सऊदी अरब मनोरंजन पर करेगा अरबों डॉलर खर्च

  • 22 फरवरी 2018
सऊदी अरब इमेज कॉपीरइट Reuters
Image caption सऊदी अरब में दूसरे कदम भी उठाए जा रहे हैं, जैसे सिनेमाहॉल खोलने की इजाजत दी जा रही है

इंटरटेनमेंट इंडस्ट्री और सऊदी अरब, ये दो चीज़ें ऐसी हैं जो अब तक बहुत ज़्यादा मेल नहीं खाती थीं.

लेकिन सऊदी अरब ने ये कहा है कि वो अगले दशक में अपनी एंटरटेनमेंट इंडस्ट्री को विकसित करने के लिए 64 अरब डॉलर का निवेश करेगा.

सऊदी अरब के 'जेनरल एंटरटेनमेंट अथॉरिटी' के चीफ़ ने बताया है कि सिर्फ़ इस साल पांच हज़ार इवेंट्स आयोजित किए जाएंगे.

इमेज कॉपीरइट EPA
Image caption सऊदी क्राउन प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान

रियाद में देश के पहले ओपेरा हाउस के निर्माण का काम शुरू हो गया है. ये निवेश सऊदी अरब के आर्थिक और सामाजिक सुधार कार्यक्रम का हिस्सा है.

दो साल पहले क्राउन प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान ने देश के आर्थिक और सामाजिक सुधार कार्यक्रमों का ख़ाका रखते हुए विज़न 2030 दस्तावेज़ जारी किया था.

सऊदी अरब में क्या-क्या नहीं कर सकतीं महिलाएं?

फुटबॉल मैच में सऊदी महिलाओं ने बनाया इतिहास

सऊदी में बाइक और ट्रक भी चलाएंगी महिलाएं

इमेज कॉपीरइट Reuters
Image caption सऊदी अरब में सर्कस ग्रुप सिर्क्वे इलोइज़ ने पहली बार इस जनवरी में अपना शो किया

इंटरटेनमेंट सेक्टर

32 वर्षीय प्रिंस ये चाहते हैं कि सऊदी अरब की तेल पर निर्भरता कम हो.

इसके तहत लोगों को सांस्कृतिक गतिविधियों और मनोरंजन पर खर्च बढ़ाने के लिए प्रेरित करना भी है. दिसंबर में सरकार ने सिनेमा पर लगी रोक हटा ली थी.

'जेनरल एंटरटेनमेंट अथॉरिटी' के चीफ़ अहमद बिन अल-खातिब को उम्मीद है कि साल 2018 के आख़िर तक एंटरटेनमेंट सेक्टर में 220,000 लोगों को रोज़गार मिलेगा.

पिछले साल तक इस सेक्टर में 17,000 लोग नियोजित थे.

अहमद बिन अल-खातिब ने कहा, "अतीत में निवेशकों को सऊदी अरब के बाहर जाकर अपना काम करना पड़ता था और फिर वापस आकर अपना काम दिखलाते थे. अब चीज़ें बदलेंगी. मनोरंजन से जुड़ा हर काम यहां होगा. खुदा ने चाहा तो साल 2020 तक आप यहां बदलाव देखेंगे."

रियाद के पास लास वेगास की तर्ज पर एक बड़ी एंटरटेनमेंट सिटी की योजना पर पहले से काम किया जा रहा है.

सऊदी अरब में महिलाओं को मिली एक और आज़ादी

सऊदी अरब में बदल रही है महिलाओं की ज़िंदगी

वो फ़ैसले जिन्होंने बदल दी सऊदी महिलाओं की ज़िंदगी

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक औरट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

मिलते-जुलते मुद्दे