की अपीलों का भी समर्थन किया है.

इस बीच हमले में बचे लोगों ने फ़्लोरिडा के जनप्रतिनिधियों के गन कंट्रोल के प्रति जनमत तैयार करने की कोशिश की है.

अमरीका: गन कंट्रोल को लेकर वॉशिंगटन की सड़कों पर उतरेंगे छात्र

गोलीबारी के बाद शूटर ने क्या-क्या किया

इमेज कॉपीरइट Reuters
Image caption इस कार्यक्रम में ट्रंप हाथ में नोट्स लिए नज़र आए

क्या कहा ट्रंप ने

ट्रंप ने बुधवार को आयोजित कार्यक्रम में मेजररी स्टोनमन डगल, हाई स्कूल के छात्रों को बताया, "हम पृष्ठभूमि की जांच सख़्ती से करेंगे और लोगों के मानसिक स्वास्थ्य पर ज़ोर देंगे." इस कार्यक्रम का टीवी पर प्रसारण किया गया.

"अब पहले की तरह बातें नहीं होंगी. बहुत लंबा सिलसिला चला है, कई घटनाएं हो चुकी हैं, अब हम इसे ख़त्म करेंगे."

अमरीकी राष्ट्रपति ने उस प्रस्ताव का भी समर्थन किया, जिसका प्रचार गन लॉबी समूह नैशनल राइफल एसोसिएशन (एनआरए) करता रहा है.

उन्होंने अध्यापकों और अन्य स्टाफ़ को बंदूकों से लैस करने की मांग 'मज़बूती' से समर्थन किया. उन्होंने कहा, "अगर ऐसा अध्यापक है जो हथियार चलाने में माहिर है तो हमले को तुरंत रोका जा सकता है."

गन-फ़्री ज़ोन की आलोचना

ट्रंप ने माना कि अध्यापकों को हथियार देने की योजना विवादित है. उन्होंने स्कूलों में गन-फ़्री ज़ोन की भी आलोचना की.

राष्ट्रपति ने कहा, "गन फ़्री ज़ोन पागलपन है क्योंकि कायर लोग कहते हैं- चलो अंदर चलकर हमला करें."

कौन है अमरीकी स्कूल में गोलियां चलाने वाला शूटर?

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption अमरीका में गन कंट्रोल पर बहस छिड़ी हुई है

ट्रंप ने लगभग 40 छात्रों, अध्यापकों और परिजनों की तरफ़ से भावुक कर देने वाली बातें सुनीं.

ट्रंप की इस मीटिंग से पहले व्हाइट हाउस के बाहर वॉशिंगटन डीसी के उपनगरीय इलाक़ों से आए सैकड़ों छात्रों ने रैली निकाली.

इस बीच फ्लोरिडा शूटिंग में बचे लोगों ने राज्य की राजधानी में जनप्रतिनिधियों से असॉल्ट राइफ़ल की बिक्री पर नियंत्रण लगाने की मांग की.

वो शख़्सियत, जिसे ईश्वर का दूत कहा गया था

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

मिलते-जुलते मुद्दे