जेल से भागने के लिए लगाई आग, पुलिस स्टेशन हुआ स्वाहा

  • 29 मार्च 2018
वेनेज़ुएला की जेल में आग इमेज कॉपीरइट REUTERS/Carlos Garcia Rawlins

वेनेज़ुएला में सरकारी अधिकारियों का कहना है कि काराबोबो राज्य के वेलेन्सिया में एक पुलिस स्टेशन में आग लगने से 68 लोगों की मौत हो गई है.

बताया जा रहा है कि पुलिस स्टेशन के कुछ क़ैदी जेल से भागने की योजना बना रहे थे और इस कोशिश में उन्होंने कुछ गद्दों में आग लगा दी थी.

सरकार के आला अधिकारी जीसस सैनटैन्डियर का कहना है कि स्थिति पर काबू पा लिया गया है. उन्होंने कहा कि इस हादसे के बाद राज्य में शोक मनाया जा रहा है.

राज्य के मुख्य अभियोक्ता तारिक साब का कहना है कि उन्होंने तुरंत इस घटना की जांच के आदेश दिए हैं.

वेनेज़ुएला को कंगाली से बचाने के लिए 'पेट्रो'

वेनेज़ुएला संकट में क्या कर सकती है मोदी सरकार

इमेज कॉपीरइट REUTERS/Carlos Garcia Rawlins

जेल में आज कैसे लगी?

जेल में आग कैसे लगी इस संबंध में अब तक आधिकारिक तौर पर जानकारी नहीं दी गई है. हालांकि जेल की स्थिति पर नज़र रखने वाली संस्था 'उना नेंटाना अ ले लिबर्टार्ड' ने अपनी रिपोर्ट में कहा है कि एक क़ैदी ने एक पुलिस अधिकारी के पैर पर गोली चलाई थी.

इसके कुछ देर बाद जेल के भीतर मौजूद गद्दों में आग लगाई गई. आग तेज़ी से फैली और जल्दी ही उसने पूरे पुलिस स्टेशन को अपनी चपेट में ले लिया.

जहां कई लोगों की मौत आग में जल जाने से हुई, कई अन्य लोगों की मौत का वजह धुंए के कारण सांस न ले पाना है.

वायलिन है इस शख़्स का हथियार

यह है दुनिया का सबसे हिंसक शहर

इमेज कॉपीरइट REUTERS/Carlos Garcia Rawlins

जीसस सैनटैन्डियर ने एक पुलिस अधिकारी को गोली लगने की पुष्टि की है. बचाव दल के कर्मचरियों ने जेल की दीवारें तोड़ कर वहां फंसे लोगों को बाहर निकाला.

तारिक साब का कहना है कि मारे जाने वाले अधिकतर लोग क़ैदी थे. मृतकों में दो महिलाएं भी शामिल हैं जो उस वक्त अपने रिश्तेदार से मिलने जेल पहुंची थीं.

वेनेज़ुएला: सशस्त्र विद्रोहियों की तलाश जारी

वेनेज़ुएला के सुप्रीम कोर्ट पर हेलिकॉप्टर से 'हमला'

इमेज कॉपीरइट REUTERS/Carlos Garcia Rawlins

जेलों की दयनीय स्थिति

आग लगने की ख़बर फैलने के बाद जेल में बंद लोगों के परिजनों ने पुलिस स्टेशन के सामने प्रदर्शन किया. वो अपने परिजनों के बारे जानकारी मांग रहे थे. पुलिस को उन्हें तितर-बितर करने के लिए आंसू गैस का इस्तेमाल करना पड़ा.

आइदा पेर्रा का कहना है कि एक दिन पहले ही अपने बेटे से मिली थीं. उन्होंने समाचार एजेंसी एपी को बताया, "मुझे नहीं पता कि मेरा बेटा जीवित भी है या नहीं. वो लोग मुझे कुछ नहीं बता रहे."

वेनेज़ुएला: प्रदर्शनकारियों ने एक व्यक्ति को जलाया

पेट्रोल के दाम 60 गुना बढ़े, 28 मरे

इमेज कॉपीरइट EPA

डोरा ब्लांको ने स्थानीय मीडिया को बताया, "मैं एक असहाय मां हूं, मेरा बेटा एक सप्ताह से वहां जेल के भीतर है. उन्होंने मुझे अब तक कुछ नहीं बताया है."

वेनेज़ुएला में हिंसा और दंगे आम हैं जिस कारण वहां के जेलों में क्षमता से कहीं अधिक लोग हैं. देश में जारी आर्थिक संकट के कारण जेल में कैदियों की स्थिति सुधारने के लिए भी कुछ काम नहीं हो पा रहा है और इस कारण वेलेन्सिया में अस्थायी जेल का इस्तेमाल किया जा रहा था. यहां पुलिस लोगों को 48 घंटों तक ही रख सकती है.

'उना वेंटाना अ ले लिबर्टार्ड' के प्रमुख कार्लोस नीटो कहते हैं जेलों में क्षमता से पांच गुना अधिक क़ैदी रखे गए थे. संस्था का कहना है कि बीते साल इस अस्थायी जेलों में हिंसा, बीमारी और कुपोषण के कारण 65 लोगों की मौत हुई है.

वेनेज़ुएला में नोटबंदी का फ़ैसला टला

'वेनेज़ुएला एक बम बन गया है'

इमेज कॉपीरइट REUTERS/Carlos Garcia Rawlins

वेनेज़ुएला में अब तक हुई सबसे बुरी जेल दुर्घटनाएं

अगस्त 2017 - देश के दक्षिण में एक जेल में हुए दंगों में 37 लोगों की मौत हो गई थी. इस हिंसा में 14 अधिकारी घायल हुए थे. जिस वक्त ये हिंसा हुई उस वक्त जेल में कुल 105 क़ैदी थे.

मार्च 2017 - देश के केंद्र में मौजूद गुआरिको राज्य में देश की सबसे बड़ी जेल में सामूहिक कब्र पाई गई थी जिससे कुल 14 शव मिले थे. कुछ महीनों पहले जेल में हिंसा हुई थी जिसके बाद इसे बंद कर दिया गया था.

जेल की मरम्मत के काम के दौरान इस सामूहिक कब्र का पता चला था.

इमेज कॉपीरइट AFP

सितंबर 2015 - वेनेज़ुएला के वेलेन्सिया शहर के टोकूयीटो जेल में आग लगने से 17 लोगों की मौत हो गई थी जबकि 11 लोग घायल हो गए थे. जेल के क़ैदियों का कहना था कि बिजली के तार में ख़राबी के कारण आग लगी थी.

जनवरी 2013 - बार्किशीमेटो शहर की अर्बनिया जेल में हुई हिंसा के कारण 61 लोगों जो जान गंवानी पड़ी थी. इस हादसे में 120 से अधिक लोग घायल हुए थे.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉयड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

मिलते-जुलते मुद्दे