यूट्यूब हेडक्वॉर्टर में गोलीबारी की संदिग्ध नसीम अग़दाम के बारे में कितना जानते हैं आप

  • 4 अप्रैल 2018
नसीम अग़दाम इमेज कॉपीरइट NASIM AGHDAM
Image caption नसीम अग़दाम ने अपनी निजी वेबसाइट पर आरोप लगाया है कि यूट्यूब पर उसके वीडियो दिखाए जाने से रोक रहा था

यूट्यूब के हेडक्वॉर्टर में हुई गोलीबारी में तीन लोगों के घायल होने का मामला तूल पकड़ सकता है. इसकी वजह भी है. और वो है हमलावर की पहचान.

39 साल की नसीम अग़दाम की पैदाइश ईरान की है. एक और बात है जिसका जिक्र किया जा रहा है.

अमरीका में साल 2000 से 2013 के दरमियां हुई गोलीबारी की 160 घटनाओं में से ज़्यादातर के लिए पुरुष जिम्मेदार थे और इस लिस्ट में केवल छह महिलाएं हैं.

नसीम अग़दाम अमरीका के कैलिफ़ोर्निया के सैन ब्रूनो स्थित यू-ट्यूब के मुख्यालय में दोपहर के वक़्त दाखिल हुईं.

उनके हाथों में बंदूक़ थी और तीन लोग उनकी गोली से घायल हुए. घायलों में दो महिला और एक पुरुष है. इसके बाद नसीम ने खुदकुशी कर ली.

जैसा कि पुलिस ने बताया, "जब सुरक्षा कर्मी इमारत में दाखिल हुए तो उन्होंने देखा कि एक महिला गोली लगने से मर गई थी और हमारा मानना है कि उन्होंने खुद को गोली मारी थी."

इमेज कॉपीरइट EPA
Image caption इस गोलीबारी में केवल नसीम अदग़ाम की मौत हुई है

जो बातें अब तक पता है...

इसके कुछ देर बाद ही सरकारी अधिकारियों ने हमलावर की पहचान सार्वजनिक की. नसीम कैलिफ़ोर्निया की रहने वाली थीं.

पुलिस का कहना है कि अभी तक ऐसे कोई सबूत भी सामने नहीं आए हैं जिससे ये कहा जा सके कि नसीम के टारगेट पर कोई ख़ास शख़्स था.

हालांकि कुछ मीडिया आउटलेट्स ने इस ओर इशारा ज़रूर किया है. कुछ रिपोर्टों में ये कहा गया है कि ईरानी मूल की नसीम का घायल व्यक्ति के साथ कोई प्रेम संबंध था.

अभी तक नसीम और उनके मक़सद के बारे में बहुत कम बातें ही सामने आ पाई हैं.

इतना ही कहा जा रहा है कि वे पशु अधिकार कार्यकर्ता, शाकाहार समर्थक और एक खिलाड़ी थीं और उन्होंने जो किया, उसकी वजह ये थी कि वो यूट्यूब से नाराज़ थीं.

ऐसी भी रिपोर्टें हैं कि नसीम की पैदाइश ईरान की थी और उनकी परवरिश तुर्की में हुई थी और वे बीते दो दशकों से अमरीका में वैध तरीके से रह रही थीं.

नसीम ने यूट्यूब पर आरोप लगाया था कि कंपनी पब्लिश किए जाने वाले कॉन्टेंट की सेंसरशिप कर रही थी और नसीम के मुताबिक़ ये कंपनी का तानाशाही रवैया था.

इमेज कॉपीरइट nasimesabz.com
Image caption नसीम अग़दाम ने यूट्यूब की ब्रॉडकास्ट पॉलिसी के आर्थिक असर को लेकर शिकायत की थी

यूट्यूब से शिकायत

नसीम ने अपनी निजी वेबसाइट पर शिकायतें रखी थीं, "दुनिया में अपनी बात रखने को लेकर कोई सच्ची आज़ादी नहीं है. हर सच्चाई को सेंसरशिप से गुजरना पड़ता है और हमारा सिस्टम हमारी मदद नहीं करता है."

यूट्यूब पर नसीम अग़दाम का अंग्रेज़ी, फारसी और तुर्की भाषा में चैनल थे. लेकिन नसीम की ये शिकायत थी कि यूट्यूब उनके चैनल की लोगों तक पहुंच रोकने के लिए फिल्टर लगा रहा है और इससे उन्हें माली नुक़सान हो रहा था.

नसीम ने अपनी वेबसाइट पर लिखा था, यूट्यूब या किसी दूसरे प्लेटफॉर्म पर तरक्की करने के लिए बराबरी के मौके जैसी कोई चीज़ नहीं है. आपका चैनल तभी आगे बढ़ेगा जब लोग चाहेंगे.

कुछ अमरीकी मीडिया आउटलेट्स में नसीम के पिता के हवाले से ये भी कहा जा रहा है कि यूट्यूब ने उन्हें पैसा देना बंद कर दिया था और इस वजह से उनकी बेटी कंपनी से नाराज़ थीं.

इन्हीं रिपोर्टों में ये भी कहा गया है कि नसीम के पिता ने उनकी गुमशुदगी की रिपोर्ट भी दर्ज कराई थी और ये भी चेतावनी दी थी कि वो यूट्यूब के हेडक्वॉर्टर की तरफ़ जा सकती हैं क्योंकि वे उस कंपनी से नफ़रत करती थीं.

इमेज कॉपीरइट nasimesabz.com
Image caption नसीम अग़दाम खुद को एक आर्टिस्ट और एक्टिविस्ट बताती हैं

सोशल मीडिया पर नसीम की मौजूदगी

इस गोलीबारी की घटना के बाद फिलहाल यूट्यूब ने नसीम अग़दाम का यूट्यूब एकाउंट सस्पेंड कर दिया है. उनका फ़ेसबुक और इंस्टाग्राम एकाउंट भी बंद है.

कुछ रिपोर्टों के मुताबिक़ एकाउंट बंद किए जाने से पहले नसीम को यूट्यूब पर 5000, इंस्टाग्राम पर 16,000 और फ़ेसबुक पर 1600 लोग फ़ॉलो करते थे.

नसीम के पड़ोसियों ने भी सैन ब्रूनो की घटना पर हैरत जताया है.

उनके एक पड़ोसी जॉन रंडेल ने बीबीसी से कहा, "बुरा हुआ, बहुत बुरा हुआ, मुझे लगता है कि हम कभी इस बारे में पक्के तौर पर नहीं कह सकते कि आपके पड़ोस में कौन रह रहा है. नसीम के परिवार वाले अच्छे लोग थे."

इमेज कॉपीरइट SAN BRUNO POLICE DEPARTMENT/EPA

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार