'लोग मुझे एक अजीब जानवर की तरह देखते हैं'

  • 23 फरवरी 2018
अलेकांद्रो रामोस इमेज कॉपीरइट BBC Mundo

पेरू के रहने वाले अलेकांद्रो रामोस अपने घर से बाहर नहीं निकलते क्योंकि लोग उन्हें अजीब तरह से देखते हैं. पिछले चार सालों से उनके शरीर के ऊपरी हिस्से में सूजन है और वह असामान्य तरीके से फूले हुए हैं.

उन्हें रोजाना के कामों में दिक्कतों के अलावा कपड़ों को लेकर भी परेशानी होती है. उनके साइज के कपड़े मिल पाना मुश्किल होता है.

रामोस का इलाज नेवी मेडिकल सेंटर में चल रहा है. पेरू की नेवी के डॉक्टर्स उनकी बीमारी का अध्ययन कर रहे हैं.

इस लड़की की आंखों से आंसू की जगह बहता है खून

क्या मोबाइल के इस्तेमाल से कैंसर हो सकता है?

इमेज कॉपीरइट Feliciano Herrera

लंबे समय तक रामोस अपने घर से बाहर निकलने से भी कतराते थे. उन्हें इस बीमारी को लेकर शर्म महसूस होती थी.

रामोस ने बताया, "मैं शर्म के कारण बाहर नहीं निकलता क्योंकि लोग रुक-रुककर मुझे एक अजीब जानवर की तरह देखते हैं."

कॉफ़ी पीने वालों को डरा रही है यह बीमारी

रामोस पैसों की कमी के कारण लंबे समय तक अपना इलाज नहीं करा पाए थे. लेकिन, एक टेलिविजन प्रोग्राम में उन्हें देखने के बाद नेवी ने उनके इलाज का जिम्मा लिया.

इमेज कॉपीरइट AFP

दोनों बाजुओं में बनी गांठ

उनके दोनों बाजुओं का आकार 62 और 72 सेंटीमीटर हो गया है जबकि एक पुरुष के बाजुओं का औसत आकार 33 से 35 सेंटीमीटर तक हो सकता है.

हर बाजू में गांठ बन गई है जो इतनी बड़ी है कि वह कंधे से मिल गई है. इस कारण शरीर का आकार बहुत बड़ा लगता है. रामोस का सीना सामान्य से ज्यादा फूल गया है.

क्या सेक्स में दिलचस्पी न होना बीमारी है?

रामोस एक गोताखोर हैं और उनका मानना है कि उन्हें ये बीमारी साल 2013 में गोताखोरी के दौरान हुई. तब वह पेरू में पाये जाने वाले एक सीफूड शोरोज को इकट्ठा करने समुद्र में 30 मीटर की गहराई में गए थे.

डॉक्टरों का कहना है कि अगर ऐसा है तो यह गोताखोरी के इतिहास में एक अनोखा और असाधारण मामला होगा.

इमेज कॉपीरइट VM Vásquez

कैसे हुई बीमारी?

शोरोज और शैलफिश इकट्ठा करने के लिए गोताखोरों को समुद्र में काफी गहरे उतरना पड़ता है. इस दौरान उन्हें मल-मूत्र भी रोकना पड़ता है क्योंकि वह ट्रक के टायर के रबड़ से बनी ड्रेस में होते हैं और उनके साथ मौजूद उपकरणों में पानी जाने का भी डर होता है.

गोताखोरों के साथ समुद्र की सतह पर नाव पर क्रू के और सदस्य भी होते हैं जो उनकी मदद करते हैं.

रामोस भी उस दिन इसी तरह की ड्रेस में पानी के अंदर थे. तब उन्हें महसूस हुआ कि उनके मुंह में ऑक्सीजन देने के लिए लगी नली से हवा आने की बजाय ऊपर की तरफ खिंच रही है.

इमेज कॉपीरइट ridjin

इस दौरान किसी कारण से नाव और रामोस से जुड़ी नली कट गई और रामोस को 36 मीटर से अचानक तेजी से ऊपर आने के लिए कहा गया.

समुद्र की सतह तक आने के इन कुछ मिनटों ने रामोस की पूरी ज़िंदगी बदल दी.

नाइट्रोजन का असर

नेवल मेडिकल सेंटर में अंडरवॉटर फिजिशियन रॉल अलेकांद्रो एगुवादो ने बताया कि जब हम डुबकी लगाते हैं तो हम ज्यादा दबाव में होते हैं और इस कारण ऑक्सीजन और हवा में कई बदलाव होते हैं.

हवा में नाइट्रोजन की मात्रा 78 प्रतिशत होती है. हमारा शरीर इस गैस का इस्तेमाल नहीं करता है. लेकिन, सतह पर वापस आने के दौरान नाइट्रोजन खून के अंदर चली जाती है.

इमेज कॉपीरइट VM Vásquez
Image caption ट्रक के टायर के रबड़ से बने सूट

ऐसे में गोताखोरों को धीरे-धीरे ऊपर आना होता है जिससे नाइट्रोजन को रक्त वाहिकाओं से होते हुए फेफड़ों तक पहुंचने का काफी समय मिल जाता है और फिर गैस शरीर से बाहर चली जाती है.

लेकिन, तेजी से ऊपर आने पर नाइट्रोजन से बुलबुले बन जाते हैं और ये इतने बड़े होते हैं कि इससे रक्त प्रवाह रुक जाता है. इसे डिकंप्रेशन सिंड्रोम ​कहते हैं.

समुद्र के अंदर से सतह पर आने के लिए समय भी निर्धारित किया गया है. अगर यह काम तय प्रक्रिया के तहत नहीं किया गया तो नाइट्रोजन हड्डियों तक पहुंच जाती है. इससे बोन टिशू भी मर जाते हैं.

इसके कारण सूजन, सिरदर्द, चक्कर आने से लेकर लकवा और मौत भी हो सकती है.

इमेज कॉपीरइट VM Vásquez

रामोस एक पैर से अपाहिज थे लेकिन उन्होंने अपने पिता की तरह ही गोताखोरी का काम करने का फैसला किया.

वह पहले ज्यादा गहराई तक नहीं जा पाते थे लेकिन रामोस के बेटे को अस्थमा होने के कारण उन्हें इलाज के लिए ज्यादा पैसों की जरूरत थी.

इसके लिए रामोस ने समुद्र में ज्यादा गहराई में जाना शुरू किया ताकि और सीफूड मिल सके.

हालांकि, डॉक्टरों को अभी तक यह साफ नहीं है कि रामोस को ये बीमारी गोताखोरी के कारण हुई है. इसकी वजह ट्यूमर भी हो सकता है. इसकी जांच की जा रही है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

मिलते-जुलते मुद्दे