अर्थ आवर: धरती को बचाने के लिए जब अंधेरे में डूब जाती है दुनिया

दुनिया की कुछ मशहूर इमारतें हर साल एक घंटे के लिए अंधेरे में डूब जाती हैं. ये बिजली संकट की वजह से नहीं था बल्कि दुनिया भर में शनिवार को 'अर्थ आवर' मनाया जा रहा था. इसका मक़सद दुनिया भर में जलवायु परिवर्तन के प्रभावों को लेकर जागरूकता फैलाना है.

इसकी शुरुआत साल 2007 में ऑस्ट्रेलिया में हुई थी. साल 2010 में ये दुनिया के 120 देशों में अपनाया गया था जबकि इस बरस 187 देशों ने इसमें हिस्सा लिया.

हम दुनिया भर के कुछ प्रमुख शहरों के बारे में आपको बता रहे हैं जहां शनिवार (24 मार्च, 2018) को बत्तियां बुझा दी गईं.

सिडनी, ऑस्ट्रेलिया - हार्बर ब्रिज एंड ओपेरा हाउस

'अर्थ आवर' के पहले

ऑस्ट्रेलिया इमेज कॉपीरइट AFP

'अर्थ आवर' के दौरान

ऑस्ट्रेलिया इमेज कॉपीरइट AFP

चीन का नेशनल स्टेडियम (बर्ड्स नेस्ट), बीजिंग

'अर्थ आवर' के पहले

चीन इमेज कॉपीरइट EPA

'अर्थ आवर' के दौरान

चीन इमेज कॉपीरइट EPA

मलेशिया का पेट्रोनस टावर्स, क्वाला लंपुर

'अर्थ आवर' के पहले

मलेशिया इमेज कॉपीरइट EPA

'अर्थ आवर' के दौरान

मलेशिया इमेज कॉपीरइट EPA

ताइपेई 101, ताइवान

'अर्थ आवर' के पहले

ताइवान इमेज कॉपीरइट EPA

'अर्थ आवर' के दौरान

ताइवान इमेज कॉपीरइट EPA

सुपरट्री ग्रोव सिंगापुर

'अर्थ आवर' के पहले

सिंगापुर इमेज कॉपीरइट Reuters

'अर्थ आवर' के दौरान

सिंगापुर इमेज कॉपीरइट Reuters

इंडिया गेट, नई दिल्ली

'अर्थ आवर' के पहले

नई दिल्ली इमेज कॉपीरइट AFP/Getty

'अर्थ आवर' के दौरान

नई दिल्ली इमेज कॉपीरइट AFP/Getty

क्राइस्ट द सेवियर कथिड्रल, मॉस्को

'अर्थ आवर' के पहले

रूस इमेज कॉपीरइट EPA

'अर्थ आवर' के दौरान

रूस इमेज कॉपीरइट EPA

कोलोज़ियम, रोम, इटली

'अर्थ आवर' के पहले

रोम, इटली इमेज कॉपीरइट AFP/Getty

'अर्थ आवर' के दौरान

रोम, इटली इमेज कॉपीरइट AFP/Getty

पार्थेनॉन टेंपल, एथेंस, ग्रीस

'अर्थ आवर' के पहले

ग्रीस इमेज कॉपीरइट Reuters

'अर्थ आवर' के दौरान

ग्रीस इमेज कॉपीरइट Reuters

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)