फ्रांस: पुलिस ने सुपरमार्केट पर हमला करने वाले को गोली मारी

  • 23 मार्च 2018
France इमेज कॉपीरइट Reuters

दक्षिण-पश्चिमी फ़्रांस के ट्रेबेस में एक सुपरमार्केट में लोगों को बंधक बनाने वाले संदिग्ध को पुलिस ने गोली मार दी है. पुलिस का कहना है कि हमलावर की मौत हो गई है.

सरकारी सूत्रों ने बताया है कि बंदूकधारी के हमले में कम से कम तीन लोगों की मौत हुई है.

संदिग्ध बंदूकधारी की पहचान मोरक्को के नागरिक के तौर की गई है. उसकी उम्र 26 साल और नाम रेडवान लैकदिम बताया जा रहा है. वो ख़ुद को इस्लामिक स्टेट से जुड़ा हुआ बता रहा था.

रिपोर्टों के मुताबिक़, संदिग्ध बंदूकधारी ने तीन अलग-अलग जगहों पर लोगों पर हमले किए.

कब-क्या हुआ?

इसकी शुरुआत ट्रेबेस के पास कारकासोन से हुई. वहां हमलावर ने बंदूक की नोक पर एक कार छीनी. उसने कार में सवार यात्री की हत्या कर दी और ड्राइवर को घायल कर दिया.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

कारकासोन में उसने साथियों के साथ जॉगिंग कर रहे एक पुलिसकर्मी को गोली मारकर घायल कर दिया.

रिपोर्टों के मुताबिक़, ये माना जा रहा है कि उसके बाद हमलावर ने ट्रेबेस का रुख किया और वहां एक सुपरमार्केट में लोगों को बंधक बना लिया.

कई रिपोर्टों में कहा गया है कि संदिग्ध हमलावर के पास बड़ी मात्रा में हथियार थे और वो सालाह अब्देसलाम की रिहाई की मांग कर रहा था.

इमेज कॉपीरइट MINISTERIO DEL INTERIOR DE BELGICA
Image caption सालाह अब्देसलाम की फ़ाइल तस्वीर

अब्देसलाम नवंबर 2015 में पेरिस में हुए हमले के सबसे अहम जीवित संदिग्ध हैं. इस हमले में 130 लोगों की मौत हो गई थी.

रिपोर्टों के मुताबिक़, फ़्रांस की इंटेलिजेंस सेवा के अधिकारी संदिग्ध हमलावर को जानते थे और उनकी मां भी मौके पर हैं.

सुरक्षा से जुड़े एक सूत्र ने फ्रांस की समाचार एजेंसी एएफपी को बताया था कि सुपरमार्केट के ज्यादातर कर्मचारी और ग्राहक 'बाहर निकलने में कामयाब हो गए थे'.

इसके पहले फ्रांस के प्रधानमंत्री एडवर्ड फिलिप ने कहा था कि सारे संकेत इशारा करते हैं कि ये एक 'आतंकवादी घटना' है.

सुपरमार्केट में सैंकड़ों की संख्या में पुलिसकर्मी तैनात किए गए थे. इस मामले की जांच चरमपंथ रोधी अधिकारी कर रहे हैं लेकिन अब तक बेहद कम जानकारी जारी की गई है.

फ्रांस में साल 2015 से कई जिहादी हमले हुए हैं. इनमें कई लोगों की मौत हुई है.

फ्रांस में हुए अहम चरमपंथी हमले

1 अक्टूबर 2017: मार्शे रेलवे स्टेशन पर दो महिलाओं पर चाकू से हमला हुआ. हमले में दोनों की मौत. आईएस ने हमले की जिम्मेदारी ली.

26 जुलाई 2016: नोर्मैंडी में दो हमलावरों ने एक पादरी का गला रेत दिया. पुलिस की कार्रवाई में दोनों की मौत.

14 जुलाई 2016: नीस में एक लॉरी ड्राइवर ने भीड़ पर गाड़ी चढ़ा दी. इस हमले में 86 लोगों की मौत हो गई. आईएस ने हमले की जिम्मेदारी ली. बाद ड्राइवर की पुलिस कार्रवाई में मौत हो गई.

13 जुलाई 2016: पेरिस के करीब एक पुलिस अधिकारी और उनके सहयोगी की चाकू मारकर हत्या कर दी गई. हमलावर ने ख़ुद को आईएस से जुड़ा हुआ बताया. पुलिस की कार्रवाई में उसकी मौत हो गई.

13 नवंबर, 2015: हथियारबंद हमलावरों ने पेरिस के नेशनल स्टेडियम को निशाना बनाया. इस हमले में 130 लोगों की मौत हुई और 350 से ज़्यादा लोग घायल हुए.

7-9 जनवरी, 2015: दो इस्लामिक चरमपंथियों ने पेरिस में कॉमिक मैग्ज़ीन शार्ली एब्दो के दफ़्तर पर हमला किया. इस हमले में 17 लोगों की मौत हुई. इस हमले के अगले ही दिन एक चरमपंथी ने एक महिला पुलिसकर्मी की हत्या कर दी. उसके बाद एक सुपरमार्केट पर हमला कर कुछ लोगों को बंधक बना लिया. यहां चार लोगों की मौत हुई.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

मिलते-जुलते मुद्दे