रूस ने कहा रोज़ पांच घंटों के लिए थमेगी ग़ूटा में जंग

  • 27 फरवरी 2018
सीरिया की जंग इमेज कॉपीरइट Getty Images

रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने सीरियाई सेना को ग़ूटा में विद्रोहियों के कब्ज़े वाले इलाके में हर रोज़ कुछ वक्त के लिए हमले रोकने का आदेश दिया है.

ये सीमित सीज़फ़ायर मंगलवार से शुरू होगा और इसका मकसद जंग में फंसे नागरिकों को विद्रोहियों के कब्ज़े वाले इलाके से निकलने देना है.

सीरिया की राजधानी दमिश्क के करीब, विद्रोहियों के कब्ज़े वाले ग़ूटा में तीन लाख तिरावने हज़ार नागरिक फंसे है. इस शहर पर रूस की मदद से सरकारी सेना लगातार बमबारी कर रही है.

सीरिया की हालात पर नज़र रखने वाले एक निगरानी समूह के मुताबिक बीते आठ दिनों में ग़ूटा में 550 लोगों की मौत हुई है.

जब उत्तर कोरिया ने अमरीका को घुटने टिका दिए

'धरती के जहन्नुम' पर सीरियाई हवाई हमले जारी

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption पुतिन रूस के रक्षामंत्री के साथ

'मानवीय रोक'

रूस के रक्षा मंत्री सर्गेई शोयगू ने कहा है कि जंग में ये 'मानवीय रोक' स्थानीय समय के मुताबिक सुबह नौ बजे से दोपहर दो बजे तक चलेगी.

उन्होंने कहा कि लोगों को बाहर निकलने देने के लिए इस मानवीय कॉरिडोर के बारे में और जानकारी बाद में जारी की जाएगी.

उधर शनिवार को संयक्त राष्ट्र की सुरक्षा परिषद ने सीरिया में तीस-दिनों के सीज़फ़ायर का आह्वान किया था.

सीरिया संघर्षः सुरक्षा परिषद में संघर्ष विराम पर सहमति

सुरक्षा परिषद ने अपने प्रस्ताव में 'सभी पक्षों से तुरंत जंग रोकने' और ज़रूरतमंदों तक सहायता सामग्री पहुंचने देने की मांग की थी.

रूस पर इस प्रस्ताव को पास करने में बाधा डालने की कोशिश के भी आरोप लगे हैं.

संयुक्त राष्ट्र के महासचिव एंटोनियो गुटरेस ने पूर्वी ग़ूटा को धरती पर नरक बताते हुए, तुंरत कार्रवाई की मांग की है.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

प्रस्ताव का मकसद

यूएन का प्रस्ताव सारे सीरिया के लिए है हालांकि फ़िलहाल फ़ोकस पूर्वी ग़ूटा में सरकारी हमलों को रोकने पर है.

विद्रोहियों को भी दमिश्क में सरकारी इलाकों पर बंमबारी बंद करनी होगी क्योंकि उन हमलों में आम नागरिक मर रहे हैं.

इस प्रस्ताव में उन गुटों के ख़िलाफ़ अभियान की अनुमति है जिन्हें संयुक्त राष्ट्र आतंकवादी मानता है- इनमें तथाकथित इस्लामिक स्टेट, अल-क़ायदा और उससे जुड़े जिहादी समूह हैं.

प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा
सीरिया में विद्रोहियों के कब्ज़े वाले इलाक़े में सेना का बड़ा हमला, 100 से ज़्यादा की मौत

क्या हो रहा है ग़ूटा में

ब्रिटेन स्थित सीरियन ऑब्ज़र्वेटॉरी फ़ॉर ह्यूमन राइट्स के अनुसार यूएन के प्रस्ताव के बाद भी अब पूर्वी ग़ूटा में 31 लोगों की मौत हो चुकी है. संस्था के मुताबिक सोमवार को डूमा और हरास्ता क़स्बों में 17 लोग मारे गए हैं.

विद्रोही इलाकों में काम करने वाली एक संस्था ने भी कहा है कि डूमा में एक इमारत पर गिरे बम ने नौ लोगों की जान ली है.

विपक्ष के अख़बार एनाब बलादी की ख़बरों के मुताबिक सरकार समर्थित बल ज़मीनी लड़ाई में भी हिस्सा ले रहे हैं.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

रविवार के हमले पर सवाल

रविवार के हमले में क्लोरीन के इस्तेमाल की भी ख़बरें आ रही हैं. एंबुलेंस के ड्राइवरों ने कहा है कि अल-शिफ़निया शहर में हवाई हमले के बाद उन्हें क्लोरीन गैस जैसी बदबू आई थी.

लेकिन इन ख़बरों की अभी स्वतंत्र पुष्टि नहीं हुई है.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

सोमवार को रूसी विदेश मंत्री सर्गेई लावरोव ने भी कहा है कि ये सारी मनगंढ़त कहानियां हैं, जिनका मकसद संयुक्त राष्ट्र के प्रस्ताव को जानबूढ कर नुकसान पहुंचाना है.

सीरिया में घमासान जारी, संघर्ष विराम पर नहीं बनी सहमति

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए