नीलाम होगी स्टीव जॉब्स की जॉब एप्लिकेशन

  • 24 फरवरी 2018
स्टीव जॉब्स का आवेदन पत्र इमेज कॉपीरइट GETTY/RR AUCTION

एप्पल के सह संस्थापक स्टीव जॉब्स की एक जॉब एप्लिकेशन नीलामी के लिए रखी गई है.

साल 1973 के इस आवेदन पत्र के जरिए 50 हज़ार डॉलर यानी करीब 32 लाख 45 हज़ार रुपये हासिल होने की उम्मीद है.

खरबपति बनाने वाली अपनी कंपनी की शुरुआत के तीन साल पहले स्टीव जॉब्स ने ये आवेदन पत्र भरा था. उन्होंने सवालों के जो जवाब दिए उनमें स्पेलिंग की ढेरों गलतियां हैं.

एक पन्ने का ये दस्तावेज तकनीक के क्षेत्र के प्रति जॉब्स की चाहतों की झलक देता है.

अपनी ख़ास खूबियों के तौर पर उन्होंने 'इलेक्ट्रॉनिक्स टेक या फिर डिज़ायन इंजीनियर' लिखा था.

स्टीव जॉब्स प्रेरणा के लिए भारत गए थे: कुक

किसने की थी जॉब्स को लीवर देने की पेशकश

इमेज कॉपीरइट AFP

क्या वो कंप्यूटर जानते हैं, इस सवाल का जवाब उन्होंने 'हां' दिया था.

इस आवेदन के जरिए जॉब्स को नौकरी मिली या नहीं, इसकी जानकारी नहीं है.

उन्होंने अपना नाम 'स्टीवन जॉब्स' लिखा था और पता 'रीड कॉलेज' बताया था. पोर्टलैंड के इस कॉलेज में उन्होंने कुछ वक्त पढ़ाई की थी.

ड्राइविंग लाइसेंस होने से जुड़े सवाल का जवाब उन्होंने 'हां' लिखकर दिया था लेकिन कार रखने से जुड़े सवाल के जवाब में उन्होंने लिखा 'संभव है लेकिन दावेदारी नहीं है.'

दुनिया को आई फ़ोन देने वाले जॉब्स ने फ़ोन के कॉलम लिखा 'नहीं है.'

जॉब्स का साल 2011 में 56 साल की उमर में निधन हो गया था. वो कैंसर से पीड़ित थे.

नीलामी 8 से 15 मार्च तक बोस्टन में होगी.

इमेज कॉपीरइट Reuters

नीलामी में रखा गया बाकी सामान

2001 जॉब्स के हस्ताक्षर वाला Mac OS X स्पाइरल बाउंड टेक्निकल मैनुअल (कीमत: 25 हज़ार डॉलर)

2008 की जॉब्स की हस्ताक्षरित एक अख़बार की कतरन जिस पर जॉब्स की तस्वीर है और हैडिंग है "नए, तेज़ आईफ़ोन की बिक्री 199 डॉलर में" (कीमत: 15 हज़ार डॉलर)

जॉन लेनन और योको ओनो की साल 1977 में टोक्यो में ली गई हस्ताक्षरित तस्वीर

1976 बॉब मार्ली और द वेलर्स का हस्ताक्षरित पोस्टर (कीमत: 15 हज़ार डॉलर)

1969 जिमी हेंड्रिक्स के टोरंटो में गिरफ़्तार होने के बाद का फिंगरप्रिंट कार्ड (कीमत: 15 हज़ार)

ब्रिटिश गायिका एमी वाइनहाउस का अपने पति को लिखा प्रेम पत्र (कीमत: 4 हज़ार डॉलर)

स्टीव जॉब्स का घर बना ऐतिहासिक धरोहर

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

मिलते-जुलते मुद्दे