ट्रंप पर संबंधों का आरोप लगाने वाली 'तीन देवियां'

कैरन मैकडॉगल इमेज कॉपीरइट Getty Images

प्लेबॉय मैगज़ीन की पूर्व मॉडल कैरन मैकडॉगल ने अमरीकी राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रंप की पत्नी मेलानिया ट्रंप से माफ़ी मांगी है. उन्होंने दावा किया था कि 2006 में ट्रंप के साथ उनका अफ़ेयर था.

समाचार चैनल सीएनएन को दिए एक साक्षात्कार में उन्होंने कहा है कि वो मेलानिया से 10 महीने तक चले इस प्रेम संबंध के लिए माफ़ी मांगना चाहती हैं और वो नहीं चाहेंगी कि उनके साथ कभी ऐसा कुछ हो.

उन्होंने ये भी कहा कि पहली बार क़रीब आने के बाद ट्रंप ने उन्हें पैसे देने की पेशकश की थी. इसके बाद वो घर लौटते वक्त रोई थीं.

राष्ट्रपति और व्हाइट हाउस इन आरोपों से इनकार करते रहे हैं.

ट्रंप के साथ अफ़ेयर के क़िस्से सुनाएंगी पॉर्न स्टार?

क्या ट्रंप ने फ़ेसबुक के दम पर जीता था राष्ट्रपति चुनाव?

इमेज कॉपीरइट NICHOLAS KAMM/AFP/Getty Images

गुरुवार को सीएनएन के एंडरसन कूपर को कैरन मैकडॉगल ने बताया, "जब मैं मुड़ कर पीछे देखती हूं तो पता चलता है कि वो ग़लत था. मैं वाकई माफ़ी मांगना चाहूंगी. मुझे पता है कि जो मैंने किया, वो ग़लत था."

साल 2016 में मैकडॉगल ने एक अख़बार के साथ 1,50,000 डॉलर का करार किया था, जिसके तहत वो अपनी कहानी उस अख़बार को बताने के लिए राज़ी हुई थीं.

ये लेख कभी प्रकाशित नहीं हुआ था. अब मैकडॉगल का कहना है कि ट्रंप के साथ उनके संबंध की बात को छिपाने के लिए ऐसा किया गया था. वो अब इस करारनामे को ख़त्म करने के लिए अख़बार पर मुकदमा करने जा रही हैं.

मैकडॉगल उन तीन महिलाओं में से एक हैं जिन्होंने राष्ट्रपति ट्रंप के साथ कथित तौर पर संबंध होने या यौन हिंसा का दावा किया है और कोर्ट का दरवाज़ा खटखटाया है.

अन्य दो महिलाओं में से एक हैं पॉर्न स्टार स्टॉर्मी डेनियल्स और दूसरी हैं 'द ऐपरेन्टिस' शो में प्रतियोगी रह चुकी समर ज़ेरवोस.

ट्रंप प्रशासन से हुई एक और अफ़सर की छुट्टी

इमेज कॉपीरइट ETHAN MILLER/GETTY IMAGES

स्टॉर्मी डेनियल्स के आरोप

पॉर्न एक्ट्रेस स्टॉर्मी डेनियल्स का असली नाम स्टेफ़नी क्लिफ़र्ड है. उनका दावा था कि उनका राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रंप के साथ अफ़ेयर रहा है.

स्टॉर्मी डेनियल्स ने 2011 में इनटच मैगज़ीन को दिए एक इंटरव्यू में दावा किया था कि उनके डोनल्ड ट्रंप के साथ यौन संबंध थे और इस बात की पुष्टि कराने के लिए लाइफ़ एंड स्टाइल मैगज़ीन ने स्टॉर्मी का लाइ डिटेक्टर टेस्ट कराया था जो इससे पहले कभी सार्वजनिक नहीं किया गया.

स्टेफनी का दावा है कि ट्रंप के निजी वकील माइकल कोहेन ने अक्तूबर 2016 में राष्ट्रपति चुनावों से ठीक पहले उनके साथ 1 लाख 30 हज़ार डॉलर का समझौता किया था.

राष्ट्रपति ट्रंप और पोर्न स्टार की पूरी कहानी

ट्रंप से अफ़ेयर पर 'सच' कह रही थीं पॉर्न स्टार!

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption डोनल्ड ट्रंप के वकील माइकल डी कोहेन

स्टेफनी ने अब इस समझौते को ख़त्म करने के लिए कोर्ट का रुख़ किया है. उनके वकीलों का कहना है कि उन्हें इसे मानने के लिए धमकी दी गई थी.

इसी साल फ़रवरी में कोहेन ने अमरीकी मीडिया के सामने क़बूल कर लिया है कि उन्होंने साल 2016 में एक पॉर्न स्टार को 1 लाख 30 हज़ार डॉलर का भुगतान किया था.

ट्रंप स्टेफ़नी के लगाए आरोपों से अब तक इनकार करते रहे हैं. उनके वकीलों ने स्टेफ़नी पर दो करोड़ डॉलर का दावा किया है. उनका कहना है कि स्टेफ़नी ने गुप्त डील को तोड़ा है.

रविवार को समाचार चैनल सीबीएस न्यूज़ पर स्टॉर्मी डेनियल्स का इंटरव्यू प्रसारित होने वाला है.

वो महिला, जिसके साथ थे 'ट्रंप के संबंध'

ट्रंप पर फिर लगे यौन दुर्व्यवहार के आरोप

इमेज कॉपीरइट EPA/MIKE NELSON
Image caption समर ज़ेरवोस

समर ज़ेरवोस के आरोप

समर ज़ेरवोस 2006 में द एप्रेंटिस के सीज़न पांच की प्रतियोगी रह चुकी हैं. उन्होंने 2016 राष्ट्रपति चुनाव अभियान के दौरान डोनल्ड ट्रंप पर यौन दुर्व्यवहार के आरोप लगाए थे.

उनका कहना था कि साल 2007 में ट्रंप ने उन्हें नौकरी के सिलसिले में मिलने के लिए बुलाया था. वो ट्रंप से मिलने बेवेरली हिल्स होटल के एक बंगले में पहुंची. ट्रंप ने उनका स्वागत चेहरे पर चुंबन लेकर किया था और ख़ुद को जबरन उन पर लाद दिया.

ज़ेरवोस का कहना था कि उन्होंने ट्रंप की गिरफ़्त से छूटने की कोशिश की थी लेकिन ट्रंप उन्हें बेडरूम में ले जाने का प्रयास कर रहे थे.

श्वार्ज़नेगर का ट्रंप को चैलेंज, चलो नौकरियां बदल लें

इमेज कॉपीरइट BARRY WILLIAMS/AFP/Getty Images

ट्रंप ज़ेरवोस के लगाए आरोपों से इनकार करते रहे हैं. उनका कहना था कि उन पर आरोप लगाने वाली ज़ेरवोस और अन्य लोग "बीमार मानसिकता" वाले हैं और उन्हें पैसे, नाम और राजनीति में मौका पाने के लिए उकसाया गया है.

ज़ेरवोस ने जनवरी 2017 में ट्रंप के ख़िलाफ़ मानहानि का दावा किया लेकिन ट्रंप के वकीलों का कहना था कि राष्ट्रपति के ख़िलाफ़ मुकदमा नहीं चलाया जा सकता.

न्यूयॉर्क की एक अदालत ने अब निचली अदालत के इस फ़ैसले को पलट दिया है. इसका मतलब ये है कि राष्ट्रपति के ख़िलाफ़ लगाए गए आरोपों की सुनवाई की जाएगी.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे