‘मक्का में एक शख़्स मेरा कूल्हा दबाने लगा’

  • 26 फरवरी 2018
एंजी एंगेनी
Image caption एंजी वो पहली महिला नहीं हैं जिन्होंने मक्का में यौन उत्पीड़न की घटना बताई है

ब्रिटेन की नागरिक एंजी एंगेनी ने कहा है कि 2010 में हज के दौरान मक्का में उनका यौन उत्पीड़न हुआ.

उन्होंने बीबीसी से कहा, "मस्जिद अल-हरम के बाहर सुपर मार्केट में एक शख़्स ने मेरे कूल्हे को छुआ और फिर उसे दबाने लगा."

वह आगे कहती हैं, "मैं सकते में आ गई. मेरी मां मुझसे दो मीटर दूर खड़ी थीं. डर के मारे मेरी आवाज़ नहीं निकल रही थी."

एंजी कहती हैं कि उनकी बहन का मस्जिद अल-हरम के अंदर एक गार्ड ने यौन उत्पीड़न किया.

"मैं उस पर चिल्लाई की ये तुम क्या कर रहे हो. तुम मेरी बहन को हाथ नहीं लगा सकते. पुलिस का काम है कि वह लोगों को सुरक्षा प्रदान करे. आप मस्जिद अल-हरम के रक्षक हैं. उसने मुझ पर हंसना शुरू कर दिया. मैं उस पर चीख रही थी कि तुम मेरी बहन के साथ क्या कर रहे हो और वो हंस रहा था."

'अजमेर दरगाह पर मेरे साथ यौन उत्पीड़न हुआ'

हज के दौरान महिलाओं के साथ हुआ यौन शोषण

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption 2017 में पूरी दुनिया से 23 लाख से अधिक लोग हज करने आए जिसमें से तकरीबन 13 लाख पुरुष थे

सोशल मीडिया पर शिकायत

एंजी पहली महिला नहीं हैं जिन्होंने पवित्र जगह पर यौन उत्पीड़न किए जाने को लेकर अपना अनुभव बताया है.

इसका सिलसिला उस पाकिस्तानी महिला से शुरू हुआ था जिन्होंने अपने अनुभव को फेसबुक के ज़रिए साझा किया था.

इसके बाद तो ऐसी घटनाएं साझा करने का सिलसिला शुरू हो गया. मिस्र-अमरीकी मूल की महिलावादी और पत्रकार मोना एल्ताहवी ने ट्विटर पर इसको लेकर #MosqueMeToo की शुरुआत की. जिसका उद्देश्य अन्य महिलाओं को अपनी यौन उत्पीड़न की कहानी बताने के बारे में प्रेरित करना था.

मुसलमान औरतों ने इस हैशटैग का इस्तेमाल किया और 24 घंटों से भी कम वक़्त में इसे 2 हज़ार बार ट्वीट में इस्तेमाल किया गया.

विभिन्न देशों की मुसलमान औरतों ने हैशटैग #MosqueMeToo के ज़रिए हज और दूसरी धार्मिक यात्राओं के दौरान अपने साथ होने वाले यौन उत्पीड़न की घटनाएं शेयर कर रही हैं.

बहुत-सी औरतों ने ट्विटर पर बताया कि कैसे उनके जिस्म को टटोलने की कोशिश की गई, ग़लत तरीके से छूने की कोशिश की गई या फिर किसी ने कैसे उनके जिस्म को रगड़ने की कोशिश की.

बच्चों को 'बलात्कार देखने के लिए' विवश किया जा रहा है

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए