अमरीका सीरिया में 'बड़ी सैन्य कार्रवाई' कर सकता है!

डोनल्ड ट्रंप इमेज कॉपीरइट Mark Wilson/Getty Images

अमरीकी राष्ट्रपति डोनल्ड ने सीरिया में हाल में हुए संदिग्ध रासायनिक (केमिकल) हमले के बाद इस मुद्दे पर ध्यान केंद्रित करने के लिए लातिन अमरीका के अपने आधिकारिक दौरे को रद्द कर दिया है.

व्हाइट हाउस ने कहा है कि, "राष्ट्रपति वॉशिंगटन में ही रहेंगे और सीरिया मामले में अमरीका की प्रतिक्रिया पर नज़र रखेंगे."

इस बीच रासायनिक हथियारों के इस्तेमाल पर नज़र रखने वाले अंतरराष्ट्रीय संगठन ने कहा है कि उन्होंने अपने जांच दल को सीरिया के डूमा शहर के लिए रवाना किया है. मेडिकल सूत्रों का कहना है कि डूमा में हुए केमिकल हमले में दर्जनों लोग मारे गए हैं, लेकिन मृतकों की सही संख्या के बारे का आकलन करना फिलहाल मुश्किल है.

ऑर्गेनाइज़ेशन ऑफ़ प्रोहिबिशन ऑफ़ केमिकल विपन्स (ओपीसीडबल्यू) ने कहा है कि उनकी टीम जल्द ही सीरिया पहुंच जाएगी.

इससे पहले सीरिया और विद्रोहियों के ख़िलाफ़ युद्ध में उसका समर्थन करने वाले रूस ने कहा था कि वो जांच दल के सदस्यों के दौरे में मदद करने के लिए तैयार हैं. सीरिया इस हमले के पीछे होने के आरोपों से इनकार करता रहा है.

BBC SPECIAL: कभी ख़त्म होगी सीरिया की जंग?

सीरिया संघर्षः सुरक्षा परिषद में संघर्ष विराम पर सहमति

प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा
सीरिया में केमिकल हमले का संदेह

इन सब हलचल के बीच पेरू में होने वाले 'समिट ऑफ़ द अमेरिकाज़' के लिए डोनल्ड ट्रंप की जगह अब उप राष्ट्रपति माइक पेंस लातिन अमरीका के दौरे पर जाएंगे.

मंगलवार को देर शाम संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में सीरिया मामले में रूस और अमरीका के प्रस्तावों पर मतदान होने वाला है. अमरीका चाहता है कि एक अलग पैनल गठित किया जाए जो सीरिया में हुए केमिकल हमले की जांच कर दोषियों की पहचान करे. वहीं रूस इस प्रस्ताव को वीटो कर सकता है.

क्या अमरीकासैन्य कार्रवाई कर सकता है?

डोनल्ड ट्रंप ने कहा है कि वो इस हमले का जवाब "अपनी पूरी ताकत से" देंगे और उन्होंने सेना के इस्तेमाल से इनकार भी नहीं किया है.

बीते साल सीरिया में विद्रोहियों के कब्ज़े वाले इदलिब शहर में हुए संदिग्ध रासायनिक हमले में कम से कम 58 लोगों की मौत हो गई थी और दर्जनों लोग ज़ख़्मी हुए थे.

इसके बाद अमरीका के 50 टॉमहॉक क्रूज़ मिसाइलों ने सीरिया के एयरबेसों को निशाना बनाया था. सीरियाई राष्ट्रपति बशर-अल-असद की सेना के ख़िलाफ़ ये अमरीका पर पहला सीधा हमला था.

सीरिया में रासायनिक हमला, 58 की मौत

अमरीका ने सीरिया पर किए हवाई हमले

इमेज कॉपीरइट HASAN MOHAMED/AFP/Getty Images

बीते सप्ताह शनिवार को हुए हमले के बाद अमरीका, फ्रांस और ब्रिटेन के साथ इस मामले में चर्चा कर रहा है और साथ में सैन्य कार्यवाई की संभावना तलाश रहा है. मंगलवार को इस मुद्दे पर ट्रंप ने ब्रितानी प्रधानमंत्री टेरीज़ा मे और फ्रांसीसी राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों से फ़ोन पर बात की.

वॉ़शिंगटन में मौजूद बीबीसी कि बारबारा उशर प्लैट कहती हैं कि ट्रंप का लातिन अमरीका दौरा रद्द करने का फ़ैसला ये बताता है कि अमरीका का जवाब सीमित हमले की बजाय बड़ी सैन्य कार्रवाई हो सकता है.

इमेज कॉपीरइट HASAN MOHAMED/AFP/Getty Images

मंगलवार को फ्रांसीसी सरकार के प्रवक्ता बेन्यामिन ग्रीवॉक्स के हवाले से समाचार एजेंसी एएफ़पी ने कहा, "अगर ख़तरे की लकीर को लांघा गया है तो जवाब दिया जाएगा. दोनों देशों के बीच ख़ुफ़िया जानकारी साझा की गई है जिसमें रायासनिक हथियारों के इस्तेमाल की पुष्टि हुई है."

हालांकि इस संदिग्ध हमले की पुष्टि के संबंध में अमरीका और फ्रांस ने अब तक कोई सबूत पेश नहीं किए हैं.

जिस इलाके में केमिकल हमला हुआ है वो पूरी तरह से कटा हुआ है और वहां आने-जाने की सुविधा नहीं है. ऐसे में मृतकों या घायलों की संख्या का सही अंदाज़ा लगाना मुश्किल है.

'केमिकल अटैक के दोषियों को सबक सिखाएंगे'

इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption संयुक्त राष्ट्र में रूस और अमरीका के प्रतिनिधि

रूस का कहना है कि उसे डूमा में क्लोरीन या अन्य किसी रसायन के इस्तेमाल के संकेत नहीं मिले हैं.

रूस ने संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में चेतावनी दी है कि अगर अमरीका सैन्य कार्यवाई करता है तो उसे इसके "गंभीर परिणाम" भुगतने होंगे.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे