क्या चीन दांत है और उत्तर कोरिया होंठ?

  • 28 मार्च 2018
किम जोंग और शी जिनपिंग इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption किम जोंग और शी जिनपिंग

चीन के सरकारी मीडिया ने इस बात की पुष्टि की है कि बुधवार सुबह येलो रिवर के पार से एक बख्तरबंद ट्रेन पर सवार होकर बीजिंग में पहुंचा वो रहस्यमयी आगंतुक कोई और नहीं बल्कि किम जोंग उन थे.

2011 में सत्ता में आने के बाद किम जोंग की यह पहली ज्ञात विदेश यात्रा है.

6 साल से अधिक की राजनीतिक सफ़ाई, आंतरिक शक्ति के एकीकरण के साथ परमाणु और बैलिस्टिक मिसाइल प्रौद्योगिकी की सफलताओं के बाद किम चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग के बुलावे पर अपने देश से बाहर निकले.

सामान्य परिस्थितियों में इस तरह की यात्रा को किम के आत्मविश्वास के रूप में देखा जाएगा- जब उत्तर कोरियाई सत्ता पर उनकी मजबूत पकड़ हो गई तो उन्हें लगा कि वो देश से बाहर जाने के लिए अब तैयार हैं.

ट्रंप से मुलाकात से पहले चीन पहुंचे किम जोंग उन

'ढोंग है उत्तर कोरिया की दोस्ती क्योंकि...'

इमेज कॉपीरइट Reuters

उत्तर कोरिया के लिए चीन कितना अहम

एक अपेक्षाकृत कम सुदृढ़ नेता के रूप में किम के मन में विदेश जाने की स्थिति में अपनी सत्ता के ख़िलाफ़ चुनौती मिलने और यहां तक कि तख्तापलट का डर रहा होगा.

लेकिन क्या अब किम देश से बाहर जाने को लेकर इतने आश्वस्त हैं? शी के बगल में खड़े किम को राजनेता की भूमिका निभाते देखा गया. शी ख़ुद एक परमाणु संपन्न देश के नेता और संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के स्थायी सदस्य हैं.

चीन के संविधान में आए हालिया बदलाव के बाद किम की ही तरह शी भी जीवन भर अपने देश का नेतृत्व करेंगे, इसलिए इन दोनों के आपसी संबंध मायने रखते हैं.

चीन ने किम की इस यात्रा के बाद अमरीका को इसकी सूचना दी, यह उत्तर पूर्वी एशिया में किम की सबसे आकर्षक व्यक्ति की स्थिति को बताता है.

उत्तर कोरियाई नेता परमाणु हथियारों को अपने देश की प्रतिष्ठा और सम्मान के रूप में देखते हैं, उनकी यह चीन यात्रा उसी को रेखांकित करती है.

'उत्तर कोरिया की जेल में मैंने शव गाड़े'

इमेज कॉपीरइट AFP

लेकिन किम की इस यात्रा की समीक्षा में हम अंतरराष्ट्रीय हालात को अलग नहीं कर सकते, जो बहुत स्वाभाविक है.

नए साल के संबोधन में किम ने अपने परमाणु और बैलिस्टिक मिसाइल कार्यक्रमों के संपन्न होने की घोषणा की थी. किम ने दक्षिण कोरिया के साथ आने की पहल को भी स्वीकार किया. यह प्रक्रिया अब भी चल रही है.

गुरुवार को दोनों कोरियाई देशों के दूत एक एजेंडे पर सहमति को लेकर फिर मिलेंगे ताकि अप्रैल के अंत में दोनों देशों के बीच बातचीत हो सके. किम जोंग-उन दक्षिण कोरियाई राष्ट्रपति मून जे-इन से अप्रैल में मिलने वाले हैं.

अमरीका-उत्तर कोरिया के बीच होने वाली बैठक सही रास्ते पर है. दक्षिण कोरियाई दूतावास ने अमरीकी राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रंप को किम जोंग उन का निमंत्रण सौंपा है. इसमें कोरियाई प्रायद्वीप में परमाणु निरशस्त्रीकरण के लिए मिल कर वार्ता करने का प्रस्ताव है.

इन सब के बीच चीन स्पष्ट तौर पर अनुपस्थित रहा है.

जब उत्तर कोरिया ने अमरीका को घुटने टिका दिए

इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption चीनी पुलिसकर्मी किसी ख़ास काफिले के लिए सड़क को ब्लॉक किए हुए, माना जा रहा है कि यह उत्तर कोरियाई अधिकारियों के लिए किया गया था

चीन, उत्तर कोरिया की परस्पर निर्भरता

एक क्षेत्रीय शक्ति और उत्तर कोरिया के एकमात्र सहयोगी और प्रमुख व्यापार ताक़त के रूप में चीन उत्तर कोरिया में एक अहम राजनीतिक प्रभाव रखता है. यह रिश्ता इस तरह का है कि एक बार माओत्से तुंग ने इसे 'दांत और होठ' जितने क़रीब बताया था. यह दोनों की निकटता और परस्पर निर्भरता को दर्शाता है.

2013 से अधिकतर विश्लेषकों ने दोनों देशों के बीच परस्पर अलगाव के संकेत देखे हैं. किम जोंग उन ने कभी द्विपक्षीय संबंधों के प्रबंधन के विशेषज्ञ के रूप में देखे जाने वाले अपने मामा जांग सांग थाक को मरवा दिया था.

बहन से मिली रिपोर्ट के बाद क्यों खुश हैं किम जोंग?

प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा
अमरीका से जारी विवाद के बीच किम जॉन्ग ने चेतावनी दी है कि परमाणु बम उनकी अंगुली तले है.

चीन के कुछ ख़ास आयोजनों के दौरान 2016 और 2017 में भी उत्तर कोरिया ने बैलिस्टिक मिसाइलों के परीक्षण किए. यह परीक्षण तब किया गया जब चीन में 2016 के जी20 शिखर सम्मेलन का आयोजन किया जा रहा था और 2017 में ब्रिक्स सम्मेलन का उद्घाटन हुआ था.

इस बीच 2017 में, चीन ने संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में उत्तर कोरिया पर कठोर प्रतिबंधों के नए दौरों के लिए मतदान किया.

किम जोंग उन इस ट्रेन से ही क्यों सफ़र करते हैं?

इमेज कॉपीरइट AFP

आगे है मून जे इन और ट्रंप से मुलाक़ात

उत्तर कोरिया ने इन प्रतिबंधों को अनुचित मानते हुए तीखी प्रतिक्रिया व्यक्त की.

हालांकि इन दोनों पुराने साझेदारों के बीच कटुता वो पर्याप्त वजह नहीं बन सकी कि किम जोंग उन डोनल्ड ट्रंप और मून जे इन से पहले मिलते.

इसके बजाय, किम अपने पिता और दादा की तरह विदेश में अपना पहला गंतव्य बीजिंग को बनाया.

प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा
'नज़दीक' आते उत्तर और दक्षिण कोरिया

अब उत्तर पूर्वी एशिया में अगले महीने पिटारा खुलेगा. किम को दक्षिण कोरिया और चीन के अधिकारियों दोनों ने परमाणु निरशस्त्रीकरण के लिए बातचीत को तैयार बताया है. लेकिन हमेशा की तरह इसके मायने अमरीका की तुलना में उत्तर कोरिया के लिए अलग है.

उत्तर कोरिया-दक्षिण कोरिया शिखर वार्ता की तैयारियां शुरू हो चुकी हैं. हालांकि दक्षिण कोरिया के मून फ़रवरी और मार्च तक संचालक की भूमिका में थे, वो समय अब क़रीब आ गया है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए