मुसलमान होने के कारण सलमान को सज़ा: पाक विदेश मंत्री

  • 6 अप्रैल 2018
सलमान ख़ान इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption सलमान ख़ान की ज़मानत पर शुक्रवार को सुनवाई होगी

काले हिरण शिकार मामले में जोधपुर (राजस्थान) की अदालत ने फ़िल्म अभिनेता सलमान ख़ान को पांच साल की सज़ा सुनाई है. अदालत के इस फ़ैसले पर कहीं ख़ुशियां मनाई जा रही हैं तो कहीं अफ़सोस जताया जा रहा है.

राजस्थान के बिश्नोई समाज ने सलमान को सज़ा का जश्न मनाया, तो सलमान के फ़ैन्स में काफ़ी निराशा देखी गई.

लेकिन इस मामले में पाकिस्तानी विदेश मंत्री ख़्वाजा मोहम्मद आसिफ़ ने अपने बयान से विवाद पैदा कर दिया है.

पाकिस्तानी समाचार चैनल जिओ न्यूज़ को दिए इंटरव्यू में उन्होंने कहा है कि सलमान ख़ान अल्पसंख्यक समुदाय से संबंध रखते हैं इसलिए उन्हें यह सज़ा सुनाई गई है.

काले हिरण के शिकार मामले में सलमान ख़ान को पांच साल जेल

काले हिरण में ऐसा क्या है कि सलमान की जान फंसी है?

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption पाकिस्तानी विदेश मंत्री ख़्वाजा आसिफ़

उन्होंने कहा कि अगर उनका धर्म भारत की सत्तारुढ़ पार्टी वाला होता तो शायद उनको यह सज़ा नहीं मिलती और उनके साथ उदार रुख़ अपनाया जाता.

सलमान ख़ान को 1998 के काले हिरण शिकार मामले में 20 साल के बाद सज़ा सुनाई गई है. बिश्नोई समाज ने सलमान ख़ान को सज़ा सुनाए जाने पर ख़ुशी तो जताई है, लेकिन इस मामले में अभिनेता सैफ़ अली ख़ान, तब्बू, नीलम और सोनाली बेंद्रे को रिहा करने पर नाराज़गी जताई है.

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption फ़िल्म इंडस्ट्री में इस फ़ैसले से हलचल है

वहीं, इस फ़ैसले से बॉलीवुड में निराशा है. फ़िल्म अभिनेत्री और राज्यसभा सांसद जया बच्चन ने कहा कि उन्हें इस फ़ैसले से बुरा लग रहा है.

उन्होंने कहा, "मैं इतना कह सकती हूं कि मुझे तो बुरा लग रहा है क्योंकि फ़िल्म इंडस्ट्री ने इतना सारा इन्वेस्ट किया है और उनको नुकसान होगा. 20 साल बाद उन्हें ऐसा लग रहा है कि वो दोषी हैं. मगर क़ानून है, इस पर क्या कहा जा सकता है."

उन्होंने आगे पत्रकारों के सवाल के जवाब में कहा कि उनके आचरण को देखते हुए उन्हें राहत मिलनी चाहिए.

वे बिश्नोई लोग जिन्होंने सलमान ख़ान को घुटनों पर ला दिया

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

मिलते-जुलते मुद्दे