बोको हराम की क़ैद से छूटी लड़कियों की आपबीती

एक लड़की के रिश्तेदार इमेज कॉपीरइट REUTERS/Afolabi Sotunde
Image caption एक लड़की के रिश्तेदार

नाइजीरिया में बोको हराम के लड़ाकों ने बुधवार की तड़के सुबह दापची शहर में महीने भर पहले अग़वा की गई लड़कियों में से अधिकांश को छोड़ दिया.

नाइजीरिया की सरकार का कहना है कि अग़वा किए 105 लड़कियों के साथ एक लड़के को भी छोड़ गया है. इनमें से 104 लड़कियां स्कूल जाती हैं. सरकार ने इस बात का खंडन किया है कि लड़कियों के बदले किसी तरह की फिरौती दी गई है.

लड़कियों के आज़ाद होने की ख़बर से शहर में खुशी का माहौल है. बोको हराम की क़ैद में अब एक ही लड़की बची है. वो लड़की ईसाई है.

उस लड़की के माता-पिता ने समाचार एजेंसी एएफ़पी को बताया कि बोको हराम लड़की पर इस्लाम अपनाने का दवाब डाल रहा है लेकिन लड़की इससे इनकार कर रही है.

क़ैद से छूटने के बाद लड़कियों ने अपनी आपबीती अपने परिवारों के साथ साझा की.

प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा
बोको हराम ने स्कूल से अगवा कीं 110 लड़कियां

लड़कियों को कैसे अगवा किया गया?

फ़रवरी की 19 तारीख, दिन सोमवार, कथित इस्लामी चरमपंथी समूह बोको हराम के लड़ाकों ने शहर पर धावा बोला. वो हवा में गोलियां चलाते हुए लड़कियों के बोर्डिंग स्कूल की तरफ बढ़ते हैं.

क़ैद से छूटने के बाद 13 साल की फ़ातिमा अव्वल ने बीबीसी को बताया कि हमलवरों ने चप्पलें और सैंडल पहने हुए थे. वो कहती हैं कि उन लोगों ने लंबी दाढ़ी रखी हुई थी और उनके सिर पर पगड़ियां बंधी हुई थीं. फातिमा अग़वा नहीं की जा सकी थीं लेकिन उनकी बेस्ट फ्रेंड को अग़वा कर लिया गया था.

इमेज कॉपीरइट AMINU ABUBAKAR/AFP/Getty Images

क़ैद से आज़ाद हुई नूर बताती हैं कि जब वो लड़ाके आए थे तब उन्होंने ज़ोरदार धमाके की आवाज़ सुनी थी. वो कहती हैं, "हमें लगा था कि बिजली का ट्रांसफॉर्मर जल गया है. वे लोग स्कूल के मेन गेट से अंदर घुसे और लोग जान बचाने के लिए इधर-उधर दौड़ रहे थे."

"उन्होंने हमें कपड़ों से ढका और अपनी गाड़ियों की तरफ खींचने लगे. पांच लड़कियों की उस वक्त मौत हो गई थी."

लड़की ने बोको हराम की क़ैद से आज़ाद होने से किया इंकार

बोको हराम के चंगुल से निकली लड़कियां पहुंचीं घर

प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा
अग़वा हुई लड़की की आपबीती

क़ैद से छूटी यागना ने बीबीसी को बताया, "कई लड़कियां और शिक्षक पेड़ों के पीछे छिपने के लिए भागने लगे. बोको हराम के लड़ाकों ने उन्हें धमकी दी कि अगर वो हिले तो उनकी जान ले ली जाएगी. जिसके बाद उन्होंने दौड़ना बंद कर दिया."

वो कहती हैं, "हमें कुछ समझ नहीं आ रहा था. उन्होंने हमें ट्रक में बैठने को कहा और हमलोगों ने ऐसा ही किया. इसके बाद वो हमें ले कर चले गए."

प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा
बोको हराम के चरमपंथ से बदहाल नाइजीरियाई परिवार

अगवा करने के बाद का सफ़र

लाराई नाम की लड़की ने नाइजीरिया के अख़बार 'द प्रीमियम टाइम्स' को बताया कि दापची से बाहर निकलने के बाद उन्हें खाना खिलाया गया था.

लाराई ने बताया, "उन्होंने पूछा कि हमलोगों में से कौन-कौन उपवास पर हैं. जो उपवास पर थे उन्हें गाड़ी से उतरने के लिए कहा. फिर उन्हें खाने के लिए मांस, मूंगफली की पट्टी और पानी दिया गया. खाना खाने के बाद हमलोगों ने नमाज़ पढ़ी."

वो कहती हैं कि इसके बाद उन्होंने कार से आगे का सफर किया है. बस एक 'बड़े से पेड़ के पास' एक ही जगह पर रुके थे.

वो आगे बताती हैं, पेड़ के पास पहुंच कर उन्होंने हमें खाना बनाने के लिए कहा. अंधेरा हो गया था इसीलिए उन्होंने लाइटें जला दी थीं."

इमेज कॉपीरइट REUTERS/Ola Lanre

नूर ने बीबीसी को बताया, "हमने वहां एक रात बिताई. उन्होंने हमें खाना पकाने के लिए कहा. हमने उनसे कहा कि हमें छोड़ दें. उन्होंने ऐसा करने का वादा किया और फिर हमें दूसरे स्थान पर ले जाया गया."

लाराई ने अख़बार 'द प्रीमियम टाइम्स' को बताया, "खाना खाने के बाद हम लंबे समय तक यात्रा करते रहे. आख़िर में हम एक ऐसी जगह पहुंचे जहां नदी थी. उन्होंने हमें ट्रकों से उतरने के लिए कहा जिसके बाद हम नदी पार करने के लिए छोटी-छोटी नावों पर सवार हुएं."

इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption चाड झील पर बने टापू

लाराई बताती हैं कि उन्हें जंगल में ले जाया गया था, जहां पर उन्हें रखा गया था.

"नदी के पार, वो हमें एक गांव के एक घर में ले गए. मुझे नहीं पता वो कौन सा गांव था. हम कुछ समय तक वहां रहें. अगले दिन उन्होंने हमें बाहर आने के लिए कहा फिर नदी का रास्ते हमें कहीं और ले जाया गया. हम जंगल के एक ऐसे इलाके में पहुंचे जो काफी घना था. तब से हमें वहीं रखा गया था."

यात्रा के दौरान चार या पांच लड़कियों की मौत हो गई.

लाराई ने समाचार एजेंसी रॉयटर्स को बताया, "करीब पांच लड़कियां मर गईं. ऐसा नहीं कि उन्होंने उन्हें मारा, लेकिन थकाने वाले सफर और तनाव के कारण वो कमज़ोर हो गई थीं और मर गईं."

इमेज कॉपीरइट REUTERS/Afolabi Sotunde

तलाऊ ने रॉयटर्स को बताया कि उसकी "दो सहेलियों की मौत हो गई थी. सफर के दौरान वो गिर गई थीं और उनके ऊपर से लोग गुज़र गए."

वो बताती हैं, "जहां हमें रखा गया था जो एक बड़ी जगह थी और चारों ओर से ढकी हुई थी. किसी को भी हम नहीं दिख सकते थे. आसमान भी देखना असंभव था."

नूर बताती हैं, "उन्होंने हमारे साथ कुछ भी नहीं किया था. उन्होंने हमें बस वहां रखा था. हमें वक्त पर खाना और पानी देते थे."

इमेज कॉपीरइट EPA/STR

क़ैद से छोड़ा जाना

लड़कियों के अभिभावकों ने बताया कि 21 मार्च को 9 गाड़ियों में भर कर लड़कियों को दापची लाया गया था. लड़कियों की आपबीती मानें तो उसके लिए उनका सफर कम से कम चार-पांच दिन पहले शुरु हुआ होगा.

समाचार एजेंसी एएफ़पी के अनुसार एक लड़की ने बताया कि उन्हें चाड झील पर मौजूद टापूओं में से किसी पर रखा गया होगा. इन टापुओं को इस्लामिक स्टेट समर्थन प्राप्त अबु मुसाब अल-बरनावी के नेतृत्व में बोको हराम के समूह के लड़ाकों का गढ़ माना जाता है.

लादी ने एएफ़पी को बताया कि, "उन्होंने 17 मार्च को हमें तैयार होने के लिए और नाव पर चढ़ने के लिए कहा. हम नाव में तीन दिन तक रहें, जिसके बाद ही हमने ज़मीन पर कदम रखा. उन्होंने हमें गाड़ियों में भरा और बताया कि वो हमें हमारे घर छोड़ने जा रहे हैं."

इमेज कॉपीरइट AFP/Getty Images

एक लड़की के पिता ने रॉयटर्स को बताया कि सेना के रंग से रंगी कुछ गाड़ियां हमारी लड़कियों को ले कर आई थीं. उन्होंने कहा, "उन लड़ाकों ने हमसे कहा कि हम यहां से भागें नहीं. उन्होंने शहर के बीचोंबीच अली की चाय की दुकान के सामने लड़कियों को उतारा और चले गए."

एक लड़की के पिता ने बीबीसी को बताया कि उनकी बेटी ने उन्हें बताया था कि वो घर लौटने के लिए 18 तारीख से सफर कर रही हैं. वो कहते हैं, "उसने बहुत कुछ भुगता है. ईश्वर की कृपा है कि अब वो आज़ाद है."

एक लड़की के पिता ने बीबीसी को बताया, "बोको हराम ने हमारी लड़कियों को छोड़ दिया. उन्होंने हमसे कहा कि हम इन्हें आज़ाद कर रहे हैं लेकिन इन्हें पश्चिमी शिक्षा के लिए स्कूलों में भर्ती मत कराना, नहीं तो हम फिर से इन्हें अगवा कर लेंगे."

इमेज कॉपीरइट REUTERS/Afolabi Sotunde

कुछ अभिभावकों ने समाचार एजेंसी एएफ़पी को बताया कि वो लोग उनके पास आए, उनसे हाथ मिलाया और जाने से पहले उनके साथ तस्वीरें भी लीं.

क़ैद से छोड़े जाने के कुछ घंटों बाद ही इन लड़कियों को राजधानी अबूजा ले जाया गया जहां उन्होंने राष्ट्रपति महमदू बुहारी से मुलाक़ात की.

(अगवा लड़कियों की पहचान छिपाने के लिए उनके नाम बदल दिए गए हैं.)

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)