रूसी हस्तक्षेप मामले में ट्रंप के मुख्य वकील डाउड ने दिया इस्तीफ़ा

मिस्टर डाउड इमेज कॉपीरइट Reuters
Image caption जॉन डाउड

अमरीकी मीडिया रिपोर्टों के मुताबिक 2016 के राष्ट्रपति चुनाव में कथित रूसी हस्तक्षेप की जांच में डोनल्ड ट्रंप का प्रतिनिधित्व कर रहे मुख्य वकील जॉन डाउड ने इस्तीफ़ा दे दिया है.

कहा जा रहा है कि 77 साल के जॉन डाउड को लग रहा था कि राष्ट्रपति ट्रंप उनकी सलाहों को नज़रअंदाज़ कर रहे हैं.

कुछ अन्य रिपोर्टों में कहा गया है कि ट्रंप को भरोसा नहीं रहा था कि डाउड स्पेशल काउंसल रॉबर्ट मुलर से निपट सकते हैं.

उधर डाउड ने मीडिया को भेजे ईमेल में लिखा है, "मुझे राष्ट्रपति पसंद हैं और उन्हें मैं शुभकामनाएं देता हूं."

इमेज कॉपीरइट Reuters

क्या है मामला?

स्पेशल काउंसल रॉबर्ट मुलर इस बात की जांच कर रहे हैं कि ट्रंप के सहयोगियों और रूस के बीच कोई संबंध तो नहीं है. इस बात की भी जांच की जा रही है कि राष्ट्रपति ने जांच में कोई बाधा तो नहीं खड़ी की.

पिछले सप्ताह डाउड ने अपील की थी कि न्याय विभाग को मुलर द्वारा की जा रही जांच बंद कर देनी चाहिए.

पहले डाउड ने कहा था कि वह राष्ट्रपति की तरफ़ से यह बात रख रहे हैं मगर बाद में उन्होंने कहा था कि वह राष्ट्रपति की तरफ़ से नहीं, बल्कि अपनी तरफ़ से ऐसा बोल रहे थे.

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption रॉबर्ट मुलर

ट्रंप कर रहे हैं मुलर की आलोचना

डाउड पिछली गर्मियों में राष्ट्रपति की लीगल टीम में शामिल हुए थे. उनके नेतृत्व वाली वकीलों की टीम ने राष्ट्रपति को स्पेशल काउंसल मुलर के साथ सहयोग करने की सलाह दी थी.

इन दिनों ट्रंप ने मुलर की खुलेआम नाम लेकर आलोचना करना शुरू कर दिया है.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

कई लोगों ने ट्रंप को सलाह दी है कि मुलर को हटाने का ख़्याल छोड़ दें. सीनेट लिंडसी ग्राहम ने चेताया कि ऐसा करना ट्रंप के लिए अपने राष्ट्रपति काल के अंत की शुरुआत करने जैसा होगा.

ऐसी भी खबरें आई थीं कि ट्रंप जांच के लिए उनसे पूछताछ के लिए राज़ी होना चाहते थे, मगर डाउड इसके विरोध में थे.

पिछले सप्ताह ट्रंप ने फॉक्स न्यूज़ के विशेषज्ञ और पूर्व यूएस अटॉर्नी जो डीजिनोवा को अपनी लीगल टीम में शामिल किया था.

ट्रंप प्रशासन से हुई एक और अफ़सर की छुट्टी

क्या ट्रंप ने फेसबुक के दम पर जीता था चुनाव

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे