अमरीकी अभिनेत्री के ट्वीट से 8500 करोड़ की चपत

  • 23 फरवरी 2018
इमेज कॉपीरइट Getty Images

रियलिटी टीवी स्टार कैली जेनर ने एक ऐसा ट्वीट किया कि सोशल मीडिया मैसेजिंग और मल्टीमीडिया ऐप स्नैपचेट को 1.3 अरब डॉलर यानी करीब 8445 करोड़ रुपये की चपत लग गई.

दरअसल, कैली के एक ट्वीट के बाद स्नैपचेट के शेयर बुरी तरह टूट गया और पलक झपकते ही कंपनी की मार्केट वैल्यू 130 करोड़ डॉलर घट गई.

सैलेब्रेटी किम कारदशियां की सौतेली बहन कैली ने ट्वीट किया, "क्या किसी और ने भी स्नैपचेट को खोलना बंद कर दिया है? या फिर ये सिर्फ़ मैं ही ऐसा कर रही हूं...ओह ये बहुत दुखद है."

स्नैपचेट पर कैली के करीब दो करोड़ 45 लाख फॉलोअर्स हैं और करोड़ों लोग स्नैपचेट का इस्तेमाल कर रहे हैं.

हाल ही में कंपनी ने इसका डिज़ाइन बदला है, लेकिन बड़ी तादाद में लोगों को डिज़ाइन में ये बदलाव पसंद नहीं आ रहे हैं और हाल ही में दस लाख लोगों ने इन बदलावों को वापस लेने की मांग करते हुए याचिका दाखिल की है.

किम करडाशियां नहीं आ रही हैं भारत

वॉल स्ट्रीट पर खलबली

कैली का ये ट्वीट करना था कि स्नैपचेट की पैरेंट कंपनी का शेयर गुरुवार को वॉल स्ट्रीट पर आठ फ़ीसदी का गोता खा गया, हालाँकि कारोबारी सत्र के दौरान शेयर में कुछ रिकवरी हुई और बाद में यह 6.06 फ़ीसदी की गिरावट के साथ बंद हुआ.

स्नैपचेट को फ़ेसबुक के इंस्टाग्राम से कड़ी प्रतिस्पर्धा मिल रही है और सैलेब्रेटी के बीच इंस्टाग्राम तेज़ी से लोकप्रिय हो रहा है. निवेशकों के लिए ये तो चिंता की बात है ही, कैली के ट्वीट ने उन्हें मोटी चपत लगा दी.

हालांकि बाद में कैली ने एक और ट्वीट किया, "अब भी मैं स्नैपचेट को प्यार करती हूं....मेरा पहला प्यार."

स्नैपचेट ने नवंबर में मैसेजिंग ऐप के डिज़ाइन में बदलाव किए थे और इसके बाद से यूज़र्स की शिकायतें मिलनी शुरू हो गई थी. लेकिन स्नैपचेट के बॉस इवान स्पाइजेल ने इन शिकायतों को यह कहते हुए नज़रअंदाज़ किया कि यूजर्स को इससे एडजस्ट होने में थोड़ा वक्त लगेगा.

स्नैपचेट की मुश्किलें यहीं तक सीमित नहीं है, ख़बरें ये हैं कि इवान स्पाइजेल के भारी भरकम वेतन को लेकर भी निवेशकों में नाराज़गी है. ख़बरें हैं कि इवान को पिछले साल 63 करोड़ 78 लाख डॉलर का भुगतान किया गया.

माना जा रहा है कि कंपनियों के मुख्य कार्यकारी अधिकारियों के वेतन के मामले में ये अब तक की तीसरी सबसे बड़ी रकम है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

मिलते-जुलते मुद्दे