सीलोन चाय की कहानी तस्वीरों में

  • 12 अप्रैल 2018
श्री लंका, चाय बगीचे, श्री लंका की चाय इमेज कॉपीरइट SCHMOO THEUNE

श्रीलंका में रहने वाले लगभग पांच फीसदी लोग चाय के व्यवसाय में लगे हुए हैं यानी पहाड़ों के बीच फैले चाय के बगीचों से चाय की पत्तियां तोड़ने से ले कर फैक्ट्रियों में इसे प्रोसेस करने के काम में लगे हुए हैं.

श्रीलंका में चाय का व्यवसाय करोड़ों डॉलर का उद्योग है. साल 1867 से ही यहां काली चाय की खेती और उत्पादन होता है और ये काम यहां के कई लोगों के जीवन का अहम हिस्सा बन चुका है.

श्री लंका, चाय बगीचे, श्री लंका की चाय इमेज कॉपीरइट SCHMOO THEUNE

यहां चाय के बागान ऊंचे पहाड़ों में मौजूद हैं जिनके नीचे इनमें काम करने वाले मज़दूरों के घर हैं. बैरकों की तर्ज पर बने ये घर अधिकतर चाय बागान मालिक मज़दूरों के लिए बनवाते हैं.

हर सात या चौदह दिनों के अंतर पर चाय की नई कोमल पत्तियों को बड़ा और मोटा होने से पहले हाथों से तोड़ा जाना होता है. इसका मतलब है कि मज़दूर की काम करने की जगह इस बात कर निर्भर करती है कि कहां के पौधे की कलियां तोड़ी जानी हैं.

चाय की पत्तियां जमा करने के लिए तारपोलीन की बड़ी थैलियों का इस्तेमाल होता है क्योंकि ये पारंपरिक बांस की टोकरियों के मुकाबले कहीं अधिक हल्की होती हैं.

श्री लंका, चाय बगीचे, श्री लंका की चाय इमेज कॉपीरइट SCHMOO THEUNE

दिनभर जमा की गई पत्तियों को तौला जाता है जिसके आधार पर मज़दूरों को पैसे मिलते हैं. अगर एक दिन में 18 किलो पत्तियां तोड़ी गई हैं तो मज़दूर को इसके लिए 600 श्रीलंकाई रुपये (यानी लगभग 3.80 अमरीकी डॉलर) मिलते हैं.

अगर इतने पत्ते नहीं इकट्ठा कर पाए तो मज़दूर को 300 श्रीलंकाई रुपये (यानी लगभग 1.90 अमरीकी डॉलर) से ही संतोष करना होता है.

चाय के कुछ बागानों में मज़दूरों को महीने की तनख्वाह दी जाती है और साथ में छोटी अवधि के लिए लोन की सुविधा भी दी जाती है.

श्रीलंका के चाय बागानों में काम करने वाले अधिकतर लोग भारतीय तमिल हैं जिन्हें ब्रितानी हुकूमत वहां काम करने के लिए ले कर गई थी.

ये लोग जाफना के तमिलों से अलग हैं जो श्रीलंका के उत्तरी हिस्से से ताल्लुक रखते हैं.

श्री लंका, चाय बगीचे, श्री लंका की चाय इमेज कॉपीरइट SCHMOO THEUNE

मज़दूरों के घरों से बगीचे तक कच्ची सड़क नज़र आती है.

बगीचे में चाय के पौधे पहाड़ी की ढलान की तरफ लगाए जाते हैं और दो पौधों के बीच एक मीटर तक की दूरी होती है.

चाय की पत्ती के स्वाद का इस बात से सीधा नाता होता है कि वो कितनी ऊंचाई पर उगाई गई है, यानी जितनी अधिक ऊंचाई पर बगीचा है वहां की चाय का स्वाद उतना ही उम्दा होगा.

अधिक ऊंचाई पर उगाई गई चाय का मूल्य पहाड़ में निचले हिस्सों में उगाई जाने वाली चाय के मुकाबले अधिक होता है.

श्री लंका, चाय बगीचे, श्री लंका की चाय इमेज कॉपीरइट SCHMOO THEUNE

चाय तोड़ने की कला में माहिर लोगों के हाथों में कटने के निशान आम तौर पर देखने को मिलते हैं. ये काम मेहनत वाला है और अब इस काम में चाय की पत्ती तोड़ने वाले युवा मज़दूर कम ही दिखाई देते हैं.

यहां तक कि कई लड़कियां अब चाय की पत्ती तोड़ने की बजाय कपड़ों की फैक्ट्रियों में या विदेशों में घरेलू काम करना पसंद कर रही हैं.

चाय की पत्ती तोड़ने के इस बिज़नेस में मालिक से ले कर मज़दूर तक चार लेवल होते हैं.

श्री लंका, चाय बगीचे, श्री लंका की चाय इमेज कॉपीरइट SCHMOO THEUNE

मज़दूरों के रहने वाले कुछ घर काफी पुराने हैं और ब्रिटिश शासकों के बनाए हुए हैं. 1920 क दशक के आसपास यहां चाय बागानों में काम करने वालों के लिए ख़ास तौर पर 20,000 कमरे बनाए गए थे.

वक्त के साथ इन घरों में कम ही बदलाव आए हैं.

चाय बागान के नज़दीक रंगीन दीवारों वाले इन घरों में कई परिवार रहते हैं. इनमें से कई घरो में बिजली और पानी कुछ वक्त के लिए आता है.

नहाने और कपड़े धोने जैसे काम के लिए लोगों को नदियों और झरनों का रुख करना होता है.

श्री लंका, चाय बगीचे, श्री लंका की चाय इमेज कॉपीरइट SCHMOO THEUNE
श्री इमेज कॉपीरइट SCHMOO THEUNE
श्री लंका, चाय बगीचे, श्री लंका की चाय इमेज कॉपीरइट SCHMOO THEUNE

कुछ इलाके तो ऐसे हैं जहां तीन दिन में एक बार पानी आता है और यहां पानी पहले से भर के रखना मजबूरी है.

मज़दूरों को सवेरे 7.30 से अपना काम शुरू करना होता है. इन समुदायों में बच्चों को स्कूल तक पहुंचने के लिए कई किलोमीटर का रास्ता तय करना पड़ता है.

मज़दूरों की कमाई कम होती है और इस कारण यहां रहने वाले परिवारों के कुछ सदस्य मध्यपूर्व या फिर श्रीलंका के अन्य शहरों में काम कर के घर पैसे भेजते हैं.

श्री लंका, चाय बगीचे, श्री लंका की चाय इमेज कॉपीरइट SCHMOO THEUNE

चाय बागानों में काम करने वाली महिला मज़दूरों को पत्तियां तोड़ने के अलावा खाना बनाना, घर की सफाई और बच्चों का ख्याल रखने का काम भी करना होता है.

श्री लंका, चाय बगीचे, श्री लंका की चाय इमेज कॉपीरइट SCHMOO THEUNE
श्री लंका, चाय बगीचे, श्री लंका की चाय इमेज कॉपीरइट SCHMOO THEUNE

चाय की ताज़ा तोड़ी गई पत्तियों को चाय की फैक्ट्री तक प्रोसेसिंग के लिए पहुंचाया जाता है. ऊपर दी गई तस्वीर श्रीलंका के शहर कैन्डी में मौजूद एक चाय फैक्ट्री की है.

श्री लंका, चाय बगीचे, श्री लंका की चाय इमेज कॉपीरइट SCHMOO THEUNE

फैक्ट्री में चाय की पत्ती पहुंचने के बाद सबसे पहला काम होता है विदरिंग यानी पत्तों को गरम हवा से सुखाने की प्रक्रिया जिससे पत्तों में सही मात्रा में नमी को बरकरार रखा जा सके.

प्रोसेसिंग की पूरी प्रक्रिया से गुज़रने के बाद 18 किलो चाय की हरी पत्ती से 5 किलो तक सीलोन चाय बनती है.

इसके बाद इन पत्तियों को रोलिंग मशीन में डाला जाता है. ये मशीनें 100 साल तक पुरानी हो सकती हैं.

अब आख़िर में पत्तियों का आकार देख कर चाय को अलग अलग किया जाता है. इन्हें पैकेट में बंद कर श्रीलंका की राजधानी भेजा जाता है जहां बिक्री के लिए इनकी बोली लगती है.

श्री लंका, चाय बगीचे, श्री लंका की चाय इमेज कॉपीरइट SCHMOO THEUNE
श्री लंका, चाय बगीचे, श्री लंका की चाय इमेज कॉपीरइट SCHMOO THEUNE
श्री लंका, चाय बगीचे, श्री लंका की चाय इमेज कॉपीरइट SCHMOO THEUNE

सीलोन चाय का ना केवल निर्यात किया जाता है बल्कि ये श्रीलंका में काफी पसंद भी की जाती है. यहां के दैनिक जीवन में अब ये एक ज़रूरत सी बन गई है.

श्री लंका, चाय बगीचे, श्री लंका की चाय इमेज कॉपीरइट SCHMOO THEUNE

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं.आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

मिलते-जुलते मुद्दे