उत्तर कोरियाई मिसाइल की पहुंच ब्रिटेन के तटों तक

  • 6 अप्रैल 2018
इमेज कॉपीरइट EUROPEAN PHOTOPRESS AGENCY

ब्रिटिश सांसदों का कहना है कि उत्तर कोरिया की बैलिस्टिक मिसाइल 6 से 18 महीनों के भीतर ब्रिटेन के तटों तक पहुंच सकती है.

हाउस ऑफ़ कॉमन की डिफेंस सेलेक्ट कमेटी की रिपोर्ट में ये भी बताया गया है कि अभी तक ऐसा कोई सबूत नहीं है कि उत्तर कोरिया इन मिसाइलों के साथ परमाणु हथियार भी भेज सकता है.

उत्तर कोरिया से ख़तरे की आशंकाओं को लेकर जांच कर रहे सांसदों का कहना है कि ऐसा कोई हमला होने की गुजांइश बहुत कम है.

उनका कहना है कि उत्तर कोरिया के शासक किम जोंग-उन भले ही क्रूर हैं लेकिन अक्लमंद भी हैं.

रिपोर्ट में लिखा है-'वह अपने से पहले के कम्युनिस्ट नेताओं की तरह ही निर्मम हैं लेकिन अक्लमंद हैं और उन्हें परमाणु हथियारों के इस्तेमाल से रोका जा सकता है."

उत्तर कोरिया अब तक 6 परमाणु परीक्षण कर चुका है और उसके पास बैलिस्टिक मिसाइल है जो जानकारों के मुताबिक पूरे अमरीका को अपने दायरे में ले सकती है. उत्तर कोरिया कहता है कि बैलिस्टिक मिसाइल के बाद उसने परमाणु देश बनने का अपना मिशन पूरा कर लिया है.

हालांकि पिछले महीने ही कई देशों के महीनों के विरोध और दबाव के बाद किम जोंग-उन ने कहा कि वे परमाणु हथियारों को हटाने के लिए प्रतिबद्ध हैं और एक अभूतपूर्व कदम लेते हुए अमरीका के राष्ट्रपति ट्रंप से बातचीत के लिए भी राज़ी हो गए.

इमेज कॉपीरइट Reuters
Image caption उत्तर कोरिया ने पिछले साल जुलाई में अपनी पहलीअन्तरमहाद्वीपीय बैलिस्टिक मिसाइल का परीक्षण किया

युद्ध में ब्रिटेन देगा अमरीका का साथ

इन सभी हालिया घटनाओं के बाद भी सांसदों की रिपोर्ट कहती है कि उत्तर कोरिया अपने परमाणु हथियारों को नहीं छोड़ेगा और जल्द ही अपने विरोधी देशों को परमाणु हथियारों से डराने की कोशिश करेगा.

सांसदों की कमेटी का कहना है कि ब्रिटेन पर परमाणु हमले की आशंका बेहद कम है क्योंकि उत्तर कोरिया का ध्यान अमरीका को धमकाने पर है.

रिपोर्ट के मुताबिक उत्तर कोरिया ये अच्छी तरह जानता है कि परमाणु हथियारों के इस्तेमाल से उसे विनाशकारी परिणाम झेलने होंगे.

रिपोर्ट में ये भी कहा गया है कि अगर क्षेत्र में ऐसा कोई सैन्य संघर्ष होता है तो ब्रिटेन चुपचाप नहीं देखेगा और अमरीका की मदद करेगा.

सांसदों की रिपोर्ट में चेतावनी दी गई है कि उत्तर कोरिया ब्रिटेन पर साइबर हमला करवा सकता है.

ये अनुमान है कि पिछले साल मई में 'वानाक्राई' साइबर हमले के पीछे उत्तर कोरिया का हाथ था जिसने एनएचएस अस्पताल और दुनिया के कई बैंकों और बड़े बिज़नेस संस्थानों को प्रभावित किया था जिससे अरबों डॉलर को नुकसान हुआ.

संयुक्त राष्ट्र प्रतिबंधों के बावजूद उत्तर कोरिया पहुँचता रहा लग्ज़री सामान

उत्तर कोरिया और अमरीका के तनाव में किनकी हुई चांदी

कमेटी के अध्यक्ष जुलियान लुईस ने कहा कि उत्तर कोरिया से ख़तरा तेज़ी से बढ़ रहा है और इसलिए ब्रिटेन को अपनी सुरक्षा पर ज़्यादा खर्च करने की ज़रूरत है.

उन्होंने बीबीसी से कहा कि वे चाहते हैं कि साइबर और परमाणु ख़तरों से निबटने के लिए ब्रिटेन की सुरक्षा पर जीडीपी का 3 फीसदी ख़र्च हो जो फ़िलहाल 2 फीसदी है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉयड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए